Sunday, November 17, 2019 04:00 PM

सरकार बताए, टीएसी की बैठक क्यों नहीं

जनजातीय क्षेत्रों के विकास को बनी परिषद की दो साल से नहीं हुई मीटिंग, विधायक जगत सिंह नेगी ने भाजपा की मंशा पर उठाए सवाल

रिकांगपिओ -भारत के सविधान के अनुच्छेद पांच के तहत जनजातीय क्षेत्रों के विकास के लिए जनजातीय सलाहकार परिषद (टीएसी) का गठन किया गया था। हैरानी की बात है कि बीते दो वर्षों से परिषद की बैठक ही नहीं हुई है। अब इस मसले पर कांग्रेस ने प्रदेश सरकार की मंशा पर गंभीर सवाल उठाकर भाजपा को कटघरे में खड़ा कर दिया है। कांग्रेस का सीधा आरोप है कि मीटिंग न होने से जनजातीय क्षेत्रों में विकास की गति ठप पड़ गई है। किन्नौर के विधायक जगत सिंह नेगी ने इस मसले पर बुधवार को रिकांगपिओ में पत्रकार वार्ता के दौरान भाजपा को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि जनता सब देख रही है। भाजपा कहती कुछ  है और करती कुछ और है। उन्होंने कहा कि साल में दो बार टीएसी बैठक का होना अनिवार्य है, ताकि जनजातिय लोगों के समस्याओं को सरकार तक पहुंचा सके। नेगी ने कहा कि भाजपा सरकार का दो वर्ष का कार्यकाल हो चुकी है लेकिन अभी तक टीएसी की बैठक नहीं हुआ है, जो सविधान के खिलाफ है। नेगी ने कहा कि टीएसी का चेयरमैन मुख्यमंत्री होता है जबकि जनजातिय क्षेत्रों के विधायक व सरकार के तरफ से नुमाइंदे भी सदस्य होते है। इस अवसर पर जिला कांग्रेस प्रवक्ता डाक्टर सूर्या बोरस, प्रदेश इंटक सचिव कुलवंत नेगी, कार्यालय सचिव भरतलाल भी उपस्थित थे। नेगी ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सरकार जनजातिय लोगों के साथ भेदभाव एविकास के साथ नहीं देना व समस्याओं को हल नही करना चाहती है। नेगी ने कहा कि प्रदेश में बोर्डों, निगमों की बैठक ही चुकी है। लेकिन सरकार टीएसी की बैठक ही नहीं नकर रही है  इस से साफ  जाहिर है कि भाजपा सरकार जनजातिय लोगों के साथ भेदभाव कर ही है। उन्होंने कहा कि भाजपा  एक तरफ सब का साथ सब का विकास की बात करती है, लेकिन भाजपा सरकार जनजातिय लोगों के उत्थान के प्रति चिंतित नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्षों से विधान सभा मे नॉतोड़ के मामले को उठाते रहे है। लेकिन अब भी समस्या जस की तस बनी है। समस्या जा समाधान सरकार नहीं कर रही है। नेगी ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जनजातिय उत्सव में आने का शौक तो रखते है लेकिन जनजातिय लोगों के समस्याओं को समाधान करने व टीऐसी बैठक करने का शौक नहीं है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री दावा करते है कि  वे प्रदेश का ओर दौरा कर रहे है, लेकिन मुख्यमंत्री का दौरा हेलिकाप्टर से ही होता है।