Friday, August 14, 2020 02:04 PM

शिमला में दारू की होम डिलीवरी

शिमला-प्रदेश भर में कर्फ्यू के दौरान शराब के ठेके पिछले कई दिनों से बंद है मगर ऐसा नहीं कि लोगों को शराब नहीं मिल रही। पुलिस की चौकसी नाकों पर है मगर गलियों में ऐसे कारोबारी घूम रहे हैं  जो लोगों को शराब उपलब्ध करवा रहे हैं। अधिकांश लोग ऐसे हैं जो शराब के आदी हो चुके हैं। इन लोगों को तो शराब चाहिए फिर चाहे कैसे भी। ऐसे में अवैध रूप से शराब का कारोबार करने वालों से यह लोग संपर्क में हैं और कई जगह घरों में भी यह पहुंचाई जा रही है। पुलिस को इसकी कानोकान खबर ना हो इसका पूरा प्रबंध है। गलियों में घूम कर यह लोगों तक पहुंच रहे हैं और ग्रामीण क्षेत्रों में इनका पूरा अभियान चला हुआ है। इतना ही नहीं लोगों को इनसे महंगी शराब भी खरीदनी पड़ रही है जिसके दाम यह मनमर्जी से हासिल कर रहे हैं।  लोगों को अवैध रूप से देसी शराब के कुछ ब्रांड पहुंचाए जा रहे हैं। उधर शराब के ठेके पूरी तरह से बंद पड़े हैं। इनसे किसी भी तरह से शराब बेची नहीं जा रही। पुलिस ने इन ठेकों को खाली करवाया हुआ है जहां पर कर्मचारियों को भी नहीं रखा गया है। कई जगहों पर ऐसी ही स्थिति है मगर ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध कारोबारी बेखौफ कर्फ्यू के बीच शराब का अवैध धंधा चलाए हुए है। अभी क्योंकि पुलिस के सामने दूसरी बड़ी विपदा है जिसमें आम जनता को बचाने की जिम्मेदारी उनपर है लिहाजा इस तरह के अवैध कारोबार करने वाले पुलिस की निगाह से बच रहे हैं। हालांकि ऐसा नहीं कि इन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही बल्कि कई जगहों पर ऐसे लोगों को पकड़ा भी गया है मगर कोरोना जैसी महामारी के बीच अवैध शराब के विक्रेताओं ने अपना काम चला रखा है और शराब के शौकीनों तक पहुंच रहे हैं।