Tuesday, June 02, 2020 09:47 AM

1.30 लाख की वापसी अभी हजारों आएंगे, सीएम जयराम ठाकुर ने अलर्ट किए डीसी एसपी-सीएमओ…

शिमला - देश के विभिन्न भागों से रेलगाडि़यों से यहां पहुंचने वाले लोगों की जांच करने वाले डाक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ पुलिस कर्मियों और अन्य कर्मचारियों को सभी सुरक्षात्मक उपकरण प्रदान किए जाएं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश के सभी उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए ये निर्देश जारी किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि क्वारंटाइन सेंटर्ज में और अधिक सुविधाएं प्रदान की जाएं, ताकि लोगों को कोई दिक्कत न हो। उन्होंने कहा कि वृद्ध लोगों और दीर्घकालिक रोगियों को सभी आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए और यदि आवश्यक हो, तो उन्हें स्वास्थ्य संस्थानों में स्थानांतरित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इन संस्थानों में अलग शौचालय जैसी सुविधाएं सुनिश्चित की जानी चाहिए। सीएम ने कहा कि 25 अप्रैल से अब तक देश के विभिन्न भागों में फंसे 1.30 लाख से अधिक हिमाचली राज्य में पहुंच चुके हैं। प्रदेश में लगभग 81000 लोगों को होम क्वारंटाइन में और 6500 से अधिक को संस्थागत क्वारंटाइन के तहत रखा गया है। शेष ने अपनी क्वारंटाइन अवधि पूरी कर ली है। राज्य के लोगों को बाहरी राज्यों से आने वाले हिमाचलियों की प्रदेश वापसी के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि राज्य सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों की उचित जांच और चिकित्सीय परीक्षण के उपरांत ही घर जाने की अनुमति दी जाए। लोगों की सुरक्षा राज्य सरकार की उच्च प्राथमिकता है।

होम क्वारंटाइन की व्यवस्था हो मजबूत

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि होम क्वारंटाइन व्यवस्था को भी मजबूत और प्रभावी बनाया जाना चाहिए, ताकि घर में होम क्वारंटाइन में रखे गए लोगों को अलग रखा जा सके और वायरस फैलने से रोका जा सके। संस्थागत क्वारंटाइन में लगे कर्मचारियों को सभी आवश्यक सुरक्षात्मक उपकरण भी प्रदान किए जाने चाहिए, ताकि वे बिना किसी भय के काम कर सकें।

संस्थागत क्वारंटाइन का अतिरिक्त बंदोबस्त करें

मुख्यमंत्री ने आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में लोगों की प्रदेश वापसी की संभावना को ध्यान में रखते हुए उपायुक्तों को ये भी निर्देश दिए कि वे संस्थागत क्वारंटाइन के अतिरिक्त प्रबंध करें। राज्य सरकार ने कोरोना योद्धाओं की सुरक्षा के लिए पीपीई किट और अन्य सामग्रियों की पर्याप्त व्यवस्था की है। देश के अन्य हिस्सों से आने वाले सभी लोगों को संस्थागत क्वारंटाइन में रहना होगा, जब तक कि उनका कोविड परीक्षण नहीं किया जाता या नेगेटिव पाए जाने के बाद ही घर जाने की अनुमति प्रदान की जाए।

बाहर से आने वालों का डाटा भी इकट्ठा करें

जयराम ठाकुर ने कहा कि देश के अन्य हिस्सों से आने वाले हिमाचलियों का पूरा डाटा भी संकलित किया जाना चाहिए। कोविड पॉजिटिव रोगियों के संपर्क में आए सभी लोगों का पता लगाया जाए और स्क्रीनिंग पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए, ताकि उनका समय पर इलाज हो सके और इस वायरस को फैलने से रोका जा सके। इन सभी लोगों से कोरोना मुक्त ऐप डाउनलोड करवाई जाए, ताकि क्वारंटाइन में रखे गए लोगों पर प्रभावी निगरानी रखी जा सके।