Saturday, August 08, 2020 04:57 AM

आपदा से निपटने को एनएचपीसी अलर्ट

बाढ़ की आशंका को देख सायरन बजाकर ग्रामीणों को किया जाएगा सचेत; रेडियम चेतावनी बोर्ड स्थापित

सैंज – सैंज में बहने वाली पिन पार्वती नदी की निर्मल धारा पर बने 520 मेगा वाट के पार्वती हाइड्रो प्रोजेक्ट में किसी भी अप्रिय घटना के मद्देनजर एनएचपीसी ने पुख्ता प्रबंध कर दिए हैं। बरसात के मौसम को ध्यान में रखते हुए पार्वती परियोजना प्रबंधन बाढ़ की आशंका को देखते हुए अलर्ट हो गया है। अतीत में घटनाओं से सबक लेकर एवं प्रदेश  उच्च न्यायालय के दिशा-निर्देश के अनुसार प्रोजेक्ट प्रबंधन किसी भी प्रकार का कोई जोखिम नहीं लेना चाहता है। लिहाजा एनएचपीसी ने लारजी से लेकर सैंज तक बाढ़ से पूर्व चेतावनी देने एवं सतर्क रहने के लिए जगह-जगह इलेक्ट्रिकल सायरन और रेडियम युक्त सूचना बोर्ड स्थापित किए हैं। पार्वती के डैम से पानी छोड़ने से पूर्व भारी क्षमता के हूटर बजाए जाते हैं, ताकि जल स्तर बढ़ने का आभास हो जाए। पार्वती प्रोजेक्ट चरण-3 के महाप्रबंधक विक्रम सिंह ने बताया कि बरसात के मौसम में प्रोजेक्ट के बांध से कभी-कभी पानी आना स्वाभाविक है। इसलिए घाटी की ग्रामीणों से सहयोग अपेक्षित रहेगा। सुरक्षा के मद्देनजर लारजी, बिहाली, सांपगनी, तलाड़ा, सैंज, बा, सियुंड आदि गांवों में दूर-दूर तक हूटर के जरिए नदी किनारे बसे ग्रामीणों को सूचित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पर्यटकों व आम लोगों की सुविधा व सुरक्षा हेतु रेडियम युक्त सूचना बोर्ड भी स्थापित किए गए हैं। पार्वती बेसिन में कोई  अप्रिय घटना न हो इसके लिए प्रबंधन ने चौकसी बरती है। महाप्रबंधक ने बताया कि प्रोजेक्ट  क्षेत्र में तैनात केंद्रीय सुरक्षा बल के जवान भी पूरी नजर रखे हुए हैं। यहां उल्लेखनीय यह भी है कि हर वर्ष जून माह से एनएचपीसी पावर स्टेशनों में बरसात को ध्यान में रखते हुए पुख्ता प्रबंध करती है और वैसे भी बरसात में पार्वती और उसकी सहायक नदियां ज्यादा ही संवेदनशील मानी जाती हैं, जिस कारण नदी किनारे बसे ग्रामीणों को अमूमन खतरा सताता रहता है। गौरतलब है कि एनएचपीसी ने सियुंड में 43 मीटर ऊंचा डैम स्थापित किया है, जिसके चलते सैंज घाटी के लोग बरसात के मौसम में भयभीत रहते हैं। ग्रामीणों को सैंज नदी की थोड़ी सी  गड़गड़ाहट से डर लगा रहता है। प्रोजेक्ट के महाप्रबंधक ने ग्रामीणों से अपील की है कि जलस्तर बढ़ने के बाद नदी किनारे न जाएं। उधर, सैंज घाटी की ग्राम पंचायत के प्रधानों ने एनएचपीसी की इस पहल का स्वागत किया है। तलाड़ा पंचायत की प्रधान सुनीता देवी, उपप्रधान बालकृष्ण शर्मा, लारजी  की प्रधान कांता देवी, कनौन की प्रधान किरण देवी, रैला की प्रधान खीम दासी, उपप्रधान बालमुकुंद सहित व्यापार मंडल के प्रधान योगेंद्र शर्मा ने एनएचपीसी का आभार प्रकट किया है।

जल स्तर बढ़ने पर नदी के किनारों से रहें दूर

उधर, विक्रम सिंह महाप्रबंधक  पार्वती पावर स्टेशन बिहाली ने कहा कि नदी किनारे बसे ग्रामीणों से अपील है कि जल स्तर बढ़ने के बाद नदी किनारे न जाएं। आपदा एवं बाढ़ से निपटने के लिए एनएचपीसी ने पुख्ता प्रबंध कर लिए हैं, पंचायतों को ग्रामीणों का सहयोग अपेक्षित रहेगा।

The post आपदा से निपटने को एनएचपीसी अलर्ट appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.