Wednesday, August 05, 2020 08:19 PM

आंखें खोलने वाला संपादकीय

-विकेश कुमार बडोला, उत्तराखंड

नौ जुलाई का दूसरा संपादकीय आलेख ‘सवालों का समय नहीं’ पढ़कर अति प्रसन्नता हुई। इस आलेख के माध्यम से न केवल आलेख लेखक संपादक की विषयगत विद्वता प्रकट होती है, अपितु सेना, सैनिकों और राष्ट्रीय संप्रभुता के संबंध में पाठकों के लिए एक गहन प्रेरणा भी प्रकट होती है। जिस प्रकार विपक्ष ने गलवान और लद्दाख के अन्य क्षेत्रों पर चीन से भारत के विवाद के संबंध में ओछी राजनीति की है और अब भी कर रहा है, उस स्थिति में विपक्ष और उनके नेताओं व समर्थकों के लिए ‘सवालों का समय नहीं’ आलेख आंखें खोलने वाला है। निश्चित रूप में इस आलेख के सृजन के समय लेखक के मन में देशहित की व्यापकता कल-कल करती होगी, तब ही अति उपयोगी और जनता के लिए आदर्श बनने वाली ऐसी पत्रकारिता साकार हो पाई है। मैंने जब भी दिव्य हिमाचल के संपादकीय आलेख पढ़ें हैं, वे हिंदी के अन्य पत्रों के संपादकीय आलेखों की तुलना में अत्यधिक गहन व सूक्ष्म पत्रकारीय दृष्टि से सृजित-रचित जान पड़ते हैं।

The post आंखें खोलने वाला संपादकीय appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.