Tuesday, August 20, 2019 12:39 PM

स्नानघाट तोड़ा, बावडि़यां भी खतरे में

नादौन -नादौन शहर की ऐतिहासिक व सदियों पुरानी बावडि़यों के पास कब्जा बर्तनदारी भूमि में एक परिवार द्वारा किए जा रहे निर्माण कार्यों से खफा नादौन शहर के लोगों ने नगर पंचायत सचिव को शिकायत पत्र देकर इस कार्य पर तुरंत रोक लगाने की मांग की है। शिकायत पत्र में नादौन शहर के लोगों राजकुमार शर्मा, बाबूराम किशोरी लाल, तरसेम कपिल, राजीव जैन, एडवोकेट केशव गोस्वामी, नगर पार्षदों श्याम सोनी, पार्षद संतोष कुमारी, सुनीता देवी तथा योगराज सहित तीन दर्जन लोगों ने कहा कि इस स्थल पर सदियों से बनाए गए कपड़े धोने तथा नहाने के घाट इस परिवार ने जेसीबी लगाकर तोड़ दिए हैं। उन्होंने कहा कि इसी के पास लगती इन बावडि़यों पर लगी आईपीएच विभाग की जल उठाओ योजना से नादौन शहर को पेयजल आपूर्ति होती है और इस खुदाई से बावडि़यों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है, जबकि वर्षा का दूषित पानी इन चश्मों में मिलकर पेयजल को भी दूषित कर रहा है। उनका कहना है कि यह भूमि शहर के लोगों के लिए राजस्व रिकॉर्ड में बर्तनदारी की भूमि है और शहर के लोग भूमि को मृत्यु उपरांत रस्मों को पूरा करने व गरूड़ पुराण की कथा आदि को सुनने के लिए भी प्रयोग करते हैं, परंतु एक परिवार ने इस भूमि को तहस-नहस कर डंगे लगाकर कब्जा करना शुरू कर दिया है। इसपर जनहित में तुरंत रोक लगाई जाए। उधर नगर पंचायत सचिव सतीश ठाकुर में शिकायत पत्र आने की पुष्टि करते कहा कि इस पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।