Monday, April 06, 2020 05:58 PM

शीतला सप्तमी: उत्तर भारत में होती है विशेष पूजा

शीतला सप्तमी श्रावण माह में कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि पर मनाई जाती है। वैसे तो शीतला सप्तमी या अष्टमी का व्रत केवल चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को होता है यानी होली के बाद जो भी सप्तमी या अष्टमी आती है, उस तिथि को, लेकिन कुछ पुराण ग्रंथों में चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़ और श्रावण में शीतला सप्तमी-अष्टमी व्रत रखने का विधान भी बताया गया है। शीतला सप्तमी पर कलश स्थापित कर उस पर शीतला की प्रतिमा का पूजन एवं पाठ वर्ष या उससे कम अवस्था की सात कुमारियों को भोजन कराया जाता है...

व्रत और पूजा-विधि

शीतला सप्तमी के दिन सफेद पत्थर से बनी माता शीतला की मूर्ति की पूजा की जाती है। उत्तर भारत में खासकर भगवती शीतला की पूजा विशेष रूप से की जाती है। इस दिन व्रती को प्रातःकाल उठकर शीतल जल से स्नान कर स्वच्छ होना चाहिए। फिर व्रत का संकल्प लेकर विधि-विधान से माता शीतला की पूजा करनी चाहिए। पहले दिन बने हुए यानी बासी भोजन का भोग लगाना चाहिए। साथ ही शीतला सप्तमी-अष्टमी व्रत की कथा भी सुननी चाहिए। रात में माता का जागरण भी किया जाना अच्छा माना जाता है।

कथा

एक कथा के अनुसार एक बार शीतला सप्तमी के दिन एक बुढि़या और उसकी दो बहुओं ने व्रत रखा। उस दिन सभी को बासी भोजन ग्रहण करना था। इसलिए पहले दिन ही भोजन पका लिया गया था। लेकिन दोनों बहुओं को कुछ समय पहले ही संतान की प्राप्ति हुई थी, कहीं बासी भोजन खाने से वे और उनकी संतान बीमार न हो जाए, इसलिए बासी भोजन ग्रहण न कर अपनी सास के साथ माता की पूजा-अर्चना के बाद पशुओं के लिए बनाए गए भोजन के साथ अपने लिए भी रोटी बना उनका चूरमा बनाकर खा लिया। जब सास ने बासी भोजन ग्रहण करने को कहा तो काम का बहाना बनाकर टाल गईं। उनके इस कार्य से माता कुपित हो गईं, जिस कारण उन दोनों के नवजात शिशु मृत मिले। जब सास को पूरी कहानी पता चली तो उसने दोनों को घर से निकाल दिया। दोनों अपने शिशु के शवों को लिए जा रही थीं कि एक बरगद के पेड़ के नीचे विश्राम के लिए ठहर गईं। वहीं पर ओरी और शीतला नामक दो बहनें भी थीं, जो अपने सिर में पड़ी जूंओं से बहुत परेशान थीं। दोनों बहुओं को उन पर दया आई और उनकी मदद की, सिर से जूंए कम हुई तो उन्हें कुछ चैन मिला और बहुओं को आशीष दिया कि तुम्हारी गोद हरी हो जाए। उन्होंने कहा कि हरी-भरी गोद ही लुट गई है। इस पर शीतला ने लताड़ लगाते हुए कहा कि पाप कर्म का दंड तो भुगतना ही पड़ेगा। बहुओं ने पहचान लिया कि ये तो साक्षात माता हैं तो चरणों में पड़ गईं और क्षमा याचना की। माता को भी उनके पश्चाताप करने पर दया आई और उनके मृत बालक जीवित हो गए। तब दोनों खुशी-खुशी गांव लौट आईं। इस चमत्कार को देखकर सब हैरान रह गए। इसके बाद पूरा गांव माता को मानने लगा।