Sunday, July 05, 2020 06:10 AM

स्वास्थ्य कर्मी भी हो क्वारंटाइन

हमीरपुर में सीईसी की संयुक्त बैठक में उठाया मामला

हमीरपुर-हिमाचल प्रदेश मेडिकल आफिसर संघ और प्रदेश की रेजिडेंट डाक्टर संघों के सीईसी की संयुक्त बैठक वीडियो कान्फें्रसिंग के जरिए हुई। बैठक का मुख्य मुद्दा स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड वार्ड्स में ड्यूटी करने के पश्चात क्वारेंटाइन पीरियड जोकि 14 दिन का होता है, नहीं देने बारे विचार विमर्श किया गया। सभी एकमत थे कि स्वास्थ्य कर्मियों को 14 दिन का क्वारंटाइन पीरियड, कोविड ड्यूटी करने के बाद मिलना ही चाहिए अन्यथा इससे न केवल स्वास्थ्य कर्मी के परिवार व दूसरे स्वास्थ्य कर्मियों को संक्रमण फैलने का खतरा होगा। वहीं, सबसे बड़ा खतरा कम्युनिटी स्प्रेड का होगा। इसलिए सभी चिकित्सक एकमत थे कि महामारी के संक्रमण को देखते हुए और जनता की भलाई में क्वारंटाइन पीरियड 14 दिन का जो कोविड में ड्यूटी करने के बाद आवश्यक है उसको जारी रखा जाना चाहिए। क्योंकि पिछले दिनों ही टांडा मेडिकल कालेज में एक चिकित्सक क्वारंटाइन पीरियड के दसवें दिन पॉजिटिव आए थे, तो इससे यह स्पष्ट होता है कि चाहे जितनी भी सावधानी बरती जाए लेकिन एक संभावना हमेशा रहती है कि स्वास्थ्य कर्मी इससे संक्रमित हो सकते हैं। अगर खुदा न खास्ता चिकित्सक उस समय क्वारंटाइन में नहीं होते तो इन दस दिनों के दौरान और भी स्वास्थ्य कर्मियों  और अन्य रोगियों को संक्रमण हो सकता था। सभी चिकित्सकों का एक मत था कि सरकार को क्वारंटाइन पीरियड 14 दिन का स्वास्थ्य कर्मियों को जारी रखना चाहिए। संघ के महासचिव डा. पुष्पेंद्र वर्मा ने कहा कि इन सब कारणों के कारण प्रदेश के सारे चिकित्सकों में रोष व्याप्त हो रहा है। इसलिए सरकार से अनुरोध है कि वह जल्द से जल्द इस पर निर्णय ले और स्वास्थ्य कर्मियों के क्वारंटाइन पीरियड को जारी रखें और साथ में जल्द से जल्द इन चिकित्सकों को नियमित करें।