Tuesday, September 25, 2018 04:30 PM

21 फीसदी बढ़ेगा बस किराया

सुंदरनगर में परिवहन मंत्री के साथ निजी बस आपरेटर्ज की बैठक में तैयार किया गया प्रस्ताव

सुंदरनगर— हिमाचल प्रदेश में जल्द ही बस किराए में बढ़ोतरी होगी। यह वृद्धि कम से कम 21 प्रतिशत होगी। इसके साथ ही अब हिमाचल में न्यूनतम किराया भी कम से कम पांच रुपए हो सकता है। मुख्यमंत्री के आदेशों के बाद बुधवार को सुंदरनगर में परिवहन मंत्री व परिवहन सचिव के साथ निजी बस आपरेटर्ज की बैठक के बाद यह प्रस्ताव तैयार हुआ है। इस प्रस्ताव को अब अंतिम रूप देकर प्रदेश सरकार के समक्ष कैबिनेट में रखा जाएगा, जहां इस पर अंतिम मुहर लगेगी। न्यूनतम किराए को लेकर अंतिम निर्णय भी कैबिनेट में ही लिया जाएगा। इसे लेकर बैठक में सहमति नहीं बनी है। निजी बस आपरेटर 12 रुपए न्यूनतम किराए की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार इसे पांच रुपए या अधिकतम सात रुपए तक करने के लिए ही राजी है। वहीं, सुंदरनगर में हुई बैठक के बाद अब किराए की संभावित नई दरें सामने आई हैं, जिसमें मैदानी क्षेत्र में बस किराया जहां वर्तमान में 92 पैसे प्रति किलोमीटर प्रति सीट की दर से वसूला जा रहा है। उसे अब एक रुपए बारह पैसे करने का निर्णय लिया गया है। इसमें 20 पैसे प्रति किलोमीटर यानी 21.73 प्रतिशत की वृद्धि की जाएगी। वहीं, पहाड़ी क्षेत्रों में वर्तमान 1.45 रुपए प्रति किलोमीटर प्रति सीट से बढ़ाकर किराया 1.75 रुपए कर दिया जाएगा। इसमें सरकार ने 31 पैसे यानी 21.51 प्रतिशत की बढ़ोतरी करने का निर्णय लिया है। बता दें कि किराया बढ़ाने को लेकर पिछले दो दिनों तक निजी बस ऑपरेटर्ज हड़ताल पर चले हुए थे। इसके बाद मंगलवार देर रात निजी बस आपरेटर्ज की मुख्यमंत्री से मंडी में वार्ता हुई थी, जिसमें मुख्यमंत्री द्वारा किराया बढ़ाने के आश्वासन व इस संबंध में परिवहन मंत्री को बैठक करने के आदेश देने के बाद निजी बस आपरेटर ने मंगलवार को अपनी हड़ताल वापस ले ली थी। मुख्यमंत्री के इन्हीं आदेशों के चलते परिवहन मंत्री की अध्यक्षता में निजी बस ऑपरेटर्ज के साथ सुंदरनगर में सरकार की तरफ से बैठक की गई, जिसमें किराया बढ़ाने को लेकर उक्त प्रस्ताव तैयार किया गया है। परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर ने बताया कि इस बात को लेकर 25 सितंबर को होने जा रही कैबिनेट की बैठक में ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा। कैबिनेट में मुहर लगते ही नई किराया दरों की अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। वहीं बैठक में इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष राजेश पराशर ने कहा कि बस ऑपरेटर बैंक की किश्तें तक चुकाने में असमर्थ हो रहे हैं। सरकार के खिलाफ रोष प्रकट करने के लिए उन्होंने शांतिपूर्ण तरीके से हड़ताल की। उन्होंने परिवहन मंत्री के समक्ष न्यूनतम किराया 12 रुपए करने की मांग उठाई। इसके अलावा निजी ऑपरेटरों की छुट्टियों में बढ़ोतरी की मांग भी उन्होंने यूनियन की ओर से इस बैठक में की। मंत्री के आश्वासनों के बाद यूनियन की ओर से उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया गया। यह बैठक लगभग अढ़ाई घंटे चली। इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष राजेश पराशर के अलावा जिला मंडी प्रधान वीरेंद्र गुलेरिया, सचिव भूपेंद्र राव, शिमला से कमल ठाकुर, हमीरपुर से विजय ठाकुर, नरेश दर्जी, विनोद रावत, बिलासपुर, ऊना, सोलन, नालागढ़, कांगड़ा, सिरमौर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए पदाधिकारी मौजूद रहे।

किराया वृद्धि के लिए तैयार किया गया प्रस्ताव

क्षेत्र        वर्तमान दर            प्रस्तावित दर           प्रस्तावित वृद्धि

मैदानी      92 पैसे           1.12 रुपए         21.73 प्रतिशत

पहाड़ी     1.45 रुपए         1.75 रुपए          21.51 प्रतिशत

न्यूनतम किराए पर फंसा पेंच

प्राइवेट बस ऑपरेटर्ज न्यूनतम किराया 12 रुपए करने की मांग कर रहे हैं। सरकार इसे पांच रुपए या अधिकतम सात रुपए तक करने के लिए राजी है। अब इस पर अंतिम फैसला कैबिनेट बैठक में ही होगा।