Tuesday, March 31, 2020 01:57 PM

सबसे नवाचारी प्रधानमंत्री

प्रो. एनके सिंह

अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार

जब उन्होंने अपने संडे मॉर्निंग टॉक शो ‘मन की बात’ की शुरुआत की तब कई अभिजात्यों ने मजाक उड़ाया और सोचा कि यह कपिल के हंसी-मजाकिया शो की तरह होगा, एक कॉमेडी या राजनीतिक चैट की तरह। उन्होंने दो प्रमुख चिंताओं का प्रदर्शन किया, एक यह कि वे दिन-प्रतिदिन के जीवन और आम आदमी के मुद्दों से संबंधित हैं और दूसरी बात जो उन्होंने अद्भुत ढंग से की, वह है कि एक प्रतिस्पर्धी मीडिया को लाइम लाइट में लाया जाए जिसे अतीत में पृष्ठभूमि में धकेल दिया गया था। रेडियो ने गतिविधि के साथ गुंजायमान होना शुरू कर दिया...

वह जिसे कभी अमरीका जाने के लिए वीजा से इनकार कर दिया गया था, वह अब दुनिया में सबसे अधिक सम्मान पाने वाला व्यक्ति है। किसी ने भी यह कल्पना नहीं की थी कि नरेंद्र मोदी दक्षिण एशिया के सभी नेताओं के साथ कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक वीडियो सम्मेलन का नेतृत्व करेंगे? यहां तक कि कोरोना से लड़ने के सरोकार का नेतृत्व करते हुए मोदी पाकिस्तान को अलग-थलग करने वाले नेता के रूप में उभरे। प्रधानमंत्री मोदी अपने दूसरे कार्यकाल में दुनिया के शीर्ष नेता के रूप में उभरे हैं जैसा कि ब्रिटिश हेराल्ड पत्रिका के सर्वेक्षण में भी दिखाया गया है। पत्रिका की ओर से किए गए विश्वव्यापी सर्वेक्षण में यह बात सामने आई कि वह 31 फीसदी वोटों के साथ विश्व के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति हैं। दूसरे नंबर पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन रहे जिन्हें 21.9 फीसदी वोट मिले। इसी तरह 21.9 फीसदी ही वोटों के साथ अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तीसरे नंबर पर रहे। देश के प्रधानमंत्री की इतनी ऊंची रेटिंग कभी नहीं रही जितनी उन्होंने हासिल की है। मैंने पिछले छह दशकों से कभी नहीं देखा कि एक प्रधानमंत्री देश के नागरिकों के जीवन के हर पहलू को छुए।

शौचालय से लेकर बच्चों की स्कूली परीक्षाओं तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास वितरित करने के लिए बहुत सारे विचार हैं, लेकिन इससे पहले कि हम उनके नवाचार और लोगों के लिए सहानुभूति पर चर्चा करें, हमें पहले यह पता लगाने दें कि उन्हें उनके विपक्ष और आलोचकों द्वारा कैसे देखा जाता है। मुझे यह आभास था कि उनके कई आलोचकों ने सोचा था कि वह अकसर एक तेजतर्रार नेता हैं और वास्तविक परिवर्तन एजेंट नहीं हैं। यहां तक कि जब उन्होंने परिवर्तन की बात की, तो हमने सोचा कि वह केवल सपने बेच रहे हैं जिसे महसूस नहीं किया जा सकता है, लेकिन जिस तरह से उन्होंने अपने शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया, पहले से विपरीत अधिकांश पड़ोसी देश इसमें शामिल हुए और उन्होंने विश्व के नेताओं के संबंधों को एक नई दृष्टि बनाने के लिए अपना अभिनव दृष्टिकोण दिखाया। उन्होंने एशिया और प्रशांत देशों के अलावा अमरीका से यूरोप तक अधिकांश उन्नत देशों का ध्यान आकर्षित किया। एक विनम्र ‘चाय वाले’ के रूप में पहचान रखने वाले मोदी दुनिया के सबसे शक्तिशाली और अभिनव नेता के रूप में उभरे। स्पेस टैक्नालॉजी, सूचना प्रौद्योगिकी, रक्षा उपकरण तथा प्रदूषण के खिलाफ वैश्विक लड़ाई से संबंधित पर्यावरण प्रबंधन जैसे सभी क्षेत्रों में उन्होंने सभी प्रधानमंत्रियों को पीछे छोड़ते हुए गहन उपलब्धियां हासिल की हैं। उनका नवाचार सामाजिक मुद्दों के लिए दृष्टिकोण है जहां वह राजनीतिक लचरपन से आगे बढ़ जाते हैं। ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ पर उनकी प्राथमिकता लें। नारी गौरव और सामाजिक परिवर्तन के राष्ट्रीय सरोकार में समान योगदान के लिए यह कितना महत्त्वपूर्ण है। यह हमेशा महत्त्वपूर्ण और प्रासंगिक बना रहा, लेकिन किसी ने इसे अग्रिम पंक्ति में नहीं लाया और न ही कार्यक्रम के कार्यान्वयन के लिए व्यावहारिक कदम उठाए। मैं एक जंगल के बीच बसे एक गांव में रहता हूं जहां 250 घर हैं और शिक्षा के लिए कोई कालेज नहीं है।

जाहिर है सरकार हर जगह कालेज नहीं दे सकती। दस साल पहले दो लड़कियां पास के शहर में कालेज जाती थीं, जबकि आज मैंने पाया कि 10 से अधिक लड़कियां कालेजों को जाती हैं। उनमें से कई कम्प्यूटर और वाणिज्य सीख रही हैं। यह सभी महत्त्वपूर्ण बदलाव के कदम हैं। ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ की मोदी की सोच का महिला शिक्षा और स्त्री अधिकारों की भावना पर काफी प्रभाव पड़ा। जब उन्होंने शौचालयों के निर्माण पर जोर दिया तो हमें लगा कि वह बहुत जमीनी स्तर की बात कर रहे हैं, लेकिन आज उन्होंने ड्राइंग रूम चैट के लायक बना दिया है क्योंकि इससे ग्रामीण जीवन पर फर्क पड़ा है। स्वच्छता पर उनका जोर जीवन के हर क्षेत्र तक व्याप्त है। जब उन्होंने अपने संडे मॉर्निंग टॉक शो ‘मन की बात’ की शुरुआत की तब कई अभिजात्यों ने मजाक उड़ाया और सोचा कि यह कपिल के हंसी-मजाकिया शो की तरह होगा, एक कॉमेडी या राजनीतिक चैट की तरह। उन्होंने दो प्रमुख चिंताओं का प्रदर्शन किया, एक यह कि वे दिन-प्रतिदिन के जीवन और आम आदमी के मुद्दों से संबंधित हैं और दूसरी बात जो उन्होंने अद्भुत ढंग से की, वह है कि एक प्रतिस्पर्धी मीडिया को लाइम लाइट में लाया जाए जिसे अतीत में पृष्ठभूमि में धकेल दिया गया था। रेडियो ने गतिविधि के साथ गुंजायमान होना शुरू कर दिया और उनको सुनने के लिए दर्शकों की भीड़ उमड़नी शुरू हो गई। उन्होंने फिर से लोगों को सवाल पूछने या चीजों का सुझाव देने की अनुमति देकर भागीदारी प्रबंधन किया। प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने अपनी प्रधानता खो दी क्योंकि उन्होंने रेडियो को बहुत अधिक लोक प्रसिद्ध कर दिया। रेडियो मूल रूप से एक ग्रामीण माध्यम था और इसकी एक लंबी और व्यापक पहुंच थी। मोदी हर एक शहर या ग्रामीण आबादी तक पहुंच गए क्योंकि वह हर जगह विकास करना चाहते थे। वह खुद कहते हैं कि ‘नवाचार नए भारत को साकार करने के लिए महत्त्वपूर्ण है’। हाल ही में जब भ्रष्टाचार विरोधी अभियान की बात की गई तो उन्होंने जांचकर्ताओं से कहा कि ‘धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए अभिनव तरीके विकसित करें’। शुरुआत में जब उन्होंने ‘सबका साथ और सबका विकास’ की बात की तो लगा कि यह उन शब्दों में से एक है जो राजनीतिज्ञ चुनाव जीतने के लिए इस्तेमाल करते हैं, लेकिन उन्होंने सबसे पहले यह दिखाया कि उनका मतलब बिल्कुल यही था और दूसरा, यह वास्तव में हिंदुओं, मुसलमानों और अन्यों, सभी के लिए समान रूप से है। प्रारंभ में यह भी कई लोगों के लिए स्पष्ट नहीं था और अब बहुत से लोग यह नहीं जानते कि प्रधानमंत्री मोदी रहन-सहन और काम करने के अपने तरीके को विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं, जहां व्यापक हिंदू धर्म या सच्चा हिंदू धर्म दूसरों से नफरत नहीं करता है, बल्कि सभी के लिए शुभकामनाएं देता है।

ई-मेलः singhnk7@gmail.com