Tuesday, November 19, 2019 03:51 AM

हमीरपुर शहर का कचरा 50 फीसदी हुआ कम

हमीरपुर - नगर परिषद के वार्डों में गीला व सूखा कचरा अलग लेने से शहर का कचरा तीन टन रह गया है। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट में गीले कचरे से छह क्विंटल खाद तैयार की गई है। खाद को पांच रुपए किलो के हिसाब से बेचा जा रहा है, जबकि प्लास्टिक कचरे को नगर परिषद कार्यालय में छांटा जा रहा है। बता दें कि नगर परिषद के 11 वार्डों से गीले व सूखे कचरे को अलग-अलग इकट्ठा किया जा रहा है।  ऐसे में नगर परिषद का कचरा छह टन से घटकर तीन टन प्रतिदिन रह गया है, जिसे रोजाना सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट भेजा जा रहा है। नगर परिषद हमीरपुर के सफाई इंचार्ज राजेंद्र शर्मा ने बताया कि इससे पहले गीला व सूखा कचरा सीधा प्लांट भेजा जाता था। अब प्लास्टिक कचरा नगर परिषद कार्यालय में ही छांटा जा रहा है, जिसे वहीं से सीमेंट फैक्ट्री भेजा जा रहा है, जबकि गीले कचरे को प्लांट में डालकर खाद तैयार की जा रही है। नगर परिषद ने बीते माह ही प्लांट में छह क्विंटल खाद तैयार की है, जिसे पांच रुपए किलो के हिसाब से लोगों को बेचा जा रहा है। ऐसे में नगर परिषद को खाद से 15 हजार रुपए का फायदा हुआ है।  सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का जि मा 17 कर्मचारियों के जि मे है, जोकि शहर के कचरे को इकट्ठा करने के बाद उसे खत्म करने का काम कर रहे हैं। सूत्रों की मानें लोग इसी तरह गीला व सूखा कचरे नगर परिषद को देते रहे, तो शहर का 80 फीसदी कचरा कम किया जा सकता है। नगर परिषद के सफाई कर्मचारी लगातार डोर टू डोर कूड़ा उठाने के कार्य में लगे हुए हैं।