Monday, September 16, 2019 07:31 AM

75 हजार प्रतिभागियों ने सीखी जीने की कला

डलहौजी -आर्ट ऑफ  लिविंग के संस्थापक और आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर जी द्वारा वेबकास्ट प्रसारण के माध्यम से डलहौजी के सदर बाजार में स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर परिसर में आयोजित तीन दिवसीय हैप्पीनेस शिविर संपन्न हो गया। उल्लेखनीय है कि देश विदेश के तीन हजार केंद्गों में यह प्रोग्राम वेबकास्ट के माध्यम से हुआ, जिसमें 75 हजार प्रतिभागियों ने भाग लिया। आर्ट ऑफ  लिविंग के प्रशिक्षक रत्न ने बताया कि डलहौजी में हुए इस शिविर के दौरान प्रतिभागियों को योग, ध्यान, प्राणायाम व सुदर्शन क्रिया के बारे में जानकारी दी गई। इन सब क्रियाओं के माध्यम से तनाव मुक्त, ऊर्जावान व स्वस्थ रहने के गुर सिखाए गए। उन्होंने कहा कि शिविर दौरान करवाई गई सभी क्रियाएं गुरु रवि शंकर की ओर से संचालित दि आर्ट ऑफ  लिविंग शिक्षा पद्धति पर आधारित है। उन्होंने कहा कि जीवन को सकारात्मक बनाने और तनावमुक्त रहने में योग और आध्यात्म का सामंजस्य होना जरूरी है। योग हमें स्वास्थ्य तथा ऊर्जावान बने रहने में सहयोग करता है तो वहीं, आध्यात्म जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण पैदा करता है। हैप्पीनेस प्रोग्राम में शामिल हुए लोगों ने अपना अनुभव शेयर करते हुए बताया कि सुदर्शन प्रिया के अनेक चामत्कारिक लाभ हैं। उन्होंने बताया कि सुदर्शन प्रिया करने से ओजस्वी, ऊर्जावान, तनावमुक्त, शांति, सकारात्मक नजरिया, कांफिडेंट, अच्छी नींद के साथ-साथ सुखद वातावरण सहित और भी अनेक लाभ होते हैं। इस अवसर पर गौरव, पूजा, रविंद्ग, अमरीश, राजेंद्र, अरुण पठानिया, नवदीप, संगत, चेतन, नीना, बृज बग्गा, टेक चंद, राजा राम, राजेश, अमनदीप, श्वेता, द्गवेश, अंजलि, श्रवण व चंपा आदि ने हिस्सा लिया।