Saturday, September 21, 2019 04:23 PM

साहब यह तो बता दो बेटे की हत्या हुई या मौत

घुमारवीं -75 वर्षीय विधवा कृष्ण देवी ने सरकार से गुहार लगाई है कि उसे अपने 32 वर्षीय बेटे की मौत का सही कारण का पता तो चल जाए। सरकार से यह जानना जुर्म है क्या। विधवा कृष्ण देवी ने रोते हुए बताया कि उसके बेटे की इसी वर्ष 23 जुलाई को घर में ही मौत हो गई थी तथा उसने इस मौत के लिए उसने अपनी ही बहू को जिम्मेदार भी ठहराया तथा सरकार प्रशासन व पुलिस से मांग की कि उसके बेटे की हत्या हुई है यह उसकी मौत हुई है। कम से कम एक मां को तो इस बारे पता चल सके, लेकिन दो महीने बीत जाने के बाद भी विधवा मां दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। यह बात अलग है कि मधुर भाषी व मिलनसार स्वभाव के उसके 32 वर्षीय बेटे कर्मजीत के साथ सारा गांव ही खड़ा हो गया है तथा ग्रामीणों ने न केवल पुलिस थाना घुमारवीं, डीएसपी घुमारवीं, पुलिस प्रमुख बिलासपुर तथा उपायुक्त तक भी गुहार लगाई है कि इस मामले में निष्पक्ष जांच हो, लेकिन अभी तक पुलिस किसी भी निर्णय तक नहीं पहुंच पाई। इसके चलते अब विधवा कृष्णा देवी के आंखों के आंसू भी सूख गए हैं। बताते चलें कि घुमारवीं उपमंडल की ग्राम पंचायत कोठी के गांव टोबका के 32 वर्षीय कमलजीत पुत्र पंछी राम की मौत हो गई थी। उसे तत्काल सिविल अस्पताल घुमारवीं लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने कमलजीत की मौत का कारण सांप का डसना बताया था, लेकिन जिस तरीके से उसके शरीर पर गहरी चोटें व गले में गहरे निशान थे तो कोई भी यह मानने को तैयार नहीं था कि सांप इतना भयानक हमला किसी पर कर सकता है। हद तो तब हो गई जब सोमवार के दिन घुमारवीं पुलिस के कर्मचारी मृतक कमलजीत के घर पहुंचे तथा उसकी मां कृष्ण देवी को यह समझाने लगे कि उसके बेटे की मौत अब हृदय गति रुकने से हुई है। ऐसे में जैसे ही ग्रामीणों को पुलिस के आने की भनक लगी तब तत्काल ग्रामीण व महिला मंडल की महिलाएं वहां इकट्ठे हो गई तथा पुलिस के इस फैसले का उनके समक्ष ही विरोध करना शुरू कर दिया। इसके चलते लोगों में गुस्सा देख पुलिस कर्मचारियों ने वहां से चलने में ही अपनी भलाई समझी। ग्रामीणों ने सीधे-सीधे पुलिस से कहा कि वह पहले स्थिति स्पष्ट करें कि उसकी मौत सांप के डसने से हुई है या हृदय गति रुकने से हुई हैं। उन्होंने यह भी मांग की कि उसकी पत्नी को भी ग्रामीणों के सामने लाया जाए तथा उससे लोगों को पता चले कि आखिर उस रात हुआ क्या था। इसी आशय का एक प्रतिनिधिमंडल कोठी पंचायत सदस्य सपना देवी की अगवाई में महिला मंडल प्रधान यशोदा देवी की अगवाई में घुमारवीं विधायक राजेंद्र गर्ग से मिला तथा गुहार लगाई कि उपरोक्त मामले की निष्पक्ष जांच की जाए। ग्रामीणों ने बताया कि जैसे ही ग्रामीण इस मामले में विरोध प्रकट कर रहे हैं तो कुछ शरारती तत्त्व भी गांव में मंडराने लगे हैं, जिसके चलते गांव में और भी दहशत का माहौल पैदा हो गया है। उधर, घुमारवीं विधायक राजेंद्र गर्ग ने बताया कि यह मामला उनके ध्यान में है तथा इस मामले में निष्पक्ष जांच का भरोसा दिलाते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस को भी इस मामले में तत्काल रात्रि गश्त बढ़ाने के आदेश दे दिए जाएंगे।