Monday, June 01, 2020 01:59 AM

स्पीति में छात्रों को घर पहुंचाई पाठ्य सामग्री

केलांग - कोरोना काल में जहां प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था प्रभावित हो रही है, वहीं सरकार ने इस क्षेत्र में कुछ नए कदम उठाते हुए जहां घर पर ही छात्रों को अब स्टडी मेटेरियल उपलब्ध करवाना शुरू कर दिया है। इस फेहरिस्त में स्पीति घाटी के छात्रों को घरद्वार पर जहां पठ्न सामग्री उपलब्ध करवाई जा रही है, वहीं, घाटी में हर घर पाठशाला योजना की शुरुआत भी कर दी गई है। प्रदेश सरकार द्वारा  महत्त्वाकांशी  हर  घर  पाठशाला  कार्यक्रम के तहत ऑनलाइन  पाठ्यक्रम सामग्री उपलब्ध  करवाई जा रही है। इसके  अतिरिक्त  अभी  हाल ही  में  दूरदर्शन  व रेडियो  के  माध्यम से भी  पाठ्यक्रम  को  लागू  किया  जा  रहा  है,  लेकिन  स्पीति में इंटरनेट  सेवा  के  अभाव  में  यहां  हर  घर  पाठशाला  पूर्णतः  लागू  करने  में कठिनाई  आई  है।  इस  समस्या  के मद्देनजर  अतिरिक्त  जिला  दंडाधिकारी  ज्ञान  सागर नेगी  के  दिशा निर्देशानुसार स्पीति  शिक्षा  खंड  के  तत्त्वावधान  में  ऑफलाइन  हर  घर  पाठशाला  शिक्षण  कार्यक्रम  गया है, जिसमें स्पीति  उपमंडल  के  27  रिसोर्स  पर्सनस  एवं  सात  कर्लकों  को  ऑफलाइन  अध्ययन  सामग्री  तैयार  करने  के  लिए  राजकीय  आदर्श वरिष्ठ  माध्यमिक  पाठशाला  में प्रतिनियुक्त किया गया है। सभी  पाठशाला, प्राथमिक, माध्यमिक,  उच्च माध्यमिक, वरिष्ठ  माध्यमिक प्रभारियों को अध्ययन  सामग्री  को  घर-घर  पहुंचाने  एवं  निरीक्षण  का  दायित्व  दिया  गया  है। समस्त प्रतिनियुक्त  शिक्षक  एवं अन्य कर्मचारी लॉकडाउन के  समस्त नियमों का पालन  कर  रहें  हैं व  सामाजिक  दूरी  और  मास्क  का उपयोग अनिवार्य  कर  दिया  है।

कृषि मंत्री डा. राम लाल मार्कंडेय ने की सराहना

कुमारी देकित डोलकर,  प्रर्धानाचार्या राजकीय वरिश्ठ  माध्यमिक पाठशाला काजा एवं  नोडल अधिकारी, ऑफलाइन हर  घर पाठशाला कार्यक्रम के अनुसार  शिक्षण  कार्यक्रम  के  तहत  पहली  से पांचवीं कक्षा के कुल 527  छात्र  एवं  छात्राएं तथा  छठी  से  12वीं  कक्षा  के  कुल  490  छात्र  एवं  छात्राएं लभान्वित हो रहे हैं।  लाहुल-स्पीति के विधायक एवं कृषि मंत्री डा.  राम लाल  मार्कंडेय ने  इस  अनूठे  प्रयास  की  प्रशंसा  की है। उन्होंने कहा कि पूरे हिमाचल प्रदेश में स्पीति क्षेत्र  ऐसा है जहां पर इस तरह का कार्यक्रम प्रशासन ने शुरू किया है। घर-घर बच्चो के लिए स्टडी मैटेरियल मुहैया करवाया जा रहा है।