Thursday, November 14, 2019 03:07 PM

शिकारी मंदिर के कपाट बंद

ऊंची चोटियों पर बर्फबारी के चलते प्रशासन ने जारी किया नोटिस

गोहर - सर्दी के इस मौसम की पहली बर्फबारी को लेकर सराज प्रशासन ने जिला मंडी के सुप्रसिद्ध एवं धार्मिक स्थल माता शिकारी के कपाट बंद कर दिए है। शिकारी माता मंदिर, शैटाधार जैसे ऊंचाई वाले क्षेत्रों में अभी तक करीब चार इंच तक की बर्फबारी हुई है। लगता है अब प्रशासन 15 अप्रैल तक इस धार्मिक स्थल में लोगों के आने-जाने पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाएगा। सर्दी के मौसम में इसी ही दौरान भयानक ठंड व बर्फबारी से जंजैहली-माता शिकारी मंदिर सड़क अकसर जाम रहती है, जिसके चलते वाहनों के दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना बनी रहती है। गुरुवार को हुई बर्फबारी के चलते प्रशासन की ओर से एसडीएम थुनाग सुरेंद्र मोहन ने चेतावनी जारी करते हुए लोगों को बताया कि शिकारी माता की तरफ  कोई न जाए क्योंकि बर्फबारी होने के कारण शिकारी जाने वाले रास्ते बंद हो गए हैं और कोई भी इस पर जाने का जोखिम न ले। उन्होंने सार्वजनिक रूप से जारी किए गए नोटिस में यह भी स्पष्ट कर दिया है कि सर्दी के मौसम में माता शिकारी मंदिर व इसके आसपास के क्षेत्रों में बेहद हिमपात होता है। इस दौरान मंदिर में न ही तो कोई पुजारी मौजूद रहता है और न ही तो यहां ठहरने के लिए श्रद्धालुओं को कोई सराय व अन्य कोई बस्ती उपलब्ध है। उल्लेखनीय है कि बाहरी क्षेत्रों के युवाओं की टोलियां अकसर सर्दियों के मौसम में बर्फ से ढकी इन पहाडि़यों की ओर निकलती है। स्थानीय प्रशासन ने समय पर इश्तहारों व अन्य नोटिसों से सर्व साधारण को सूचित कर दिया है।