Sunday, November 17, 2019 04:18 PM

शांता के बयान पर घमासान

विवादित कसौली लिटफेस्ट के समर्थन पर बिफरा हिंदू जागरण मंच, पुतला फूंक जताया रोष

सोलन - कसौली लिटफेस्ट में साहित्यकारों की कथित विवादित टिप्पणियों को लेकर उपजा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। भाजपा नेता इस मामले को संवेदनशील मानते हुए इसकी शिकायत पीएमओ तक पहुंचा रहे हैं। उधर, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार द्वारा कसौली लिटफेस्ट के समर्थन में दिए गए बयान को लेकर हिंदू जागरण मंच बिफर गया है। मंगलवार शाम को हिंदू जागरण मंच ने सोलन में शांता कुमार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और अपना विरोध जताते हुए उनका पुतला भी फूंका। हिंदू जागरण मंच के प्रांत संगठन मंत्री विवेक मोदगिल ने कहा कि शांता कुमार स्वयं साहित्यकार हैं और ऐसे में इस तरह के साहित्य सम्मेलनों का समर्थन करना स्वभाविक है। उन्होंने कहा कि समाचार पत्रों में उनका बयान छपा है कि, जिसमें शांता कुमार ने प्रदेश में इस तरह के साहित्य सम्मेलनों का आयोजन किए जाने की वकालत की है। मोदगिल ने कहा कि साहित्य सम्मेलन होने चाहिए, लेकिन उसमें किस तरह की बात हो रही है व समाज को क्या संदेश दिया जा रहा है, यह चिंतनीय है। उन्होंने कहा कि शांता कुमार जब यह बयान दे रहे थे, तो उनके साथ भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती भी बैठे थे। संगठन मंत्री ने कहा कि साहित्य सम्मेलनों में संवाद सकारात्मक होना चाहिए, न कि नकारात्मक। इसके पश्चात हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने शांता कुमार का पुतला फूंका। मंगलवार शाम को मंच के कार्यकर्ताओं ने सोलन के मालरोड पर शांता कुमार के खिलाफ नारेबाजी की।

आर्टिकल-370 मॉब लिंचिंग पर गरमाया माहौल

कसौली लिटफेस्ट के दौरान आर्टिकल-370, मॉब लिंचिंग, पाकिस्तान के कलाकारों व साहित्यकारों को लिटफेस्ट में न बुलाने जैसे मुद्दों पर हुई विवादास्पद टिप्पणियों पर मामला गरमाया हुआ है। आर्टिकल-370 पर पैनल में शामिल राधा कुमार व तवलीन सिंह ने कुछ कथित टिप्पणियां की थी। उस दौरान भी हिंदू जागरण मंच ने कसौली क्लब के बाहर भी प्रदर्शन किया था। भाजपा नेता इस मामले को पीएमओ तक पहुंचाने की बात कर रहे हैं और इसको लेकर खुफिया एजेंसियां भी सक्रिया हो गई हैं। इस बीच यह मामला नमो ऐप पर भी डालने की तैयारी की जा रही है।