हिमाचलियों के मार्गदर्शन से विदेश में भारत का डंका

वर्ल्ड मास्टर बैडमिंटन चैंपियनशिप में तीन मेडल जीतने में राजेंद्र शर्मा का अहम रोल

शिमला, हमीरपुर - पोलैंड में आयोजित वर्ल्ड मास्टर बैडमिंटन चैंपियनशिप में देश के खिलाडि़यों ने उम्दा प्रदर्शन किया है। इस प्रतियोगिता में खिलाडि़यों ने स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक हासिल किए है। भारतीय टीम के मैनेजर व हिमाचल प्रदेश बैडमिंटन एसोसिएशन के महासचिव राजेंद्र शर्मा ने बताया कि प्रतियोगिता के 40 वर्ष के पुरुषों के युगल मुकाबले में विजय लैंसी और अजीत हरीदास की जोड़ी ने स्वर्ण पदक जीता, जबकि महिलाओं के 55 वर्ष आयु वर्ग के एकल मुकाबले में मंजूसा ने रजत पदक हासिल किया। 50 वर्ष आयु वर्ग के मिश्रित मुकाबले में भारत के केपी नायब और सुजैन ने रजत पदक हासिल किया है, जबकि 45 वर्ष आयु वर्ग के पुरुषों के युगल मुकाबले में जेपी इस्माइल और राजशेखर की जोड़ी ने रजत पदक जीता। 70 वर्ष के आयु वर्ग के पुरुष एकल मुकाबले में हरवर्ट मरिंडा ने कांस्य और 65 वर्ष आयु वर्ग के पुरुषों के डबल मुकाबले में सुशील कुमार और सुरेंद्र सिंह पुंडीर ने भी कांस्य पदक हासिल किया। हमीरपुर जिला के सहायक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र शर्मा भारतीय बैडमिंटन दल के साथ बतौैर मैनेजर पोलैंड गए हुए थे। उन्होंने कहा कि देश के साथ प्रदेश के बैडमिटन खिलाड़ी हर स्तर पर उम्दा खेल का प्रदर्शन कर रहे है।

प्रीतम चौहान की कोचिंग से पाकिस्तान समेत कई देश पछाड़े

रामपुर बुशहर - अपने अनुभव से हिमाचल के शिमला जिला के छोटे से गांव कोटगढ़ से ताल्लुक रखने वाले कोच प्रीतम चौहान ने अंडर-23 भारतीय टीम को एशियन वालीबाल चैंपियनशिप की उपविजेता बना दिया है। यही नहीं, सेमीफाइनल में टीम इंडिया ने पाकिस्तान की टीम करारी हार थमाई। हालांकि फाइनल में टीम चीन से मामूली अंतर से हार गई और उसके सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। प्रीतम चौहान को पहली बार टीम का कोच बनाया गया है। उन्होंने कोच का नेतृत्व मिलते ही प्रदेश का डंका पूरे एशिया में बजा दिया। वहीं, प्रीतम चौहान के गांव कोटगढ़ के भुट्टी में इस सफलता पर खुशी की लहर है। हिमाचल प्रदेश वालीबाल एसोसिएशन के महासचिव जगीर सिंह, यशविंद्र सिंह ठाकुर, विनोज नेगी व विकास कंवर ने टीम व कोच प्रीतम चौहान को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि जब टीम कोच शिमला पहुंचेंगे, तो उनका जोरदार स्वागत किया जाएगा।

Related Stories: