Monday, April 06, 2020 06:38 PM

हमीरपुर मेडिकल कालेज में न मास्क, न ही सेनेटाइजर

कोरोना के कोहराम के बीच प्रबंधन अभी भी मांग रहा कोटेशन, कर्मियों की सेहत से भी खिलवाड़

हमीरपुर-सिर पर कोरोना जैसी महामारी का संकट मंडरा रहा है और डा. राधाकृष्णन मेडिकल कालेज एवं अस्पताल प्रबंधन अभी तक मास्क व सेनेटाइजर की कोटेशन ही मांग रहा है। यहां तैनात कर्मचारियों के लिए न तो मास्क उपलब्ध हैं और न ही सेनेटाइजर। लोगों की सेहत का जिम्मा संभाले हमीरपुर मेडिकल कालेज एवं अस्पताल के कर्मचारियों की सेहत खुद पर दांव पर लगी हुई है। कोरोना अलर्ट के बाद जहां पूरे प्रदेश में लोग सतर्क हो गए हैं, वहीं मेडिकल कालेज एवं अस्पताल प्रबंधन की सतर्कता नहीं दिख रही। वर्तमान में लोगों के पास मास्क भी हैं और पॉकेट सेनेटाइजर भी, लेकिन अस्पताल प्रबंधन के पास अपने कर्मचारियों तक के लिए मास्क व सेनेटाइजर नहीं है। यहां तैनात कर्मचारियों ने अपने स्तर पर ही मास्क व सेनेटाइजर खरीद कर काम चला रखा है। अस्पताल के प्रबंधों की पोल तक खुली जब शनिवार को भी अस्पताल प्रबंध ने मास्क व सेनेटाइजर की कोटेशन मांगी। बताया जा रहा है कि यह कोटेशन पिछले दो महीने से मांगी जा रही है। आज तक मास्क व सनेटाइजर अस्पताल प्रबंधन नहीं खरीद सका है। बता दें कि कोविड-19 यानि की कोरोना वायरस का संकट लोगों पर मंडरा रहा है।  ऐसे में सभी की नजरें सिर्फ स्वास्थ्य महकमे के प्रबंधों पर लगी हुई हैं। मेडिकल कालेज एवं अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड तक की व्यवस्था कर दी गई है, लेकिन अस्पताल में तैनात कर्मचारियों की स्वास्थ्य की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। इनके लिए अस्पताल प्रबंधन ने न तो मास्क और न ही सेनेटाइजर का प्रबंध किया है। हैरानी तब हुई जब सब कुछ जानते हुए भी प्रबंधन ने इन जरूरी चीजों की ओर ध्यान नहीं दिया। आज जब संकट मंडरा रहा है, तो प्रबंधन कोटेशन मांग रहा है। कई मेडिकल स्टोर संचालकों से अस्पताल प्रबंधन ने मास्क व सेनेटाइजर की कोटेशन मांगी है। मास्क व सेनेटाइजर उपलब्ध न होने की सूरत में अस्पताल में काम कर रहे कर्मचारी भी सहमे हुए हैं। मेडिकल कालेज एवं अस्पताल की इस लेटलतीफी का बड़ा खामियाजा भी कर्मचारियों को भुगतान पड़ सकता है। सुखद बात यह है कि अभी तक कोरोना का कोई पॉजीटिव मामला यहां नहीं आया है। अगर यहां कोई ऐसा मामला आ गया तो यहां तैनात कर्मचारियों को भी वायरस अपनी चपेट में ले सकता है।