स्नेह भरी मुस्कान

पंकज सातवीं और आंचल पांचवीं की विद्यार्थी थी। दोनों जरा-जरा सी बात पर एक-दूसरे को चिढ़ाते और उलझ पड़ते, जोर-जोर से चिल्लाते और खूब रोते भी। लड़ाई का मुख्य कारण ज्यादातर इनकी यह चिढ़ाने की आदत ही रहता। उनकी इस लड़ाई से घर में हमेशा तनाव-सा बना रहता। इनकी बेतुकी लड़ाई के लिए माता-पिता से कई बार उन्हें चपत भी पड़ती...

पिछले दिनों आंचल और पंकज के पापा का तबादला नए शहर में हुआ। दोनों बच्चों का दाखिला भी नए स्कूल में कर दिया गया। नए स्कूल का माहौल बेशक नया था, लेकिन उनकी एक-दूसरे के साथ लड़ने की आदत पहले जैसी ही पुरानी रही। उसमें कोई बदलाव न था। पंकज सातवीं और आंचल पांचवी की विद्यार्थी थी। दोनों जरा-जरा सी बात पर एक-दूसरे को चिढ़ाते और उलझ पड़ते, जोर-जोर से चिल्लाते और खूब रोते भी। लड़ाई का मुख्य कारण ज्यादातर इनकी यह चिढ़ाने की आदत ही रहता। उनकी इस लड़ाई से घर में हमेशा तनाव-सा बना रहती। इनकी बेतुकी लड़ाई के लिए माता-पिता से कई बार उन्हें चपत भी पड़ती। मां उन्हें प्यार से समझाते हुए यही कहती, ‘बच्चों, तुम मत लड़ा करो। तुम्हारी इस लड़ाई से मन हमेशा एक अजीब-सी चिंता में घिरा रहता है। तुम अब बड़े हो रहे हो। थोड़ी-सी तो शर्म कर लिया करो।’ पिता इनकी इस लड़ाई से पीछा छुड़ाने के लिए उन्हें अकसर कई प्रकार के किस्से, कहानियां और घटनाएं सुनाते-बताते। परंतु वे दोनों इन्हें सिर्फ हल्के में लेकर अपनी आदत पर बने रहते। माता-पिता ने अब यह मान लिया था कि बड़े होने पर वे स्वंय ही सुधर जाएंगे। आज स्कूल जाने से पहले तो हद ही हो गई। वे दोनों अपने-अपने गुब्बारों के रंग को बेहतर बताते हुए आपस में उलझ गए। बात हाथापाई तक पहुंच गई। पापा उस समय बाथरूम में नहा रहे थे। जब तक मम्मी उन्हें संभालती पंकज ने अपनी कॉपी से आंचल की गर्दन में जोर की मार दी थी। आंचल खूब रो रही थी। घर का माहौल आज सुबह-सुबह ही बिगड़ चुका था। स्कूल जाने के लिए पापा की गाड़ी में बैठे दोनों भाई-बहन आज एक-दूसरे को जैसे खा जाने वाली नजरों से देख रहे थे। पापा को भी इन पर बहुत गुस्सा आ रहा था। परंतु वे आज उन्हें ज्यादा कुछ नहीं बोले। चुपचाप गाड़ी चलाते हुए बस इतना कि कहा कि शाम को बात करते हैं। दोनों भाई-बहन अजीब से भाव लिए गाड़ी से उतरे और जल्दी-जल्दी बिना बात किए सीधे ही अपनी-अपनी कक्षाओं में चले गए। पंकज जैसे ही कक्षा के भीतर दाखिल हुआ तो वहां पहले से पहुंची पायल अपने पांव को डेस्क के ऊपर रखकर चुपचाप उदास बैठी थी। पंकज के पूछने पर पायल ने बताया कि उसके पैर में मोच आई है। इतने में प्रार्थना के लिए घंटी बज गई। सभी विद्यार्थी प्रार्थना हॉल में पहुंच गए। आंचल और पंकज भी एक-दूसरे की सामने वाली पंक्ति में अपनी-अपनी जगह पर खड़े हो चुके थे। प्रार्थना सभा की शुरुआती गतिविधियों के बाद जैसे ही विद्यार्थियों ने प्रार्थना गानी शुरू की तो इसी बीच पंकज के आगे खड़ा शौर्य एकदम से जोर-जोर से रोने लग पड़ा। प्रार्थना गान रूक गया। सभी अध्यापकों व बच्चों का ध्यान शौर्य की ओर खींच गया था। शौर्य की आंखें भीग चुकी थीं। शौर्य के अचानक यूं रोने पर अध्यापकों ने जब कारण पूछा तो वह सुबकते हुए बोला, ‘मैंने पायल दीदी के पास जाना है। दीदी आज प्रार्थना में नहीं आई है। स्कूल आते हुए उसके पांव में मोच आ गई थी। मुझे दीदी की फिक्र हो रही है। पता नहीं इस वक्त दीदी कैसी होगी? मुझे दीदी के पास जाने दो।’ नन्हे शौर्य का अपनी दीदी के लिए इतना प्यार और चिंता देखकर कई विद्यार्थियों की आंखें भर आईं थी। आंचल और पंकज एक-दूसरे के सामने खड़े आपस में नजरें मिलाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। दोनों के चेहरे पर उदासी पसर गई थी। शाम को तय समय पर स्कूल से जब छुट्टी हुई तो पंकज स्कूल के आंगन में खड़ा आंचल का इंतजार कर रहा था। आंचल के बाहर आते ही वह उसका हाथ पकड़कर, उसे घर की ओर लेकर चल पड़ा। चलते-चलते वह बोला, ‘आंचल, सुबह कॉपी की जोर से लगी न! मुझे माफ  कर दो।’ आंचल अपने चेहरे पर एक स्नेह भरी मुस्कान लिए गर्दन पर चोट के निशान को छुपाते हुए बोली, ‘भैया ज्यादा नहीं लगी है। गलती मेरी भी तो थी।’ गलती का एहसास लिए दोनों के कदम एक साथ घर की ओर बढ़ चले थे।

-पवन चौहान

गांव व डा- महादेव तहसील- सुंदर नगर, जिला-मंडी (हि0 प्र0)- 175018

Related Stories: