Tuesday, January 21, 2020 11:21 AM

सरकार कर्मचारियों के सब्र का इम्तिहान न ले

मंडी - प्रदेशभर के करीब 60 हजार अनुबंध व अनुबंध से नियमित कर्मचारियों में प्रदेश सरकार के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है। इसके चलते हिमाचल अनुबंध अनियमित कर्मचारी  संगठन नियुक्ति की तिथि से वरिष्ठता व अनुबंध काल को कुल सेवाकाल में जोड़ने के संदर्भ में आंदोलन के प्रथम चरण के अंतर्गत प्रदेश भर में ब्लॉक लेवल पर एसडीएम, तहसीलदार एवं खंड विकास अधिकारी के माध्यम से ज्ञापन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को भेज रहे हैं। इसी कड़ी में मंगलवार को  संगठन के प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश महासचिव अनिल सेन की अध्यक्षता में मांगों का ज्ञापन उपमंडलाधिकारी बल्ह को सौंपा है। संगठन के पदाधिकारियों ने सामूहिक बयान में कहा कि उन्हें आशा ही नहीं, बल्कि पूर्ण विश्वास है कि मुख्यमंत्री उनकी जायज मांग पर मानवीय दृष्टिकोण से विचार करेंगे। उन्होंने कहा कि संघर्ष तब तक जारी रहेगा, जब तक उन्हें नियुक्ति की तिथि से वरिष्ठता नहीं मिल जाती। इसके लिए संगठन किसी भी हद तक चला जाएगा।  उन्होंने कहा कि हमें यह वरिष्ठता बिना किसी वित्तीय लाभ के चाहिए और इसके लिए कर्मचारी एफिडेविट तक देने को तैयार हैं।  उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार 60 हजार कर्मचारियों के  सब्र का इम्तिहान न ले। इस दौरान सर्वसम्मति से चूड़ामणि को प्रधान, राजीव कुमार को उप प्रधान व कोषाध्यक्ष संसार चंद्र को चुना गया। इस अवसर पर  संगठन के  मंडी  जिला मुख्य सलाहकार मनोज शर्मा,  कानूनी सलाहकार अशोक वालिया, जिलाध्यक्ष कृष्ण यादव, मंडी जिला उपाध्यक्ष परशराम यादव, सचिव हरीश जम्वाल, हिमाचल विज्ञान अध्यापक संघ जिला मंडी के अध्यक्ष नरेंद्र ठाकुर, कमलेश कुमार, चूड़ामणि, राजेंद्र, राकेश, राजीव कुमार, महेश कुमार, भूप सिंह सहित 80 कर्मचारी उपस्थित रहे।