Wednesday, December 11, 2019 05:17 PM

संधोल-सरकाघाट वाया गद्दीधार सड़क पर जरा बच के

संधोल -प्रदेश भर में अच्छी सड़क सुविधा ओर सड़कों के निर्माण में गुणवत्ता को बेहतर करने कि घोषणाएं की तो जाती हैं। वहीं, दूसरी और मंडी के धर्मपुर के ठीक एक छोर पर बसे तहसील मुख्यालय संधोल की बात ही निराली है, जहां एक सड़क की मरम्मत शुरू होती है तो चार सड़कें और बिगड़ जाती हैं। अब इसका दोष वहां के नेताओं को दंे या विभाग की लापरवाही को दें, जो समय पर काम को पूरा नहीं कर पाते। संधोल से एक सड़क सरकाघाट के लिए वाया गद्दीधार होकर निकलती है, जो पूरे जिला भर के विकास पर एक धब्बा बन कर रह गई है। 21 वर्ष पहले बनी यह सड़क का लगभग दस किलोमीटर भाग ही पक्का किया गया है, वह भी पंचायत की बंपर वोटिंग के बाद ही किया गया है। कई वर्षों तक लोगों को उम्मीद थी कि कभी न कभी यह सड़क भी पक्की होगी, लेकिन अब वह उम्मीद भी खत्म होती दिखाई दे रही है, क्योंकि इस दस किलोमीटर सड़क में भाग में लगभग 200 मीटर एक हिस्सा ऐसा भी है, जो हमेशा ही परिवहन निगम के साथ-साथ इलाका वासियों के लिए भी समय समय पर बेहद खतरनाक साबित होता रहा है। इस 200 मीटर के हिस्से में पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरते रहते हैं, जिससे बहुत बार बसों, गाडि़यों को नुकसान हुआ है यहां तक कि लोगों का यहां पैदल चलना खतरे से खाली नहीं है। बहुत से लोग यहां जान जोखिम में डाल कर इस पहाड़ी के हिस्से को पार तो कर लेते हैं, परंतु बहुत कई बार ऐसा भी हुआ है कि पैदल दूसरी तरफ  जाते हुए कई लोगों को घायल होना पड़ा। स्कूली बच्चो के लिए तो यहां पैदल चलना भी असंभव है स्थानीय लोगों कुलदीप भरमोरिया, राजेश ठाकुर, रोशन लाल, मीरा देवी स्वेत्री देवी, भागमल, होशियार चंद आदि की मानंे तो उन्होंने कई बार स्थानीय विधायक सहित सरकार और विभाग के नुमाइंदों तक इस समस्या के बारे में अवगत किया, लेकिन आज तक किसी ने भी इस ब्लैक स्पॉट की सुध नहीं ली, वहीं इसी स्थान पर मंगलवार को सुबह सड़क बंद हो गई थी, जिसके बाद स्कूल-कॉलेज के बच्चों के साथ-साथ अन्य लोगों को भी जान हथेली पर रखकर सड़क पार करनी पड़ी उसके बाद सड़क  बहाली में जुटे लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी ल्हासे की चपेट में आने से बच गए। उसके बाद मशीन से सड़क बहाल की गई। सड़क बंद होने के कारण सात बस रूट प्रभावित हुए, जिससे बहुत से लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। सहायक अभियंता अनुभाग चोलगड़ का कहना है कि बारिश में क्रशर के पास सड़क मशीन से बहाल करंे। कर्मचारी परिस्थिति देख कर उस स्थान पर कार्य करें, ताकि किसी को जान माल का नुकसान न हो। स्थानीय लोगों ने सरकार से गुहार लगाई से की किसी बड़ी घटना से पहले इस स्थान का उचित हल किया जाए, ताकि जान माल का नुकसान न हो।