Monday, August 03, 2020 06:18 PM

सदन में सीएम का कांग्रेस पर सबसे बड़ा हमला

जयराम ठाकुर बोले; पूर्व सरकार ने जितने खर्च में पंडोगा में मिट्टी खोदी, उससे आधे पैसों में हमने इन्वेस्टर्स मीट करवा दी

धर्मशाला - मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि कांग्रेस सरकार में जितना खर्च पंडोगा में मिट्टी उठाने के लिए किया था, उससे आधे पैसों में हमने इन्वेस्टर्स मीट का महायोजन करवा दिया। नियम-130 के तहत लाए गए प्रस्ताव का सदन में जवाब देते हुए सीएम ने विपक्ष के वाकआउट पर कांग्रेस पर सबसे बड़ा हमला किया। सदन में अक्रामक हुए सीएम ने कहा कि कांग्रेस बेरोजगारी की बातें कर रही है। हिमाचल में निवेश खींचने का समर्थन कर रही है। फिर यह समझ में नहीं आ रहा है कि विरोध किस चीज का हो रहा है। उन्होंने कहा कि बेहतर होता अगर कांग्रेस के सहयोगी इन्वेस्टर्स मीट पर लाई गई चर्चा में हिस्सा लेते। सीएम ने कहा कि खबरों की सुर्खियां बटोरने के लिए विपक्ष बेवजह सदन से वाकआउट कर रहा है। सीएम का कहना था कि इससे पहले भी निवेश के लिए प्रयास होते रहे हैं। इससे पहले भाजपा तथा कांग्रेस दोनों ही सरकारों ने हिमाचल में निवेश लाने के लिए भरपूर प्रयास किए हैं। सीएम का मानना है कि यह पहला मौका है कि किसी सरकार ने इन्वेस्टर्स मीट को धरातल पर उतारने के लिए सार्थक प्रयास किए हैं। इसके लिए नियमों का सरलीकरण किया गया। नई पॉलिसियां बनाई गई और गंभीरता से प्रयास हुए। इन्वेस्टर्स मीट में देश के प्रधानमंत्री का शामिल होना और निवेशकों से मेजबान बनकर अपील करना यह दर्शाता है कि इस इन्वेस्टर्स मीट के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बेहद गंभीर थे। सीएम ने सदन में कहा कि सीमित साधनों में प्रदेश को आगे ले जाने के लिए हम ईमानदारी से प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए प्राईवेट  सेक्टर में संभावना तलाशना सरकार की जरूरत है। देश के सभी राज्य निजी क्षेत्र में निवेश लाने के लिए इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन कर रहे हैं। ऐसे में हम मूकदर्शक बनकर इन्वेस्टर्स मीट के परिणामों का इंतजार नहीं कर सकते। सीएम ने कहा कि इन्वेस्टर्स मीट के लिए जितना दूसरे राज्यों ने विज्ञापन पर खर्च किया, उससे कम पैसों में हमने यह सफल आयोजन कर दिया है।

इतना हो-हल्ला क्यों

सीएम ने नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि उनके समय में निवेश लाने के लिए प्रयास हुए हैं। उस दौरान पंडोगा में औद्योगिक क्षेत्र स्थापित करने के प्रयास हुए। इसके लिए जितना पैसा मिट्टी खोदने पर खर्च कर दिया, उससे आधे पैसे में हमने इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन करवा दिया। कई देशों से निवेशक अपने खर्च पर इन्वेस्टर्स मीट के लिए चंडीगढ़ तक आए। अगर राज्य सरकार ने उन्हें धर्मशाला तक लाने के लिए सरकारी सुविधा प्रदान की है तो इस पर इतना हो-हल्ला क्यों?

भावुक हो गए मुख्यमंत्री

चर्चा का अक्रामकता से उत्तर देते हुए मुख्यमंत्री उस समय भावुक हुए, जब उन्होंने प्रदेशहित को अपने लिए सर्वोपरि बताया। सीएम का कहना है कि मेरे लिए प्रदेश का हित सबसे ऊपर है। उससे ऊपर न मेरे लिए कुछ है और न कुछ होगा। इन्वेस्टर्स मीट पर विपक्ष के हो-हल्ले से खफा सीएम ने कहा कि विरोधी दल सिर्फ इसी मंशा से निवेश का विरोध कर रहा है कि इसका किसी को सियासी लाभ न मिल जाए।