Monday, July 13, 2020 10:28 AM

स्पीति के सभी होटल किए बंद

स्थानीय लोगों-कारोबारियों ने कोरोना वायरस के खतरे को ध्यान में रख लिया फैसला

केलांग - कोरोना वायरस के खतरे को भांपते हुए स्पीति के सभी होटलों, होम स्टे व पर्यटन इकाइयों को रविवार से बंद कर दिया गया है। यही नहीं, वर्तमान समय में स्पीति पहुंचे सैलानियों से भी तीन दिनों के भीतर घाटी से बाहर जाने का आग्रह किया गया है। यह निर्णय स्थानीय लोगों व पर्यटन कारोबारियों ने रविवार को काजा में बुलाई गई एक अपात बैठक में लिया है। इस दौरान प्रशासन से भी आग्रह किया गया है कि वह किन्नौर व स्पीति के बोर्डर को भी सील करे, ताकि बाहरी क्षेत्रों से लोग स्पीति न पहुंच सकें। यही नहीं, ग्रामीणों ने प्रशासन द्वारा स्पीति की सीमाओं पर बाहरी क्षेत्रों से आ रहे लोगों की मेडिकल जांच के दावों को भी नकारते हुए दो टूक शब्दों में कहा है कि वह कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए किसी की भी जिंदगी को खतरे में नहीं डाल सकते, लिहाजा स्थानीय लोग किसी भी सैलानी को अब अगामी कुछ समय तक स्पीति में नहीं आने देंगे। रविवार को काजा में हुई ग्रामीणों की बैठक में जो भी निर्णय लिए गए हैं, उन निर्णयों की एक प्रतिलिपि ग्रामीणों ने स्पीति प्रशासन को भी सौंपी है। स्थानीय लोगों का कहना है कि स्पीति में चल रही सभी छोटी-बड़ी पर्यटन इकाइयों को मई माह के अंतिम सप्ताह तक बंद करने का इस दौरान निर्णय लिया गया है और अगर कोरोना का खतरा मई माह में भी इसी तरह बना रहा तो घाटी के होटलों व अन्य पर्यटन इकाइयों को बंद रखने की समय अवधि को ओर बढ़ा दिया जाएगा। ग्रामीणों का कहना है कि बैठक में यह निर्णय भी लिया गया है कि स्पीति घाटी के रहने वाले लोग अगर वर्तमान समय में जिला व प्रदेश से बाहर गए हुए हैं और अगामी कुछ समय में वह घाटी लौटते हैं, तो उन्हें भी मेडिकल जांच के साथ-साथ 15 दिनों तक घरों में ही रहना पड़ेगा। यह लोग न तो 15 दिनों तक घर से बारह निकलेंगे और न ही इस दौरान किसी से मिलेंगे। ग्रामीणों द्वारा लिए गए उक्त निर्णयों का जहां घाटी के सभी पर्यटन करोबारियों ने समर्थन किया है, वहीं रविवार से स्पीति के सभी होटलों को बंद कर दिया गया है।