Wednesday, August 21, 2019 04:30 AM

संतोषगढ़  में ‘मैं पीर दी दिवानी’

ख्वाजा खिजर जिंदापीर बेड़ा कमेटी के 18वें वार्षिक सत्संग में गायकों ने बांधा समां

संतोषगढ़ -संतोषगढ़ नगर में हर वर्ष की भांति ख्वाजा खिजर जिंदापीर बेड़ा कमेटी संतोषगढ़ द्वारा 18वें वार्षिक सत्संग, भंडारा एवं गायन दरबार का आयोजन किया गया। नगर के बाबा विश्वकर्मा जी महाराज के मंदिर में आज सुबह से ही भक्तिमय माहौल बना हुआ था। सुबह दस बजे झंडे की रस्म अदा की गई और फिर दरबार के सेबादारों किशन द्वारा गद्दी की रस्म को पूरा किया गया। जिसमें ख्वाजा देवता के सभी वस्त्रों, ताज को नए सिरे से बदला गया। फिर दो बजे से लेकर पांच बजे तक चले गायन दरबार में काका व मुल्ला पार्टी ने एक से एक बढ़कर एक सुफियाना भजन पेश किए,जिसमें उन्होंने सबसे पहले गणेश वंदना, रूस ना जामी सतगुरु मेरे सांबरे, ख्वाजा मेरे ख्वाजा, जुगनी, करम कमा ले तु, सांईआ तोड़ निवाजा तु, ‘मैं पीर दी दिवानी’ आदी मशहूर भजनों से सभी को भक्ति विभोर कर दिया। दोपहर 12 बजे से शाम चार बजे तक लंगर का आयोजन भी किया गया जहां पर सभी श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। तीन बजे गीता भवन में रखे गए बेड़े को पंडाल में ले जाया गया और वहां पूजा-अर्चना की गई। शाम को सभा स्थल पर पहुंचे राष्टीय संत बाबा बाल जी महाराज ने अपने प्रवचनों द्वारा ख्बाजा देवता की महिमा का गुणगान किया तथा कीर्तन से भक्तों को निहाल किया। कमेटी सदस्यों द्वारा बाबा बाल जी महाराज तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों को सम्मानित किया गया। इसके पश्चात बेड़ा को स्वा नदी के किनारे बने ख्बाजा देवता के मंदिर में बड़ी धूमधाम के साथ ले जाया गया तथा वहां पर की गई पूजा अर्चना के पश्चात बेड़ा को स्वां नदी में छोड़ा गया। इस अवसर पर बेड़ा कमेटी के प्रधान गोपाल सैनी, सचिव बलराम महे, कोषाध्यक्ष रतन घई, दरबार गुलाम कृष्ण साई सरकार, शिव कुमार, सागर, राजिंदर, लकी सैनी, कार्तिक, शोकी, महादेव, पंकज चोपड़ा, श्मशेर सिंह, बलवीर वीरू, करण चौधरी, सुनीता, गोरी, राधा, नीलो देवी, जुगल, रवि, तिलक, गौरव हंस, निखिल, इस्माइल, रजत मान, डाक्टर राम नारायण, शिव पालवान, दीपक, साहिल, नवीन महे, रजत तथा अन्य गणमान्य लोगों उपस्थित थे।