Friday, November 16, 2018 11:13 PM

साप्ताहिक भविष्यफल

पढ़िए इस सप्ताह का राशिफल और जानिए कैसा रहेगा आपका पूरा सप्ताह। यह राशिफल आपको देगा आपके इस सप्ताह की घटनाओं की जानकारी व आपके स्वास्थ्य और कैरियर संबंधी सलाह। 

11 नवंबर से 17 नवंबर, 2018 तक

संपत्ति संबंधी योजना बनेगी। शुभ व्यय के योग भी बन रहे हैं। यात्रा का प्लान भी बनाएंगे। सुख साधनों पर व्यय होगा। घरेलू जीवन पर विशेष ध्यान देंगे। कार्य व्यवसाय को लेकर दौड़-धूप बढ़ सकती है। दिमागी शक्ति बढ़ेगी। किसी अच्छे इनसान से मित्रता आनंद प्रदान करेगी। सेहत का ध्यान भी आवश्यक है। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। रुका धन प्राप्त होगा।

 

लाभ के मार्ग प्रशस्त होंगे। धन संबंधी परेशानी में सुधार आएगा। संतान के भविष्य संबंधी परेशानी कम होगी। पूर्व में किए गए प्रयास फलीभूत होंगे। अपने परिवार पर विशेष ध्यान देंगे। वाहन आदि का सुख मिलेगा। राज दरबार में मान-सम्मान बढ़ेगा। किसी उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्ति से मुलाकात होगी। नौकरी में प्रभाव क्षेत्र बढ़ेगा। घर में बुजुर्गों का आशीर्वाद प्राप्त होगा।  

मानसिक प्रसन्नता मिलेगी। व्यय की अधिकता संभावित है। घर में अतिथि आगमन आनंदिति करेगा। नौकरी में अधिक जिम्मेदारी मिलने के योग भी बन रहे हैं। सेहत सामान्य रहेगी। घर-परिवार में स्नेह भरा माहौल रहेगा। आप की सलाह को सराहा जाएगा। किसी अजनबी पर एकदम विश्वास न करें ठगे जा सकते हैं। भावुकता में अपना विवेक न खोएं। शनि उपाय सहायक रहेगा।  

आर्थिक पक्ष की तरफ विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। अनावश्यक खर्चों पर लगाम लगाना हित में रहेगा। सेहत का ध्यान आवश्यक है। मित्र सहायक रहेंगे। देर सायं वाहन न चलाएं। सावधानी आवश्यक है। राशि पर चल रहा राहु का भ्रमण अकस्मात नकारात्मक सोच बढ़ा देता है। शिव का पंचाक्षरी मंत्र रोज करें। अवश्य कार्य सिद्ध होंगे। बड़ों का आशीर्वाद लिया करें।

 

सरकारी कामों में सफलता मिलेगी। अधिकारियों के साथ मधुर संबंध रहेंगे। घर-परिवार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। आर्थिक स्थिति में सुधार पाएंगे। सेहत की संभाल आवश्यक है। सर्दी से बचें। कुटुंबीजनों से अच्छे संबंध बनाने के प्रयास करें, इसी में भलाई है। क्रोध को स्वयं पर हावी न होने दें। संतान पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है।  

कोई शुभ समाचार मन को प्रसन्न करेगा। कार्य व्यवसाय व नौकरी आदि पक्ष अनुकूल चलेंगे। भागदौड़ बढ़ेगी। किसी उच्च व्यक्ति से मधुर संबंध बनेंगे। पारिवारिक वातावरण अच्छा रहेगा। कोर्ट-कचहरी के कार्यों में उलझना पड़ सकता है। मंगल का उपाय मददगार रहेगा। शत्रु पक्ष से सतर्क रहें। पक्षियों को मीठे चावल रोज डालें। बाधाएं दूर होती जाएंगी। देर रात्रि तक न जागें।  

यश, कीर्ति बढ़ेगी। मन कभी-कभी उचाट हो सकता है। सांसारिक परिस्थितियों से अशांति महसूस करेंगे। सेहत की संभाल आवश्यक है। पारिवारिक परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी। कारोबार व रोजगार संबंधी अशांति कम होगी। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे। सुख साधनों पर व्यय होगा। विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। बुद्धिबल बढ़ेगा। स्मरण शक्ति तेज होगी।  

  कुछ सोचे काम बनेंगे। मन में सकारात्मक सोच की वृद्धि होगी। गुरु का राशि पर चल रहा भ्रमण शुभता प्रदान करेगा। पदोन्नति के भी योग बन रहे हैं। स्थान परिवर्तन की भी संभावना बन रही है। गुरुवार को मीठे लड्डू गाय को खिलाएं। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा और शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। नौकरी में अधिकारी वर्ग पूरा सहयोग करेगा। मनोबल की वृद्धि होगी।  

वाहन आदि ध्यान से चलाएं। घर से गुड़ खाकर चलें। जनसंपर्क में वृद्धि होगी। रुका धन प्राप्त होगा। राशि पर शनि का प्रभाव मानसिक शक्ति को बढ़ाएगा और नेतृत्व शक्ति की वृद्धि भी कराएगा। आलस्य को स्वयं पर हावी न होने दें। वाणी में मधुरता लाएं। कई बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे। शनि उपाय विशेष सहायक रहेगा। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है।  

यात्रा की योजना बनेगी। आत्मबल बढ़ेगा। किसी उच्च व प्रतिष्ठत व्यक्ति के सहयोग से रुके कार्य बनेंगे। कारोबार में अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा। पारिवारिक चिंता कभी-कभी अशांति का कारण बन सकती है। मंगल और केतु का उपाय सहायक रहेगा। कुत्ते को रोज रोटी प्रातः डाला करें। केतु अनुकूल होता जाएगा। कार्यों में आ रही अड़चनें भी दूर होती जाएंगी।  

शत्रु पक्ष कमजोर होगा। कोई विवाद सुलझेगा। कुलदेवी के मंदिर में माथा टेकें। मानसिक व्यथा दूर होगी। राशि पर मंगल का भ्रमण कभी-कभी अशांति का कारण बनेगा। मंगल का उपाय मददगार रहेगा। सेहत का ध्यान आवश्यक है। मित्र सहायक रहेंगे। रोजगार के लिए प्रयासरत रहने वाले लाभान्वित  होंगे। नौकरी में अच्छे बदलाव के योग भी बन रहे हैं।  

आराम भरा जीवन जीने की अभिलाषा अधिक रखने से दैनिक रूटीन के कार्य प्रभावित होते हैं। आलस्य भी हावी रहता है। राहु का पंचम स्थान में होने से कभी-कभी अपने जीवन से बिना कारण ही निराश होना, व्यर्थ की चिंताओं में उलझे रहना। याददाश्त में कमी आना ऐसे संकेत हैं, जो राहु का कारण माना जाता है। भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र का जाप सहायक रहेगा।