Sunday, September 15, 2019 01:10 PM

हाल चुनावी साल का मंत्री के एक साल का : महेंद्र सिंह ठाकुर; विधायक, धर्मपुर 

लोकसभा चुनाव में पूरा देश रंग चुका है, तो हिमाचल में सियासी पारा दिन-प्रतिदिन चढ़ रहा है। लोकसभा चुनाव में विधायक द्वारा किए गए विकास को भी परखा जाता है, तो इस बार हम दखल के जरिए जानेंगे कि हिमाचल सरकार के कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने सवा साल के कार्यकाल के दौरान किन प्रोजेक्टों को सिरे चढ़ाया .....  अमन अग्निहोत्री

महेंद्र सिंह ठाकुर; विधायक, धर्मपुर 

मतदाता- 75 हजार

प्रदेश सरकार के 16 महींनों के भीतर पूरे प्रदेश में अगर विकास के मामले में जहां मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के हलके सराज का पहला नंबर आता है, तो वहीं मंडी जिला का धर्मपुर इस मामले में प्रदेश में दूसरे पायदान पर खड़ा है। जिसकी वजह न सिर्फ मंडी से मुख्यमंत्री होना है, बल्कि धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र की कमान पिछले 31 वर्षा से विधायक महेंद्र सिंह ठाकुर के हाथों में होना भी सबसे बड़ी वजह है। वर्तमान में महेंद्र सिंह ठाकुर धर्मपुर से विधायक होने के साथ ही प्रदेश सरकार में आईपीएच हैं और पूर्व सैनिक कल्याण के साथ ही बागबानी को भी देख रहे हैं। पेयजल दिक्कत से जूझ रहे धर्मपुर को इन 16 महींनों में 250 करोड़ से अधिक की दो बड़ी पेयजल योजनाएं मिल चुकी हैं, तो प्रदेश की पहली सैनिक अकादमी और 434 करोड़ की मशरूम योजना के तहत प्रदेश का पहला मशरूम फार्म भी धर्मपुर में बनने जा रहा है। प्रदेश के दो सबसे बडे़ अहम विभागों का मंत्री होने और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के लक्ष्य के तहत महेंद्र सिंह ठाकुर प्रदेश के अन्य जिलों में भी प्रदेश सरकार की जन कल्याणीकारी योजनाओं को पहुंचाने में लगे हुए हैं। यही वजह है कि उन्होंने धर्मपुर विस क्षेत्र की विकास योजनाओं को जनजन तक पहुंचाने की जिम्मेदारी अब अपने पुत्र रजत ठाकुर को दे रखी हैं। ताकि उन्हें प्रदेश के अन्य जिलों में सेवा करने का समय मिल सके। उनके पुत्र रजत ठाकुर लगातार सक्रिय रहते हुए धर्मपुर की विकास योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने में लगे हुए हैं। पिछले 16 महींनों में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के दो बडे़ सफल कार्यक्रम धर्मपुर विस में कई बड़ी योजनाएं जनता को देकर गए

लगातार सात चुनाव जीते, इस बार 11964 वोट से फहराया परचम

महेंद्र सिंह ठाकुर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश की राजनीति में शायद ऐसे राजनेता हैं, जिनके राजनीतिक सफर किसी कहानी से कम नहीं है। महेंद्र सिंह ठाकुर ने अपने जीवन के पहले चार चुनाव लगातार अलग-अलग चुनाव चिन्ह व दलों से लड़ें और चारों में उन्हें जीत मिली।  धर्मपुर के विधायक अब तक सात चुनाव लगातार जीत चुके हैं। उन्होंने इस बार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चंद्रशेखर ठाकुर को हराया है।  महेंद्र सिंह ठाकुर11964 मतों से जीते हैं।

धर्मपुर में 110 करोड़ से बिछेगा सड़कों का जाल

धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र  का संधोल क्षेत्र हमेशा खराब सड़कों की दंश झेलता आया है, लेकिन इस बार आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर का संधोल क्षेत्र की सड़कों पर विशेष फोकस है। क्षेत्र की सड़कों के लिए करोड़ों रुपए मंजूर किए गए हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत पूरे धर्मपुर क्षेत्र में सड़कों पर 110 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। इससे आने वाले समय में लोगों को बेहतर यातायात की सुविधा मिलेगी।

बक्कर खड्ड पर तीन पुल घटाएंगे दूरी

पुल फासला पाटने के लिए सबसे सुगम जरिया हैं। बक्कर खड्ड पर इसी फासले को पाटने के लिए तीन पुलों का निर्माण किया जाना है। इससे लोगों के समय में बचत के साथ ही किराए के खर्च में कटौती होगी। इसमें करीब 40 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

संधोल-धर्मपुर को 100 बेड के अस्पताल 

लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए भी विधायक महेंद्र सिंह ठाकुर प्रयास कर रहे हैं। उनका मानना है कि जिस भरोसे के साथ लोगों ने उन्हें चुना है, वह उस भरोसे पर खरा उतरे हैं। 16 महीनों में धर्मपुर को स्वास्थ्य क्षेत्र में भी दो बडे़ अस्पताल मिले हैं। ये अस्पताल कब संपूर्ण सुविधाओं से लैस होंगे, ये अलग बात है, लेकिन महेंद्र सिंह ठाकुर दस बिस्तरों वाले संधोल व धर्मपुर अस्पताल को   सरकार से दिला कर 100-100 बेड स्वीकृत करवा चुके हैं। 

दो विद्युत सब-स्टेशन

16 महीनों के अपने छोटे से कार्यकाल में ही  धर्मपुर विधनसभा क्षेत्र को दो विद्युत सब-स्टेशन भी मिले हैं। स्थानीय विधायक के अथक प्रयासों से सरकार ने 132 केवी धर्मपुर और 33 केवी मंढी का शिलान्यास किया है। इससे कई गांवों में कम वोल्टेज की दिक्कत खत्म हो जाएगी। लोगों को पहले लो वोल्टेज से जूझना पड़ता था।

दो बस डिपो के साथ एक बस अड्डा भी

एक समय था, जब महेंद्र सिंह ठाकुर परिवहन मंत्री थे और धर्मपुर के हर कोने में सरकारी बसें दौंड़ती थीं। अब सरकार के इन16 महीनों में भी धर्मपुर को दो बस डिपो मिले हैं। इनमें बस डिपो धर्मपुर और सब डिपो संधोल जयराम सरकार ने दिए हैं। जो बरच्छबाड़ में चार करोड़ से नए बस अड्डे का शिलान्यास भी हुआ है।

मशरूम फार्म के लिए 435 करोड़

धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए अगर एक साल में सबसे बड़ी उपलब्धि कहा जाए तो वह मशरूम फार्म है। इसके लिए 434 करोड़ रुपए मंजूर हुए हैं। फार्म क्षेत्र में मशरूम की खेती को तो प्रोत्साहित करेगा ही बल्कि कई किसानों के लिए आजीविका का अच्छा साधन भी हो सकता है। यह हिमाचल का पहला मशरूम फार्म होगा और इसे विधानसभा क्षेत्र के सिद्धपुर में लगाया जाना है।

टिहरा को आईपीएच सब-डिवीजन दिलवाया

आईपीएच मंडल के अलावा धर्मपुर विधानसभा के दो क्षेत्रों को आईपीएच सब-डिवीजन की भी सौगात मिली है। विधानसभा क्षेत्र के टिहरा और मंडप में आईपीएच के उपमंडल कार्यालय खुलवाए गए हैं।

संधोल को 25 करोड़ की सिंचाई योजना मंजूर

क्षेत्र की खुशहाली के लिए सभी मूलभूत सुविधाओं का होना अति आवश्यक है और इसी को ध्यान में रखते हुए महेंद्र सिंह ठाकुर लगातार प्रयास कर रहे हैं। धर्मपुर में खेती बाड़ी आजीविका का बड़ा साधन है। इसी के चलते महेंद्र सिंह ठाकुर ने किसानों की ओर खास ध्यान दिया है। सड़कों की खराब हालत से जूझ रहे संधोल क्षेत्र में किसानों के लिए राहत की बात है। प्रदेश सरकार ने संधोल के लिए 25 करोड़ की सिंचाई योजना की स्वीकृति दी है। जिससे सैकड़ों किसानों के खेतों में पानी पहुंचेगा।

सज्याओपिपलू को आईपीएच डिवीजन

धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र की सबसे बड़ी पंचायत को आईपीएच डिवीजन की सौगात मिली है। सज्याओपिपलू को सिंजाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग का मंडल मिला है। हालांकि इसका कार्यालय भराड़ी में खोला जा रहा है।

संधोल को आईटीआई भवन

आईटीआई स्किल इंडिया में सबसे कारगर शिक्षा है। 12वीं पास युवाओं को घर से दूर स्किल्ड होने के लिए यह एक बेहतर विकल्प है। संधोल के आईटीआई भवन के लिए पांच करोड़ रुपए मंजूर हुए हैं।

एक केंद्रीय विद्यालय, एक आदर्श विद्यालय

धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र में दो केंद्रीय विद्यालयों वाला विधानसभा क्षेत्र भी बन गया है। एक केंद्रीय विद्यालय, जहां पूर्व सरकार के समय धर्मपुर को मिला है। तो वहीं इन 16 महींनों में धर्मपुर कस्बे को एक केंद्रीय विद्यालय मिला है, जबकि प्रदेश सरकार ने धर्मपुर के लिए एक मुख्यमंत्री आदर्श विद्यालय भी दिया है, जिसका शिलान्यास मढ़ी में हुआ है। इससे छात्रों को घर-द्वार शिक्षा मिलेगी।

पहली सैनिक अकादमी धर्मपुर में

प्रदेश की सैनिक अकादमी भी धर्मपुर में खुलने जा रही है। जिसे प्रदेश सरकार से मंत्रिमंडल में भी मंजूरी मिल चुकी है। यह अकादमी धर्मपुर के बकारटा रखोह में खुलेगी। इससे पूरे हिमाचल को काफी लाभ मिलेगा।

15 हजार करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट लाए महेंद्र ठाकुर

लगातार सातवीं बार धर्मपुर विस का प्रतिनिधित्व कर रहे आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर अपने राजनीतिक जीवन में अब तक चाहे जिस भी ओहदे पर रहे हों, वह हमेशा सुर्खियों में ही रहते आए हैं। सुर्खियों में चाहे विकास की योजनाएं हों, विपक्ष की आलोचनाएं हों या फिर उनकी कार्यप्रणाली। महेंद्र सिंह ठाकुर ने विभिन्न विभागों का मंत्री रहते हुए हमेशा अपनी अलग ही छाप छोड़ी है। इस बार तो उन्हें जयराम सरकार में नंबर दो का ओहदा मिला हुआ है और वह आईपीएच व बागबानी जैसे दो अति महत्त्वपूर्ण विभागों का जिम्मा संभाल रहे हैं। अपने वर्तमान दायित्व में अब तक महेंद्र सिंह ठाकुर प्रदेश के लिए केंद्र सरकार से विभिन्न बैंकों द्वारा पोषित 15 हजार करोड़ के लगभग के प्रोजेक्ट प्रदेश के लिए ले आए हैं, लेकिन महेंद्र सिंह ठाकुर इसका श्रेय भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को देते हैं। महेंद्र सिंह ठाकुर कहते हैं कि मंत्री चाहे छोटा हो या बड़ा, मुख्यमंत्री के सहयोग व समर्थन के बिना कुछ नहीं कर सकता है। उनका कहना है कि अब तक जो प्रदेश को प्रोजेक्ट मिले हैं, उनके पीछे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की प्रेरणा व पूर्ण सहयोग है। महेंद्र सिंह ठाकुर बताते हैं कि लगभग 15 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट प्रदेश को मिले हैं, जिसमें अस्सी प्रतिशत ग्रांट है और मात्र बीस प्रतिशत खर्चा प्रदेश सरकार ने करना है, जिसमें ब्रिक्स के तहत 3267 करोड़ का प्रोजेक्ट मिला है, जिसमें साठ विधानसभा क्षेत्रों की 40 लाख से अधिक आबादी को दशकों तक पर्याप्त पेयजल मिलना है। इसके साथ जो क्षेत्र छूट गए हैं, उनके लिए केंद्र से ही 1050 करोड़ का प्रोजेक्ट मिला है, जिसमें वर्ष 2000 से पहले की सभी पेयजल योजनाओं को विकसित किया जाएगा। इसी तरह से किसान व बागबानों की आय को दोगुना करने के लिए बारिश की एक-एक बूंद का संग्रहण कर उसे किसानों व बागबानों के खेत में पहुंचाने के लिए 4757 करोड़ का प्रोजेक्ट केंद्र से स्वीकृत हुआ है। सेब बेल्ट को छोड़ शेष निचले जिलों में बागबानी को बढ़ावा देने के लिए 1688 करोड़ का प्रोजेक्ट भी केंद्र से मिला है। इसी तरह से उत्तर भारत का पहला 430 करोड़ का मशरूम प्रोजेक्ट भी हिमाचल प्रदेश को मिला है, जिसका मुख्य सेंटर धर्मपुर विस में बनेगा।

4893 करोड़ से होगा खड्डों का तटीकरण

बाढ़ नियंत्रण व प्रदेश के नदी नालों व खड्डों के तटीकरण के लिए भी केंद्र से 4893 करोड़ के प्रोजेक्ट को केंद्र सरकार के वित्त मंत्रालय के तहत डिपार्टमेंट ऑफ इकोनोमिक अफेयर की स्क्रीन कमेटी से स्वीकृति मिल गई है। महेंद्र सिंह ठाकुर कहते हैं कि इतने प्रोजेक्ट लेने में वर्षों लगते हैं, लेकिन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की इच्छा व सहयोग से सरकार ने 16 महीनों में यह करके दिखाया है। यह प्रोजेक्ट जब धरातल पर उतरेंगे तो हिमाचल प्रदेश की तकदीर बदलेगी।

विकास से कोसों दूर धर्मपुर

धर्मपुर कांग्रेस के नेता चंद्रशेखर का आरोप

धर्मपुर से कांग्रेस के प्रत्याशी रहे व वरिष्ठ नेता चंद्र शेखर की नजरों में विधानसभा क्षेत्र को हर बार झूठे वादों से छला जाता है। उनका कहना है कि धर्मपुर क्षेत्र विकास से कोसों दूर है और भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा गढ़ है। धर्मपुर के विधायक व आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह का एक वर्ष का कार्यकाल निराशाजनक व असफल रहा है। महेंद्र सिंह ने एक वर्ष में पूरे विधानसभा क्षेत्र में क्षेत्रवाद व परिवारवाद की राजनीति को बढ़ावा दिया है। चुनावों से पूर्व जो वादे क्षेत्र की जनता से किए थे, उन्हें पूरा करने में नाकाम रहे हैं। बेरोजगारों  को रोजगार के नाम पर छला गया है। उन्होंने कहा कि रोजगार के नाम पर आईपीएच में बिना पैसों व बिना नीति, नियमों को दरकिनार करते हुए बेरोजगारों को काम पर लगाया हुआ है। स्थानीय विधायक बिना नीति के काम कर रहें है। धर्मपुर में स्थानीय विधायक का पूरा परिवार सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रहा है और लोक निर्माण विभाग व आईपीएच कार्यालय भ्रष्टाचार के अड्डे बने हुए हैं। क्षेत्र के हर विभाग में तानाशाही पूर्वक काम करवाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिन योजनाओं का श्रेय लिया जा रहा है, वह सब पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह द्वारा दी गई हैं।

धर्मपुर को नहीं सताएगी प्यास

आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने अपने दो विभागों के तहत पूरे प्रदेश के लिए काम किया है। वहीं इससे उनका अपना विस क्षेत्र धर्मपुर भी अछूता नहीं है। धर्मपुर क्षेत्र के विकास के लिए इस बार भी कई बड़ी योजनाएं महेंद्र सिंह ठाकुर लाए हैं। उनका कहना है कि धर्मपुर को आदर्श विस क्षेत्र बनाना उनका लक्ष्य है। उनका कहना है कि मेरे सपनों का धर्मपुर और मेरे सपने में धर्मपुर एक जैसा है। इसलिए मैं यहां हर सुविधा लोगों को देना चाहता हूं। महेंद्र सिंह ठाकुर कहते हैं कि मैं धर्मपुर की जनता का ऋणी हूं, जिसने 31 वर्षों से मेरा साथ नहीं छोड़ा है। धर्मपुर की भौगोलिक परिस्थितियां अन्य विधानसभा क्षेत्रों से अलग हैं। इसलिए इस बार धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र के हर घर तक पर्याप्त पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। ब्रिक्स के लिए अढ़ाई करोड़ की दो बड़ी पेयजल योजनाएं धर्मपुर में बनाई जाएंगी, जिससे दशकों तक धर्मपुर को पेयजल दिक्कत से परेशान नहीं होना पड़ेगा। इसके साथ ही 100 करोड़ रुपए क्षेत्र की सड़कों पर खर्च किए जा रहे हैं। भारी बारिश में धर्मपुर हर बार बाढ़ व ल्हासे गिरने व भूमि कटाव का सामना करता है। इसलिए प्रदेश के नदी नालों व खड्डों के तटयीकरण व बाढ़ नियंत्रण का प्रोजेक्ट धर्मुपर में भी चलाया जाएगा, ताकि यहां हर बरसात में होने वाले नुकसान से लोगों को बचाया जा सके। मशरूम केंद्र यहां खोला जा रहा हैं, जिससे सैकड़ों युवाओं को रोजगार मिलेगा। इसके साथ अन्य माध्यमों से रोजगार देने का प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा सैनिक अकादमी खोली जा रही है, जिससे युवाओं को सेना में भर्ती होने के लिए प्रशिक्षण मिलेगा।

सरकाघाट को भी पानी देगा धर्मपुर

धर्मपुर-विधानसभा क्षेत्र धर्मपुर के विधायक महेंद्र सिंह ठाकुर ने पड़ोसी विधानसभा क्षेत्र सरकाघाट की प्यास बुझाने के लिए करोड़ों रुपए की परियोजनाएं मंजूर की हैं। सरकाघाट की प्यास को धर्मपुर ही बुझाएगा। गर्मियों में सरकाघाट की जनता को पेयजल की सुविधा के लिए काफी परेशान होना पड़ता है। क्षेत्र की इस समस्या को देखते हुए विधायक ने पेयजल की समस्या के निजात को लेकर क्षेत्र में विभिन्न योजनाआें को मंजूरी प्रदान की है।

टीहरा-संधोल को लघु सचिवालय

क्षेत्र की जनता के लिए सबसे बड़ी सुविधा होती है एक छत के नीचे सभी सरकारी काम निपटाना। आईपीएच सब-डिवीजन के अलावा टिहरा को मिनी सचिवालय की सबसे बड़ी सौगात मिली है। लघु सचिवालय मंजूर हो चुका है और करीब 15 करोड़ की लागत से इसके भवन का निर्माण किया जाएगा। संधोल के लिए भी यही सुविधा मंजूर हुई है। संधोल में भी करीब 15 करोड़ की लागत से लघु सचिवालय का निर्माण होगा। लघु सचिवालय का निर्माण होने से लोगों को एक ही छत के नीचे सभी सुविधाएं मिलेंगी।