Monday, November 18, 2019 04:57 AM

सिहुंता में सुबह 11 बजे कांफी धरती

सिहुंता —तहसील मुख्यालय में गुरुवार को प्रशासनिक स्तर पर मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया। तहसीलदार सिहुंता राजेंद्र कुमार की देखरेख में आयोजित माक ड्रिल में भूंकप आने के दौरान बरती जाने वाली सावधनियों का पूर्वाभ्यास किया गया। गुरुवार को सिहुंता में सवेरे करीब ग्यारह बजे धरती में कंपन महसूस की गई, जो कि एक बडे भंकूप में बदलने के साथ ही लोगों में अफरा- तफरी मच गई। धरती को हिलता देख लोग खुले में शरण हेतु खेतों व मैदानों की और दौड पडे। भूकंप की भनक लगते ही प्रशासनिक अमला हरकत में आ गया। प्रशासनिक अमले ने घटनास्थल पर पहंुचकर घरों में फंसे लोगों को बाहर निकालने में जुट गए। घायलों को पीएचसी सिहंता में डा. वीरेंद्र कुमार की अगुवाई वाली टीम ने प्राथमिक उपचार देने के साथ ही गंभीर रूप से घायलों को 108 एंबुलेंस के माध्यम से दूसरे अस्पतालों को भेजा। तदोपरांत लोगों को प्राकृतिक आपदाओं के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के प्रति जागरूक करने को लेकर सिहंुता से नौण चौक तक जागरूकता रैली भी निकाली गई। इस माक ड्रिल में पशु चिकित्सालय प्रभारी डा. साक्षी चौहान, डीआरओ सुमन धीमान, डिग्री कालेज सिंहुता के प्रिंसीपल विघासागर शर्मा, आईपीएच के जेई मोहन सिंह, सिहंुता पुलिस चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिंह, एसडीओ बिजली बोर्ड कुलदीप परमार, सिहंुता स्कूल के कार्यकारी प्रिंसीपल वरयाम सिंह, गर्ल्ज हाई स्कूल सिहंुता की मुख्याध्यापिका राजकुमारी, हल्का पटवारी रजनी धीमान, वनरक्षक मोनिका धीमान, तहसील कार्यालय के वरिष्ठ सहायक पवन सिंह, भटियात उत्थान सभा के प्रधान बृजलाल शर्मा, सिहंुता विकास मंच के प्रधान अविनाश महाजन व स्थानीय कालेज व स्कूल के छात्रों ने बढ चढकर हिस्सा लिया।