Monday, June 24, 2019 05:49 PM

हाल चुनावी साल का मंत्री के एक साल का : किशन कपूर; विधायक, धर्मशाला 

धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र से विधायक किशन कपूर को प्रदेश सरकार में खाद्य आपूर्ति विभाग का महत्त्वपूर्ण ओहदा मिला है और उन्हें लोकसभा चुनावों के लिए कांगड़ा से भाजपा उम्मीदवार बनाया गया है। प्रदेश सरकार करीब सवा साल का कार्यकाल पूरा कर चुकी है। इस दौरान हलके में किन-किन कार्र्याें को रफ्तार मिली और किन मुद्दों तक विधायक पहुंच ही नही पाए.. दखल के जरिए बता दे रहे हैं, पवन कुमार शर्मा

किशन कपूर; विधायक, धर्मशाला 

मतदाता -75397 

पोलिंग बूथ -88

प्रदेश की दूसरी राजधानी धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे विधायक एवं खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री किशन कपूर ने अपने विभाग में बड़े सुधार करने के अलावा विधानसभा क्षेत्र के आम आदमी को लाभान्वित करने की योजनाओं पर जोर दिया है। कपूर ने मंत्री का कार्यभार संभालने के बाद विभिन्न विभागों के माध्यमों से करोड़ों रुपए की नई योजनाएं बनाई हैं। शिक्षा और पेयजल सुधार व सड़क तथा परिवहन सुविधाएं बढ़ाकर जनता को सुविधाएं प्रदान की है। इसके अलावा लोगों को व्यक्तिगत स्तर पर स्वास्थ्य व अन्य सुविधाएं दिलाने पर जोर दिया है। किशन कपूर का कहना है कि धर्मशाला के निकट जदरांगल में केंद्रीय विश्वविद्यालय की आधारशिला रखवाकर उन्होंने वह बड़ा काम करवाया है, जो पिछले एक दशक से लटका था। उनका कहना है कि अब इसका काम शुरू होते ही  क्षेत्र के सैकड़ों लोगों को रोजगार व स्वरोजगार के रास्ते खुलेंगे। केंद्रीय विवि के अलावा पीजी कालेज धर्मशाला में भी नए कोर्स शुरू करवाए गए हैं,  जिससे धर्मशाला शिक्षा का बड़ा केंद्र बन कर उभरा है। इसके तहत दो मॉडल स्कूल बनाए गए हैं। जीएसएसएस दाड़ी और मंदल के लिए स्मार्ट क्लास रूम, मॉडल कम्प्यूटर लैब, लाइब्रेरी और खेल गतिविधियों के लिए दोनों स्कूलों को 21-21 लाख से अधिक की राशि स्वीकृत करवाई गई है।

यहां पिछड़ गया हलका

  1. चैतडृ में आईटी पार्क के लिए भूमि चयन किया गया था, लेकिन उसका काम अभी तक शुरू नहीं हो पाया।
  2. धर्मशाला की पहाडि़यों में पैराग्लाईडिंग के लिए स्थान चयन किया गया था, लेकिन वह कार्य भी आगे नहीं बढ़ पाया।
  3. केंद्रीय विवि का बंटवारा हो गया और सवा साल बाद भी काम शुरू नहीं हो पाया।
  4. दूसरी राजधानी के मामले में सरकार चुप है। कांगड़ा एयरपोर्ट के विस्तारीकरण का काम थम गया है।

धर्मशाला को पयर्टन, खेल एजुकेशन हब बनाएंगे कपूर

धर्मशाला के विधायक एवं मंत्री किशन कपूर का कहना है कि धर्मशाला को पर्यटन, खेल और शैक्षणिक हब बनाने का उनका सपना है। प्राकृतिक रूप से सुंदर इस शहर को केंद्र की मोदी सरकार ने स्मार्ट सिटी का दर्जा देकर इसके गांव तक को पर्यटन से जोड़ने की दिशा में नई पहल की है। उनका कहना है कि धर्मशाला देवभूमि का सबसे सुंदर शहर है और यहां आने वाले पर्यटकों सहित प्रदेश वासियों को हर सुविधा मिले, उन्होंने हमेशा इस दिशा में प्रयास किए हैं। यही वजह है कि बहुत सारी परियोजनाएं धर्मशाला को बिन मांगे भी मिली हैं। किशन कपूर कहते हैं कि धर्मशाला विस क्षेत्र पर्यटन, खेल और शिक्षा का बड़ा केंद्र होने के कारण यहां के लोगों की आर्थिकी में बदलाव आया है। उन्होंने हमेशा इसी दिशा में प्रयास किए हैं कि विकास कुछ लोगों का न हो बल्कि पूरे क्षेत्र का हो और बिना छल-कपट व बिना भेदभाव के विकास हो। पिछले सवा साल में उन्होंने लोगों के छोटे-छोटे कार्यों को करवाने के लिए ज्यादा महत्त्व दिया है। जनता के सुख -दुख में भागीदार बनना और उनके छोटे-छोटे कार्यों से उनकी मदद करना, उनके लिए सुखद अनुभूति देता है। किशन कपूर ने कहा कि धर्मशाला विस क्षेत्र को मॉडल विस क्षेत्र बनाने के लिए वह लगातार प्रयास करते आए हैं और आने वाले दिनों में इस तरफ और अधिक क्षमता से काम करेंगे।   चुनिंदा लोगों को कभी महत्त्व नहीं देते, यही वजह है कि कई बार लोग रुतबे के हिसाब से महत्त्व न मिलने के कारण नाराज भी हो जाते हैं।

कचहरी चौक में बनेगा ओवर ब्रिज

जिला मुख्यालय के अति व्यस्ततम कचहरी चौक पर लोगों को सुविधा देने के लिए यहां ओवर ब्रिज बनाने का भी प्रस्ताव है।  सभी कार्यलय यहां होने के कारण हर रोज यहां सैकड़ों लोग अपना काम करवाने आते हैं,लिहाजा यहां हर समय अत्यधिक भीड़ रहती है, इसी को ध्यान में रखकर यहां ओवर ब्रिज बनाने का प्रस्ताव है। इसके अलावा    सेके्रट हार्ट स्कूल सिद्धबाड़ी के पास भी ओवर ब्रिज बनाया जाएगा।

कांग्रेस की उपलब्धियां भुना रही भाजपा

 पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा का आरोप

पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस नेता सुधीर शर्मा का कहना है कि भाजपा मात्र कांग्रेस सरकार में शुरू हुए विकास कार्यों के उद्घाटन- शिलान्यास कर रही है। स्मार्ट सिटी से लेकर रोप-वे, आईटी पार्क, युद्ध संग्रहालय  सहित दर्जनों ऐसी परियोजनाएं हैं, जिनके कार्यों को गति देने के बजाय रोकने के प्रयास हुए हैं। श्री शर्मा का कहना है कि पहली बार इतना निराशाजनक समय देखा,जब पूर्व में चले कार्यों को रोकने के प्रयास हुए हैं। ट्यूलिप गार्डन से लेकर पार्किंग व स्मार्ट सिटी के कार्य करीब-करीब ठप कर दिए, जिससे भाजपा की जगहंसाई हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा का एक साल निराशाजनक रहा है, न तो कोई नई परियोजना शुरू हो पाई और न ही मुख्यमंत्री ने प्रदेश की दूसरी राजधानी के स्टेटस को बरकरार रखने में कोई दिलचस्ची दिखाई। सवा साल से धर्मशाला का सचिवालय सूना पड़ा है। हां, इस स्थान की अनदेखी कर धर्मशाला के महत्त्व को कम करने का प्रयास जरूर इस दौर में हुआ है। पर्यटन की दिशा में शुरू किए प्रयासों कांगड़ा हवाई अड्डे से लेकर अन्य परियोजनाओं पर जयराम सरकार ने भेदभाव की नीति अपनाई है।

145 करोड़ से और निखरेगी स्मार्ट सिटी

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में करोड़ों की परियोजनाओं के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पिछले दिनों शुभारंभ किए। धर्मशाला स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत धर्मशाला शहर में 145.43 करोड़ रुपए के उद्घाटन और शिलान्यास किए गए हैं। नागरिकों को ऑनलाइन सुविधा प्रदान करने के लिए 1.29 करोड़ की लागत से स्थानीय शासन के विकास और स्थानीय सेवाओं के विकास व सुधार के लिए धर्मशाला स्मार्ट सिटी में उपलब्ध विभिन्न सेवाओं पर जीआईएस वेब पोर्टल का शुभारंभ, किया गया। 1.17 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित ई-नगरपालिका और स्मार्ट बीकन का शुभारंभ, 35 लाख रुपए की लागत से विकसित डीएससीएल वेबसाइट का शुभारंभ, धर्मशाला स्मार्ट सिटी के रूफ टॉप सोलर पावर प्लांट की आधारशिला भी रखी, जिसका निर्माण 1.59 करोड़ रुपए की राशि खर्च कर किया जाएगा। 3.51 करोड़ और 5.49 करोड़ रुपए की लागत से पूरा होने वाले रूट जोन ट्रीटमेंट सीवरेज और अत्याधुनिक पोर्टेबल टैपड वाटर की भी आधारशिला, स्मार्ट सिटी की आंतरिक सड़कों के निर्माण और सुधार के लिए मुख्यमंत्री ने 6.82 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली समावेशी सड़कों का शिलान्यास, 24.44 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल केंद्र भवन का शिलान्यास किया, जिसमें डेटा केंद्र, कमांड एंड कंट्रोल केंद्र, मेयर कार्यालय और प्रशासनिक कार्यालय आदि होंगे। उन्होंने 9.37 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले इटेलिजेंट और बैरियर फ्री बस शेल्टर की आधारशिला रखी।

मां चामुंडा मंदिर के सौंदर्यीकरण को नौ करोड़ मंजूर

विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ चामुंडा माता  मंदिर के सौंदर्यकरण पर 9 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। यहां आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह से दिक्कत न हो, इसलिए रास्तों सहित दूसरे कार्याें पर नौ करोड़ खर्च किए जा रहे हैं। वहीं मंदिर से सौंदर्यकरण का भी काम किया जाएगा।

सात नए बस रूट किए शुरू

परिवहन निगम के माध्यम से धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में सात नए रूटों पर बस सुविधा शुरू की गई। इसमें मकलोडगंज-दिल्ली, रामुपर, सहित लोकल रूटों पर भी क्षेत्र को लोगों को सुविधाएं प्रदान की गई। इसके अलावा सात इलेक्ट्रिक बसें भी चलाई गईं।

25 लाख ऐच्छिक निधि बांटी

विधायक निधि से मंत्री किशन कपूर ने अपने विस क्षेत्र में खेल मैदानों, स्कूलों, रास्तों, भवनों सहित अन्य विकास कार्यों के लिए अब तक पौने दो करोड़ धनराशि दी है। किशन कपूर ने अपनी ऐच्छिक निधि से अब तक करीब 25 लाख रुपए लोगों को आर्थिक सहायता के लिए दिए हैं।

नरवाना स्कूल भवन का शिलान्यास

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कस्बा नरवाना में 96 लाख रुपए की लागत से बनने वाले स्कूल भवन की आधारशिला। इससे यहां पढ़ने वाले छात्रों को काफी  सुविधा मिलेगी।

दाड़ी-खनियारा पीएचसी अपग्रेड

स्थानीय विधायक के प्रयासों से स्वास्थ्य के क्षेत्र में धर्मशाला विस क्षेत्र के दाड़ी, खनियारा और चामुंडा पीएचसी को अपग्रेड कर हैल्थ वेलनेस सेंटर बनाया गया। खनियारा में डेंटल क्लीनिक खोला गया। आयुर्वेदिक जिला अस्पताल में महिला व पुरुषों के लिए अलग-अलग पंचकर्मा सेंटर बनाए गए।

1966 को सामाजिक सुरक्षा पेंशन

विधायक एवं मंत्री किशन कपूर जरुरतमंद लोगों की मदद को हमेशा ही तैयार रहते हैं। ऐसे लोगों को कामों को भी प्राथमिकता के आधार पर किया जाता है। इसी के तहत छोटे से कार्यकाल के दौरान उन्होंने धर्मशाला विधानसभा  क्षेत्र के करीब 1966 लोगों को सामाजिक पेंशन लगवाई गई।

31 परिवारों को आवास योजना का लाभ

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नौ परिवारों को घर बनाने के लिए सहायता प्रदान करवाई, जिसके तहत लोगों को 117000 राशि प्रदान की गई।  मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत 22 लाभार्थियों को 286000 की राशि गृह निर्माण के लिए प्रदान की गई है।

6634 किसानों-बागबानों तक पहुंचाई योजनाएं

बागबानी विभाग के तहत क्षेत्र के 6634 लोगों को वित्तीय व तकनीकी स्कीमों का लाभ दिया गया है।  इसके तहत बागबानों और किसानों को काफी लाभ मिलेगा। प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी इन लोगों को दी गई, ताकि वे स्वरोजगार अपना कर अपनी आर्थिकी में सुधार कर सकें।

वार मेमोरियल के लिए एक करोड़ मंजूर

युद्ध संग्रहालय के लिए मुख्यमंत्री से एक करोड़ रुपए की धनराशि स्वीकृत करवाई गई है। जिससे बंद पड़े अधूरे युद्व संग्रहालय को पर्यटकों के लिए खोला जा सके। इसका कार्य शुरू हो गया है, जिसके तहत युद्ध संग्रहालय में एचपीटी 32 एयरक्राफ्ट स्थापित किया जा रहा है। इसके अलावा  हथियार,  व युद्धों में प्रयोग किए गए सामान को स्थापित किया जा रहा है। इसके संचालन के लिए कुछ नए लोग भी रखे जा रहे हैं।

9 सब स्टेशन बनवाए, 15 ट्रांसफार्मर अपग्रेड

विद्युत विभाग के तहत धर्मशाला में नए 19 सब स्टेशन लगाए गए हैं। क्षेत्र में 15 ट्रांसफार्मर अपग्रेड किए गए, जिस पर 6025175 रुपए खर्च किए गए। इसके अलावा नई क्षेत्र में करीब चार किलोमीटर नई एलटी लाइनें बिछाई गईं। क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों पर कुल दो करोड़ रुपए खर्च किए गए।

चार करोड़ से चकाचक होगी सराह सड़क

किशन कपूर ने जिला मुख्यालय के साथ सराह में सड़क के सुधारीकरण के लिए चार करोड़ रुपए स्वीकृत करवाए हैं। बता दें कि लोग इस सड़क सुधारीकरण की मांग कई दिनों से करते आ रहे थे। लोगों की मांग पर गौर करते हुए स्थानीय  विधायक ने सड़क की मरम्मत के लिए चार करोड़ रुपए मंजूर करवाएं हैं।

84.04 करोड़ से बिछेगा सड़कों का जाल

विधायक ने 3.77 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले पार्कों और खेल के मैदानों, प्लेस मेकिंग की भी आधारशिला रखी। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धर्मशाला में 3.55 करोड़ रुपए निर्मित होने वाले स्मार्ट क्लासरूम का शिलान्यास, धर्मशाला स्मार्ट सिटी में 10 सरकारी स्कूलों में 65 क्लासरूम विकसित किए जाएंगे। विधायक ने धर्मशाला स्मार्ट सिटी के लिए 84.04 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली स्मार्ट सड़कों की आधारशिला भी रखी।

सड़कों-पुलों पर सवा तीन करोड़ खर्च

अपने करीब सवा साल के कार्यकाल के दौरान किशन कपूर ने बेहतर सड़क निर्माण पर ज्यादा ध्यान दिया । इस दौरान साढ़े सात किलोमीटर की लंबी सड़कों को चौड़ा किया गया तथा साढ़े 14 किलोमीटर सड़कों को पक्का किया गया। तीन किलोमीटर को कंकरीट से पक्का किया गया। इसके अतिरिक्त तीन नए पुलों का निर्माण, वरवाला-ठंबा गांव को सड़क से जोड़ा गया और 34 किलोमीटर सड़कों पर दोबारा टायरिंग की गई। इस दौरान सड़कों व पुलों पर 311.07 लाख व्यय किए गए।

22 हैंडपंप लगवाए, 36 पेयजल परियोजनाएं पूरी

धर्मशाला क्षेत्र में एक वर्ष में करीब 22 हैंडपंप लगाकर लोगों को पेयजल सुविधा दी गई है। इसके अलावा 36 पेयजल स्कीमों और 14 सिंचाई स्कीमों के काम पूरे किए गए हैं, जबकि 10 पेयजल योजनाएं, जिनकी लागत 2558.61 लाख, नौ सिंचाई योजनाएं,  जिन पर 794.84 लाख और एक सीवरेज स्कीम पर 996.57 खर्च किए जा रहे हैं।  नाबार्ड के तहत 18 डीपीआर तैयार की गई थी, जिनमें 14 को 2510.12 लाख की स्वीकृति मिल चुकी है और चार डीपीआर की अप्रूवल मिलनी बाकी है।

तीन उठाऊ पेयजल योजनाओं पर खर्च होंगे सवा 14 करोड़

तीन उठाऊ पेयजल योजनाओं सालिग-जथेड़, खनियारा-दाड़ी-सिद्धबाड़ी और कनेड-बलवाला का सुधारीकरण व स्तरोन्नयन परियोजना को मंजूरी मिल चुकी है और जल्द ही इसका कार्य आरंभ कर दिया जाएगा। इस कार्य पर सवा 14 रुपए करोड़ खर्च होंगे।

सात नई कूहलें बनेंगी

किसानों-बागबानों को खेतीबाड़ी हेतु बेहतर सिंचाई सुविधा के लिए क्षेत्र में सात कूहलों का निर्माण किया जाएगा। इसके तहत मच्छन दी कूहल, मच्छल कूहल,, चरान दी कूहल, दुंदी कूहल, लोअर सुक्कड़ कूहल, झियोल रसवाला कूहल, और फट और धानी कूहल, का निर्माण किया जाएगा। इन कार्यों लिए टेंडर आमंत्रित कर लिए गए हैं।