Saturday, October 24, 2020 11:02 PM

150 करोड़ की ग्रांट-इन-एड की मांग

  कुल्लू-हिमाचल परिवहन सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण मंच की बैठक प्रदेश प्रवक्ता, प्रधान कुल्लू एवं केलांग अध्यक्षता में संपन्न हुई, जिसमें पेंशनरों को काफी कुछ लंबित लाभ मिलने पर पूर्व परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर का धन्यवाद किया। वहीं, मंच ने वर्तमान परिवहन मंत्री विक्रम ठाकुर से भी यह उम्मीद की है कि जो लंबित वित्तीय लाभ शेष बचे हैं, उनका भी जल्द परिवहन पेंशनरों को लाभ दिया जाए। वहीं, मंत्री से परिवहन पेंशरों की पेंशन का कोई स्थायी प्रावधान करने की वर्तमान मंत्री से आग्रह किया है, जिसके बारे में 14 अगस्त को मुख्यमंत्री के कुल्लू प्रवास पर परिवहन पेंशनरों का एक प्रतिनिधि मंडल सुरेंद्र कुमार सूद की अध्यक्षता में सीएम और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर से मिला था, जिसमें दो सूत्री मांग पत्र मुख्यमंत्री को दिया था, जिस पर मुख्यमंत्री ने मंच को यह विश्वास दिया था कि यह मसला मेरे ध्यान में है। इसका कोई न कोई हल जरूर निकाला जाएगा, जिसकी सूचना सभी को भेज दी जाएगी, जिस पर मंच की यह सलाह है कि या तो पेंशन का बजट में प्रावधान किया जाए या फिर अलग से पेंशनरों को बजट में 150 करोड़ की ग्रांट-इन-एड दी जाए और इसका हेड भी अलग बनाया जाए।

इस पैसे को पेंशन भुगतान के लिए ही खर्च किया जाए, जिससे परिवहन पेंशनरों का अपना तथा अपने परिवार का पालन-पोषण सही ढंग से किया जा सके, जिसके लिए मंच हिमाचल प्रदेश सरकार का आभारी होगा। हिमाचल परिवहन सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण मंच हिमाचल प्रदेश के प्रेस सचिव सुरेंद्र कुमार सूद ने कहा कि इस समय परिवहन पेंशनरों के वित्तीय लाभ तकरीबन 220 करोड़ है, जिसमें ग्रेच्यूटी-लीव-इन कैशमेंट, जीपीएफ तथा 1-7-2015 से आज तक महंगाई भत्ते का एरियर आठ प्रतिशत महंगाई भत्ता, मेडिकल बिल 8, 16, 24, 32 एवं 4-9-14 का एरियर 406 पेंशनरों का एक साल पेंशन एरियर, दो विशेष वेतन वृद्धियों का एरियर पिछले साल अक्तूबर से आत तक कई पेंशनरों को पेंशन नहीं लगी है। इसके अतिरिक्त पिछले निदेशक मंडल की बैठे में पेंशनरों की दो मांगों को अमलीजामा पहनाया गया था, परंतु निगम प्रबंधन उन्हें भी देने से इनकार कर रहा है, जिसमें चार प्रतिशत अंतरिम राहत एवं 18 माह का महंगाई भत्ते का एरियर उपरोक्त सभी वित्तीय लाभों के बारे में कल्याण मंच ने मांग की है। हिमाचल परिवहन सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण मंच हिमाचल प्रदेश के प्रेस सचिव सुरेंद्र कुमार सूद ने कहा कि मुख्यमंत्री एवं परिवहन मंत्री से चिर लंबित लाभों को तीन-चार किशतों में देने की मांग मंच ने की है। बैठे में रमेश कुमार, जीत राम, बावू राम, मंगत राम, भोला राम, सुशील कुमार, संतोष कुमारी, मधुवाला, निर्मला देवी, नरेंद्र कुमार, संत लाल आदि उपस्थित रहे।

The post 150 करोड़ की ग्रांट-इन-एड की मांग appeared first on Divya Himachal.