Monday, August 26, 2019 09:55 AM

हफ्ते में सुधारो हणोगी गोसदन के हाल

मंडी—एनएच-21 के पास हणोगी में बने गोसदन में गउओं का मरना जारी है। करोड़ों रुपए की आय वाले हणोगी मंदिर ट्रस्ट द्वारा संचालित गोसदन की हालत खस्ता बनी हुई है। फोरलेन की डंपिंग साइट के चलते बेहतर जगह से हटाकर अब गोसदन को एक टिन शैड के नीचे चलाया जा रहा है। जहां गउओं की हालत दयनीय बनी हुई है। गोसदन की बदहाली को लेकर विश्व हिंदू परिषद ने कड़ा संज्ञान लिया है। एडीसी को ज्ञापन सौंपकर विश्व हिंदू परिषद ने चेताया है कि एक सप्ताह के भीतर तमाम व्यवस्थाएं बनाएं, अन्यथा पशु अत्याचार अधिनियम के तहत संबंधित अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया जाएगा। विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष हरमीत सिंह बिट्टू के नेतृत्व में विहिप की टीम, जिसमें जिला गोसेवा प्रमुख तेज सिंह राणा, उपाध्यक्ष कमल कपूर, मनोज गुप्ता, प्रकाश सहित अन्य ने हणोगी गोसदन का दौरा किया और गोसदन की व्यवस्था को लेकर कड़ा संज्ञान लिया। अतिरिक्त उपायुक्त को सौंपे ज्ञापन में विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि जब टीम ने गोसदन का दौरा किया तो वहां का मंजर दिल दहलाने वाला है। तमाम गोवंश को एक टीन से बने ढांचे में रखा गया है तथा यह ढांचा गोसदन नहीं, बल्कि स्लाटर हाऊस प्रतीत हो रहा है। जहां गउएं निरंतर दम तोड़ रही हैं। इस टीननुमा हाउस में न तो गोवंश के लिए हवा है। न पानी है और न ही खाने के लिए चारा है। भूखी-प्यासी गउएं दम तोड़ रही हैं। यहां के स्थानीय लोगों के अनुसार गोसदन को हणोगी माता ट्रस्ट चलाता है तथा गोसदन में 35 गउएं थीं, जिनमें से अब 17 गउएं बची हैं तथा बाकी ने दम तोड़ दिया है। ट्रस्ट के पास करोड़ों की कमाई है, मगर गोसदन के नाम पर वह महज खानापूर्ति कर रहा है। विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि हणोगी गोसदन को तत्काल प्रभाव से बंद करके उसे किसी अन्य जगह पर स्थानांतरित किया जाए, ताकि शेष बचे गोवंश को जीवनदान मिल सके। गोसदन की बदहाली के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के लिए पशु अत्याचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज करवाएं, अन्यथा एक सप्ताह के बाद विहिप अपने स्तर पर गोसदन से जुड़े तमाम अधिकारियों के खिलाफ पशु अत्याचार अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज करवाने से गुरेज नहीं करेगी। उधर, एडीसी आशुतोष गर्ग ने विहिप के प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया कि जल्द ही कार्रवाई अमल में लाई जाएगी यदि संभव हुआ तो गोवंश को वहां से किसी अन्य गोसदन में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। प्रतिनिधिमंडल में जिला उपाध्यक्ष कमल कपूर, जिला गोसेवा प्रमुख तेज सिंह राणा, सदर प्रखंड प्रमुख सूबेदार शेर सिंह ठाकुर, दुर्गा वाहिनी विभाग संयोजिका किरण सोनी, मातृ शक्ति सह संयोजिका नागिन देवी सहित अन्य पदाधिकारी भी मौजूद थे।