Sunday, November 17, 2019 03:23 PM

सफेद नकाब के पीछे काला धंधा

गगरेट -परिस्थितियां हकीकत में स्तब्ध करने वाली हैं। जो ड्रग पैडलर पहले जिला ऊना के सीमांत जिला होशियारपुर में बैठकर अपने धंधे को अंजाम दे रहे थे, उन्होंने अब जिला में ही अपने अस्थाई ठिकाने बनाकर जगह-जगह नशे की खेप पहुंचाने के कार्य को अंजाम देना शुरू कर दिया है। अपने इस धंधे को आसानी से अंजाम देने के लिए ड्रग पैडलर ने यहां के कई सफेदपोश भी अपने धंधे में पार्टनर बना लिए हैं और अब सफेदपोश छोटे-मोटे ड्रग पैडलर की सूचना पुलिस को देकर इस तरह से उलझा रहे हैं कि पुलिस भी उन पर जरा सा भी शक नहीं कर रही है। अपने इस ट्रिक से ड्रग पैडलर आसानी से नशे की खेप प्रदेश के कोने-कोने में पहुंचा रहे हैं। इससे पहले जिले में चूरा पोस्त का धंधा तो फलता फूलता रहा, लेकिन धीरे-धीरे नशे के लिए प्रयोग की जाने वाली दवाओं का धंधा चमक निकला। हालांकि इस धंधे में भी कई स्थानीय लोगों ने भी हाथ आजमाए, लेकिन अब इससे भी ज्यादा पैसा ड्रग पैडलर को चिट्टे में दिखाई देने लगा। यही वजह रही कि पंजाब के ड्रग पैडलर ने कुछ स्थानीय सफेदपोशों से हाथ मिला लिए हैं। इन पर आसानी से शक करना मुमकिन ही नहीं है। बात यहीं आकर नहीं रुकी बल्कि अब तो पंजाब के ड्रग पैडलर ने यहां कई ऐसे सुरक्षित ठिकाने बना लिए हैं जहां से आसानी से नशे की खेप प्रदेश के अन्य हिस्सों में पहुंचाई जा रही है। सूत्रों की मानें तो नशे की खेप प्रदेश में मंगवाने के लिए कुरियर सर्विस सहित ट्रांसपोर्ट कार्यालयों का सहारा लिया जा रहा है। यहां पर ट्रकों के माध्यम से आसानी से नशे की खेप मंगवाई जा रही है और ड्रग पैडलर के इस प्रकार अपने कृत्य पर अंजाम देने पर कोई शक भी नहीं कर रहा है। सूत्रों की मानें तो ड्रग पैडलर इतना शातिर है कि अपने धंधे के साइलेंट पार्टनर सफेदपोशों को पुलिस के साथ इस तरह घुल मिल जाने को कहा गया कि उनके माध्यम से ये इस धंधे की छोटी मछलियों को पुलिस के जाल में फंसा रहे हैं और पुलिस भी इन्हें अपना मददगार समझ कर इन पर शक तक नहीं कर रही है। ड्रग पैडलर का इस समय सबसे ज्यादा फोकस उपमंडल अंब, गगरेट व हरोली पर है और यहां ऐसे कई कांटेक्ट तैयार कर लिए गए हैं। इनके माध्यम से आसानी से सफेदपोशों की आड़ में काले कारोबार को अंजाम दिया जा रहा है। उधर, डीएसपी मनोज जम्वाल का कहना है कि पुलिस अपने स्तर पर ड्रग पैडलर के खिलाफ सूचनाएं एकत्रित करती रहती है और इन सूचनाओं के आधार पर कई मामले पकड़े भी गए हैं। अगर नशे के काले कारोबार में हाथ आजमा रहे किसी व्यक्ति के विरुद्ध किसी के पास कोई सूचना है तो इसकी जानकारी पुलिस को दें। पुलिस अवश्य कार्रवाई करेगी।