Saturday, September 21, 2019 04:25 PM

हमें दो हजार और खुद को चार लाख

सीटू की अगवाई में मिड-डे मील कर्मियों ने खोला सरकार के खिलाफ मोर्चा

कुमारसैन -कुमारसैन में मंगलवार को मिड-डे मील वर्कर्ज यूनियन संबंधित सीटू ब्लॉक इकाई कुमारसैन की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता इकाई अध्यक्ष टेकचंद शर्मा ने की। बैठक में मिड-डे मील वर्कस की मांगों व समस्याओं पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक को संबोधित करते हुए मिड-डे मील शिमला जिला उपाध्यक्ष व ब्लॉक कुमारसैन अध्यक्ष टेक चंद शर्मा ने कहा है कि केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2012 और 2013 में बढ़ाए हुए 2000 रुपए के वेतन को अभी तक लागू नहीं किया है। सीटू जिला शिमला अध्यक्ष कुलदीप सिंह ने कहा कि 2013 में हुए 45वें श्रम सम्मेलन में सरकार ने मिड-डे मील वर्कर्ज को मजदूरों की श्रेणी में लाने, न्यूनतम वेतन लागू करने, सामाजिक सुरक्षा व मेडिकल सुविधा प्रदान करने की हामी भरी थी। लेकिन अच्छे दिन का वादा लेकर आई मोदी सरकार के द्वारा दूसरे कार्यकाल में भी मिड-डे मील के बजट में लगातार कटौती करके मजदूरों के रोजगार पर हमला किया है और पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए इस योजना को ठेके पर दिए जाने के लिए रास्ता तैयार कर रही है। इकाई महासचिव जगदीश ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा मिड-डे मील के मानदेय में नाममात्र की बढ़ोतरी इस महंगाई के दौर में ऊंट के मुंह जीरे के समान है कोई भी व्यक्ति दो हजार रुपए महीने में गुजारा नहीं कर सकता है। यूनियन ने प्रदेश सरकार पर पर आरोप लगाते हुए कहा कि ऋण में डूबी हुई सरकार एक तरफ  तो विधायकों के यात्रा भते को दो लाख से बढ़ाकर चार लाख करने में कोई देर नहीं लगाती और पिछले 15 सालों से काम कर रहे गरीब मजदूरो को दो हजार देकर ही फंड न होने का बहाना बनाकर उनको पीस रही है। वर्कर्ज यूनियन कुमारसैन ने सरकार से मांग की है कि सरकार मिड-डे मील वर्कर को न्यूनतम 7500 रुपए वेतन, 10 के बजाए 12 माह का वेतन, जहां एक वर्कर है उसके साथ हेल्पर की व्यवस्था, छुट्टियों का प्रावधान तथा 45वें श्रम सम्मेलन की शर्तो को लागू करे। यदि केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा मिड-डे मील की मांगों को नहीं माना तो आने वाले समय में मिड-डे मील वर्कर्ज यूनियन संबंधित सीटू देश व प्रदेश सरकार के खिलाफ  संघर्ष तेज करेगी। 13 सिंतबर को शिमला में मजदूरों की होने वाली रैली में 30 मिड-डे मील के वर्कर्ज शामिल होंगे। इस बैठक में लायक राम, रीता, सरिता, सुभद्रा, ममता, अनीता, सरोज, गोपी देवी, मीना,पुष्पा, प्रीति, सुनीता, बिमला, प्रोमिला, पूर्वा, उमा, भूमा देवी, रीमा, किरना, मीना सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।