Thursday, August 06, 2020 06:41 PM

75 छात्रों का करवाया दाखिला

उन्नति समाज सेवा समिति के सदस्यों ने आगे बढ़ाए हाथ,विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल के निर्देशों पर आगे बढ़ी बात नाहन - विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल के निर्देशानुसार और जिला कल्याण अधिकारी विवेक अरोड़ा की सूचना अनुसार जिला परियोजना अधिकारी एवं प्रधानाचार्य जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान ऋषिपाल शर्मा व उनकी टीम के सदस्यों प्रताप पराशर अनुभाग अधिकारी वित्त विभाग, राजेंद्र सिंह एनआरएसटी समन्वयक, हृदय राम खंड शिक्षा अधिकारी, विकास कश्यप खंड स्त्रोत समन्वयक पांवटा साहिब के साथ 11 दिसंबर को उन्नत्ति समाज सेवा समिति के सदस्यों द्वारा चिन्हित 75 विद्यार्थियों को राजकीय प्राथमिक पाठशाला अमरकोट व राजकीय माध्यमिक पाठशाला अमरकोट में कक्षा एक से आठवीं में तुरंत प्रभाव से दाखिल करवाया गया। अधिकारी ने बताया कि उन्होंने उन्नत्ति समाज सेवा गोंदपुर के तिरंगा संस्कार केंद्र के सदस्यों जिनमें मुख्य संयोजिका रणजीत कौर, संयोजक राजकुमार सैणी, सचिव बाबू राम रावत, अध्यापिका वंदना रावत व निधि बैंक के डायरेक्टर एवं प्रमुख समाजसेवी रमेश गुलेरिया तथा कमलजीत सिंह प्रधान की उपस्थिति में सभी बच्चों से बातचीत की और उन बच्चों में से अधिकतर ऐसे बच्चे थे जिनके माता-पिता स्थानीय औद्योगिक क्षेत्र में कामगार हैं। वह विद्यार्थी पहले किसी न किसी विद्यालय में पढ़ते थे। अतः शिक्षा का अधिकार अधिनियम की अनुपालना करते हुए उम्र के हिसाब से इन बच्चों में 18 बच्चों को तत्त्काल एडमिशन दिया गया और बाकी सभी बच्चों का एडमिशन तीन दिन के भीतर करने के आदेश दिए गए। यह भी निर्देश दिए गए कि इन विद्यार्थियों को एडमिशन के बाद प्रत्येक कक्षा के लिए अध्यापकों के द्वारा समर्थ किया जाएगा। अधोसंरचना के विकास के लिए रमेश गुलेरिया ने पांच लाख देने की घोषणा की और परियोजना अधिकारी ने कहा कि विभागीय स्तर पर वह विद्यालय के अधोसंरचना को विकसित करने के लिए तुरंत आदेश देंगे। शिक्षा विभाग के खंड शिक्षा अधिकारी और बीआरसी को आदेश दिए गए कि इन विद्यार्थियों के पूर्व विद्यालयों को भी इनके एडमिशन बारे सूचित किया जाए। उन्नत्ति समाज सेवा के सदस्यों ने कहा कि अब हम इन बच्चों को विद्यालय समय के बाद समर्थ बनाने की कोशिश करेंगे। इसके लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान प्रधानाचार्य ने उन्नत्ति समाज सेवा का धन्यवाद किया। इस प्रशंसनीय कार्य के लिए भविष्य में भी उनका सहयोग करने का आश्वासन दिया। यह सिरमौर के शिक्षा जगत के लिए एक अहम और मुख्य बात है जब 75 बच्चों को मुख्यधारा में शामिल किया गया। इसके लिए जिला परियोजना अधिकारी ने कहा कि भविष्य में भी आउट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन को चिन्हित करके उनको मुख्य धारा में शामिल करेंगे इसके लिए जनता का सहयोग भी अपेक्षित है।