Tuesday, June 02, 2020 10:52 AM

हमीरपुर में कोरोना का ब्लास्ट 31 केस

हमीरपुर - कोरोना की दहशत के कारण गुरुवार को हमीरपुर शहर की मार्केट एक घंटा पहले ही बंद हो गई। सुबह ही पांच मामले सामने आने के बाद लोगों में चर्चाओं का माहौल बना रहा। यही कारण है कि सुबह आठ बजे से लेकर चार बजे तक खुलने वाली हमीरपुर की मार्केट की आधे से ज्यादा दुकानें तीन बजे से पहले ही बंद हो गई थीं। हालांकि शाम होते-होते 11 और मामले सामने आ गए। एक ही दिन में 31 मामले सामने आने के बाद लोगों में दशहात का माहौल बना हुआ है।  लगातार सामने आ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों से आंकड़ा आए दिन बढ़ रहा है। गुरुवार को जैसे ही एक साथ पांच मामले सुबह सामने आए एकदम से जिला भर में माहौल तनावपूर्ण हो गया। हरेक व्यक्ति व्हाटसऐप व दूरभाष के माध्यम से जानकारी जुटाने में लग गया कि आखिरकार संक्रमित व्यक्ति किस क्षेत्र से संबंधित है। बता दें कि कोरोना संक्रमण के मामले अब लगातार बढ़ रहे हैं। जितने मामले हमीरपुर में हमीरपुर में बीते बुधवार तक सामने आए थे उतने मामले गुरुवार को एक ही दिन में सामने आ गए। हालांकि जिन लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया है वे संस्थागत क्वारंटाइन किए गए थे। हालांकि एक युवक जरूर होम क्वारंटाइन है। बिना लक्षण वाले मरीजों को जिला कोविड केयर सेंटर डुग्घा भेजा गया है। लक्षण वाले मरीजों को उपचार कोविड-19 सेंकेडरी अस्पताल भोटा में होगा। फिलहाल गुरुवार को दिन सबसे खौफनाक दिन हमीरपुरवासियों के लिए रहा। अगर हम दिन भर की दिनचर्या की बात करें तो सुबह के समय जैसे ही मामले सामने आए लोगों की मार्केट की तरफ आवाजाही कम हो गई। यही कारण है कि दुकानदारों ने निर्धारित समय से पहले ही अपनी दुकानें बंद कर ली। शाम तक 11 और मामले सामने आने के बाद अब मार्केट पर और विपरीत असर पड़ सकता है। दुकानदारों का भी यही कहना है कि अब लोगों का मार्केट में आना कम हो गया है। इस कारण इनके व्यापार पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। अगर ऐसा ही रहा तो इन्हें तगड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। कर्फ्यू के दौरान पहले ही काफी नुकसान हो चुका है। अब मार्केट तो खोल दी गई है, लेकिन ग्राहकों के आभाव में कामकाज ठप हो गया है। वहीं, गुरुवार को 31 मामले कोरोना संक्रमण के सामने आए हैं। मरीजों को उपचार के लिए तय किए गए अस्पतालों में लाया गया है। यहां पर इन सभी का उपचार होगा। लोगों को सरकार व प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करना होगा। सामाज को सुरक्षित रखने का दायित्व हरेक नागरिक का है।

डर से बाजार हुआ सुनसान

सुबह के समय जैसे ही मामले सामने आए लोगों की मार्केट की तरफ आवाजाही कम हो गई। यही कारण है कि दुकानदारों ने निर्धारित समय से पहले ही अपनी दुकानें बंद कर ली।  इस कारण इनके व्यापार पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। अगर ऐसा ही रहा तो इन्हें तगड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। कर्फ्यू के दौरान पहले ही काफी नुकसान हो चुका है। अब मार्केट तो खोल दी गई है, लेकिन ग्राहकों के आभाव में कामकाज ठप हो

गया है।

भोटा अस्पताल में होगा इलाज

बता दें कि कोरोना संक्रमण के मामले अब लगातार बढ़ रहे हैं। इतने मामले हमीरपुर में हमीरपुर में बीते बुधवार तक सामने आए थे उतने मामले गुरुवार को एक ही दिन में सामने आगए। हालांकि जिन लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया है वे संस्थागत क्वारंटाइन किए गए थे। लक्षण वाले मरीजों को उपचार कोविड-19 सेंकेडरी अस्पताल भोटा में होगा।