Wednesday, October 23, 2019 07:45 AM

हिमाचल में आज आएगा जबरदस्त भूकंप

राज्य स्तरीय मॉकड्रिल के जरिए परखी जाएंगी आपदा प्रबंधन की तैयारियां

शिमला —प्रदेश के सभी जिलों में 11 जुलाई को संभावित भूकंप पर राज्य स्तरीय मॉकड्रिल का आयोजन किया जाएगा। इस ड्रिल की तैयारियों के सिलसिले में बुधवार को ‘टेबल टॉप’ बैठक आयोजित की गई। प्रधान सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, ओंकार शर्मा ने कहा कि यह मॉकड्रिल एक गंभीर अभ्यास होगा। इस दौरान किसी भी प्रकार की आपदा के लिए मानक संचालन प्रक्रिया तैयार करने और इसका परीक्षण करने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबन्धन के लिए मानक संचालन प्रक्रिया अत्यंत आवश्यक है। अभ्यास के दौरान आपदा के समय राज्य आपदा प्रबंधन योजना, जिला आपदा प्रबंधन योजना और विभागीय स्तर की आपदा योजनाओं की क्षमता का भी पता चल पाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभ्यास के दौरान राज्य स्तरीय आपताकालीन आप्रेशन केंद्र राज्य सचिवालय में स्थापित किया जाएगा, जबकि जिला स्तर पर संबंधित जिला मुख्यालयों पर केंद्र स्थापित किए जाएंगे, जिनका संचालन उपायुक्त करेंगे। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश में आयोजित की जाने वाली पांचवीं मॉक ड्रिल होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश भूकंप अतिसंवेदनशील जोन चार और पांच में आता है। वरिष्ठ परामर्शदाता एनडीआरएफ मेजर जनरल (सेनानिवृत्त) डा. वीके नाइक ने वीडियो कान्फ्रेंस से इस ‘टेबल टॉप’ अभ्यास का सचिवालय से संचालन किया, जिसमें सेना, वायु सेना, आईटीबीपी और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। समस्त उपायुक्तों एवं जिला स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी भाग लिया। उन्होंने मॉकड्रिल के आयोजन पर एक विस्तृत प्रस्तुति दी।

मंडी जिला का सुंदरनगर रहेगा केंद्र

निदेशक एवं विशेष सचिव राजस्व व आपदा प्रबंधन डीसी राणा ने कहा कि अध्ययन के अनुरूप भूकंप का एक काल्पनिक परिदृश्य सृजित किया जाएगा, जिसके अंतर्गत यह माना जाएगा कि प्रदेश में रिक्टर पैमाने पर आठ मेग्नीट्यूड का भूकंप आया है, जिसका केंद्र मंडी जिला का सुंदरनगर होगा, जिससे सभी जिलें व्यापक रूप से प्रभावित हुए हैं। उन्हांने कहा कि राज्य व जिला आपदा प्राधिकरणों को काल्पनिक भूकम्प के बारे में सूचना गुरुवार सुबह दी जाएगी। यह अभ्यास एनडीएमए और सैन्य कर्मचारियों के सहयोग से आयोजित किया जाएगा।

शिमला में झटके

शिमला— राजधानी में बुधवार शाम भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.1 मापी गई है। हालांकि भूकंप से कोई नुकसान नहीं हुआ है, मगर शिमला के कई स्थानों पर लोग झटकों से सहम गए। भूकंप की गहराई 10 किलोमीटर बताई जा रही है। इसकी पुष्टि मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने की हैं।