Sunday, September 22, 2019 07:51 AM

सरवीण और कपूर ने की किसानों के मन की बात

धर्मशाला में अनुसूचित जाति उपयोजना समीक्षा बैठक में बोलीं शहरी विकास मंत्री

धर्मशाला    -शहरी विकास मंत्री सरवीन चौधरी ने जिला स्तरीय अनुसूचित जाति उपयोजना की समीक्षा समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि कांगड़ा जिला में वर्तमान वित्त वर्ष में 166 करोड़ रुपए व्यय किए जाएंगे। यह धनराशि अनुसूचित जाति समुदाय के कल्याण पर खर्च की जाएगी। बैठक में अनुसूचित जाति उपयोजना 2019-20 के प्रथम तिमाही की समीक्षा के अलावा 2018-19 की स्थिति की भी समीक्षा की गई। शहरी विकास मंत्री ने अधिकारियों को अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों के उत्थान लिए तैयार योजनाओं का पूरा लाभ धरातल पर पहुंचाने को कहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार वंचित, पिछड़े तबकों को समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए ठोस कदम उठा रही है। अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों के कल्याण के लिए योजनाबद्ध तरीके से प्रयास किए जा रहे हैं।   उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2018-19 में इस उपयोजना के तहत कांगड़ा जिला में अनुसूचित जाति समुदाय के कल्याण पर 143 करोड़ 23 लाख 14 हजार रुपये व्यय किए गए।  इसमें राज्य योजना के तहत जिले में 140.15 करोड़ रुपए तथा विशेष केंद्रीय सहायता के अंतर्गत 1.22 करोड़ रुपए खर्चे जा रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि यह सुनिश्चित बनाएं कि योजनाओं के लाभ केवल चुनिंदा लोगों तक ही सीमित न रहें। उन्होंने अधिकारियों को अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए चलाई गई सभी योजनाओं का लाभ पात्र लोगों तक पहुंचाने के लिए समर्पित प्रयास करने को कहा। विभाग सुनिश्चित करें कि केवल कुछ एक लोगों तक ही बार-बार सरकार की योजनाओं का लाभ न मिले।  बैठक में उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति, परियोजना अधिकारी डीआरडीए मुनीष शर्मा, सहित सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

कांगड़ा में कांगड़ा-चंबा सांसद ने बताया कितना जरूरी है गाय का गोबर-गो-मूत्र

कांगड़ा -कृषि विज्ञान केंद्र कांगड़ा में राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण व राष्ट्रव्यापी कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्त्रम पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें कांगड़ा व आसपास के क्षेत्रों से लगभग 200 किसानों व पशुपालकों ने भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीय सांसद कांगड़ा चंबा लोकसभा संसदीय क्षेत्र किशन कपूर ने की। इस मौके पर पूर्व विधायक संजय चौधरी व सुरेंद्र काकू भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मथुरा में आयोजित पशु आरोग्य मेले, राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण व राष्ट्रव्यापी कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम का शुभांरभ व संभाषण का सीधा प्रसारण किया गया। इस कार्यक्रम के अंर्तगत सभी गउओं, भैंसों, भेड़ बकरियों व सुअरों में खुरमुंही, ब्रुसलोसिस व अन्य रोगों से बचाव हेतु टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। पशुओं में नस्ल सुधार व उत्पादकता बढाने हेतु कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम को और सुदृढ़ किया जाएगा। प्रसार शिक्षा निदेशक कृषि विश्वविद्यालय से डा. यशपाल ठाकुर ने पशुओं में खुरमुंही व ब्रुसलोसिस रोग से होने वाली आर्थिक हानि के बारे में जानकारी दी और कहा यह कार्यक्रम इन रोगों से निपटने में मील का पत्थर साबित होगा। कार्यक्त्रम में मुख्यातिथि की उपस्थिति में गाय को खुरमुंही रोग से बचाने हेतु प्रतिरोधक टीकाकरण भी किया गया । मुख्यातिथि किशन कपूर ने भारतीय संस्कृति में गाय के महत्त्व पर बल दिया और बताया कि स्वदेशी नस्ल की गाय का दूध अधिक पौष्टिक होता है और उनसे मिलने वाला गोबर व गो-मूत्र फसलों की प्राकृतिक खेती हेतु अत्यंत लाभप्रद है। पशुपालन विभाग के उप निदेशक डा. महेंद्र शामा व डा. मुकेश महाजन ने विभाग की विभिन्न गतिविधियों व स्कीमों की जानकारी दी।