Tuesday, November 12, 2019 08:46 AM

हिंदी को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं

एसडीएम कल्पा ने स्कूली छात्रों से किया आह्वान, राजभाषा पखवाडे़ पर कार्यक्रम में शिरकत की

रिकांगपिओ -उपमंडलाधिकारी कल्पा डा. मेजर अवनिंद्र कुमार ने स्कूली विद्यार्थियों  अध्यापकों व अभिभावको से आह्वान किया  कि वें हिंदी भाषा को अपने जीवन में दैनिकचार्य में अधिक से अधिक प्रयोग करे।  उन्होंने  सभी को भाषा के शुद्ध रूप को संजो, रखने पर भी बल दिया। उपमंडलाधिकारी भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा राजभाषा पाखवडे़ के अन्तर्गत जिला स्तरीय भाषण सुलेख निबंध व प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के सम्मापन कार्यकम की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि वहीं राष्ट्र विश्व में आग्रणी श्रेणी में है जिन्होंने अपने राष्ट्र भाषा को बढ़ावा दिया। उन्होंने कहा कि आज के प्रौद्योगिक युग व जनसंचार के नए-नए संधान आने के कारण सभी भाषाओ का संक्षिप्तिकरण हुआ है। उन्होंने बच्चों से आग्रह किया कि वें भाषा के उच्चारण के साथ साथ व्याकरण में ग्रहण रूचि ले तभी वह सही प्रकार से भाषा का लेखन व संबोधन कर सकेगें। उन्होंने अध्यापकों से भी आग्रह किया कि वें हिन्दी भाषा को जन भाषा बनाने में अपना सहयोग दे।  उन्होंने कहा कि हमें हिंदी भाषा के बढ़ावा के लिए केवल एक दिन ही नहीं बल्कि पूरे वर्ष कार्य करना चाहिए । उन्होंने उम्मीद जताई की एक दिन ऐसा आएगा जब हमें हिन्दी दिवस, राजभाषा पाखवाड़ा मनाने की जरूरत हीं नहीं पडे़गी बल्कि पूरा देश स्वयं हिन्दी भाषा को अपनाएगा। कार्यक्रम में किन्नौर जिला के दुर्गम क्षेत्रों के 15 वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं के 150 बच्चों में विभिन्न प्रतिस्पाधाओं में भाग लिया। भाषण प्रतियोगिता में राजकिय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला निचार की कुमारी साक्षी प्रथम, रिकांगपीओ की नीरज सौलंकी ने दूसरा तथा कोठी पाठशाला की आरती ने तृतीय स्थान प्राप्त किया । निबन्ध लेखन प्रतियोगिता में राजकिय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कल्पा की करीना प्रथम, चगांव की दिपिका दूसरे व जवाहर नवोदय रिकांगपिओ की योजना नेगी तीसरे स्थान पर रही। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में राजकिय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कटगांव की अमीषा नेगी प्रथम, बु्रआ पाठशाला की अंजू द्वितीय तथा ब्रुआ की श्वाती तृतीय स्थान पर रही। हिन्दी सुलेख प्रतियोगिता में राजकिय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कटगांव की साक्षी पहले, किल्बा का विनय कुमार दूसरे तथा कानम की सरिता तीसरे स्थान पर रही । डा. मेजर अवनिंद्र कुमार ने विजेताओ को पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया।