Wednesday, May 22, 2019 12:07 PM

सतपाल सत्ती को एक और नोटिस

रामशहर के बाद अब ऊना की रैली में राहुल-प्रियंका पर बिगड़े बोलों पर जवाब तलब

शिमला, सोलन, अंब -बदजुबानी विवाद में फंसे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब दायर कर दिया है। खास है कि इसके तुरंत बाद चुनाव आयोग ने सतपाल सत्ती को एक और नोटिस भेज दिया है।  रामशहर में उन्होंने अपनी टिप्पणियों के सामने आए वीडियो पर जवाब देते हुए इसे कट एंड पेस्ट करार दिया है। उनका जवाब प्रदेश चुनाव विभाग ने केंद्रीय चुनाव आयोग को भेज दिया है। इस मामले में फैसले का इंतजार हो रहा है, वहीं ऊना जिला के गगरेट विधानसभा क्षेत्र के तहत भंजाल गांव में बीते रविवार को हुई रैली में राहुल गांधी व प्रियंका गांधी पर की गई टिप्पणियों को लेकर भी उन्हें नोटिस थमा दिया गया है। सहायक निर्वाचन अधिकारी अंब ने भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के भाषण में कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के प्रति प्रयोग किए गए उनके शब्दों को आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन  मानते हुए नोटिस सर्व कर 48 घंटे में जबाव देने को कहा है। गगरेट ब्लॉक कांग्रेस की शिकायत पर सहायक निर्वाचन अधिकारी अंब ने इस मामले में साक्ष्यों की प्रारंभिक जांच की है। वहीं वीडियो सर्विलांस टीम द्वारा भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती के भाषण की रिकार्ड की गई सीडी भी उनको भेजी है। सहायक निर्वाचन अधिकारी ने शिकायत का कड़ा संज्ञान लेते हुए राज्य भाजपा अध्यक्ष को नोटिस भेज जवाब मांगा है। बताया जाता है कि इस रैली में सत्ती ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर कहा था कि वह अपनी मां के लिए बहू तक नहीं ला पाए, वहीं प्रियंका गांधी के पहनावे को लेकर भी उन्होंने टिप्पणियां की थीं। इन टिप्पणियों की वीडियो फुटेज के साथ चुनाव विभाग ने सतपाल सिंह सत्ती को नोटिस भेजा है और 48 घंटे के भीतर इसमें जवाब तलब किया है। उनका जवाब नहीं मिलता है तो सीधे चुनाव आयोग को कार्रवाई की सिफारिश भेजी जाएगी। उधर, रामशहर की रैली में की गई टिप्पणियों पर दिए नोटिस को लेकर सत्ती ने अपना जवाब राज्य चुनाव विभाग को सौंप दिया है। इसमें उन्होंने कहा है कि कांग्रेस बेवजह उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने जो कुछ भी कहा है उसे कट एंड पेस्ट करके परोसा जा रहा है। कांग्रेस के नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ टिप्पणियां कर रहे हैं, जिस पर उन्होंने कुछ कहा था, परंतु उसे सोची-समझी साजिश के तहत कट एंड पेस्ट करके दिखाया गया है। सत्ती ने इस मामले में लीगल एडवाइज भी ली है। बहरहाल केंद्रीय चुनाव आयोग को यहां राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार ने मामला भेज दिया है। सत्ती का जवाब भी भेजा गया है, जिसके बाद अब फैसला आयोग को लेना है। सत्ती को दिए दूसरे नोटिस का जवाब आने पर उसे भी भेजा जाएगा। आयोग को अवगत कराया गया है कि सत्ती के खिलाफ दूसरा नोटिस भी जारी किया जा चुका है। सत्ती के बयान आचार संहिता के दायरे में आ रहे हैं, जिससे उनकी मुश्किलें बढ़ चुकी हैं। विरोधी दल कांग्रेस इसे जमकर मुद्दा बना रहा है और इसके चलते उसने मंगलवार को पूरे प्रदेश में हल्ला भी बोला था। इस मामले को लेकर फिलहाल भाजपा बैकफुट पर दिख रही है, क्योंकि उनके प्रदेशाध्यक्ष के खिलाफ पुलिस में एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है।