Sunday, September 22, 2019 07:23 AM

शिक्षा बोर्ड का कार्यालय मंडी से बदलने पर रोष

मंडीवासियों ने एडीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री जयराम को सौंपा ज्ञापन ,मामले में जल्दी कार्रवाई की लगाई गुहार

मंडी -प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड का क्षेत्रीय कार्यालय मंडी से धर्मशाला स्थानांतरण करने पर दलित, पिछड़ा, अल्पसंख्यक वर्ग के संयोजक एवं पूर्व जिला परिषद सदस्य चमन राही व खूबे राम चौहान, हिम्मत राम सहित मंडीवासियों ने रोष व्यक्त किया है। उन्होंने कार्यालय की बहाली को लेकर बुधवार को एडीसी आशुतोष गर्ग के माध्यम से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को ज्ञापन सौंपा है।  इस दौरान उन्होंने बताया कि हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड का क्षेत्रीय कार्यालय मंडी में पिछले पांच वर्षों से कार्यरत रहा है। इस कार्यालय के अंतर्गत जिला मंडी, कुल्लू, लाहुल-स्पीति, बिलासपुर के जनहित में स्कूल शिक्षा बोर्ड से संबंधित कार्यों को मंडी में ही निपटाया जाता था जैसे स्थल मूल्यांकन केंद्रों के अध्यापकों को पारिश्रमिक व यात्रा भत्ता बिलों का भुगतान, सभी प्रकार के विभागीय परीक्षा केंद्रों का समायोजन दसवीं व बारहवीं के प्रैक्टिकल के बिलों का भुगतान इन चारों जिलों के करीब 60,000 विद्यार्थियों को हर वर्ष बोर्ड की जानकारी व फार्म व अन्य दस्तावेज मंडी क्षेत्रीय कार्यालय में हमेशा उपलब्ध रहते थे। मंडी क्षेत्रीय कार्यालय में ही हजारों दूर-दराज के लोगों को बोर्ड से संबंधित सुविधाएं उपलब्ध हो जाती थी क्योंकि करीब पांच वर्ष पहले पूर्व सरकार द्वारा सहायक सचिव, अनुभाग अधिकारी, अधीक्षक, कनिष्ठ सहायक, कलर्क के साथ करीब एक दर्जन की तैनाती उक्त कार्यालय में हुई थी।  लेकिन वर्तमान समय में बोर्ड ने  मंडी स्थित क्षेत्रीय स्कूल शिक्षा बोर्ड का कार्यालय रातोंरात बदल कर धर्मशाला के लिए स्थानांतरण कर दिया गया है। जो कि यह फैसला सेंट्रल जोन मंडी के लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ है। उन्होंने सीएम से मांग की है कि इस कार्यालय की बहाली को मंडी में रखने के लिए शीघ्र उचित कार्रवाई अमल में लाई जाए।