Wednesday, August 12, 2020 12:35 AM

अब हर सीजन में लें कचोल्टू का स्वाद, नौणी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के मार्गदर्शन से तैयार किया पकवान

सोलन की युवा उद्यमी प्रीति कश्यप ने आधुनिक रूप में लांच किया पारंपरिक व्यंजन कचोल, पाई कामयाबी

नौणी – डा. यशवंत सिंह परमार औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय (यूएचएफ) नौणी के वैज्ञानिकों के तकनीकी मार्गदर्शन में सोलन की युवा उद्यमी प्रीति कश्यप ने हाल ही में कचोल (कचोल्टू) का एक आधुनिक रूप लांच किया है। यह पारंपरिक व्यंजन एक फ्रोजन फूड के रूप में उपलब्ध होगा। प्रीति ने वर्ष 2019 में विश्वविद्यालय के खाद्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के फ्रूट एंड वेजिटेबल प्रोसेसिंग एंड बेकरी प्रोडक्ट्स में एक साल के डिप्लोमा प्रोग्राम में दाखिला लिया था। इस डिप्लोमा के दौरान, प्रीति ने मुख्यमंत्री स्टार्ट-अप योजना में अपने इस आइडिया से आवेदन किया। अनुमोदन पर अपने इस आइडिया को परिष्कृत करने और एक उत्पाद में विकसित करने के लिए इनक्यूबेटर के रूप में नौणी विश्वविद्यालय के खाद्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग आबंटित किया गया। विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डा. देविना वैद्य और उनकी टीम-डा. मनीषा कौशल व अनिल गुप्ता ने उत्पाद को विकसित करने में वैज्ञानिक इनपुट प्रदान किया। अपनी दादी द्वारा इस पारंपरिक पकवान को तैयार करते देख प्रीति को विचार आया कि इसे कैसे साल भर सभी को उपलब्ध करवाया जा सके। यह पारंपरिक पकवान ताजा मक्की के दानों को पीसकर अकसर बियूल के पत्तों पर स्टीम कर तैयार किया जाता है और घी के साथ परोसा जाता था। क्योंकि ताजा मक्की की उपलब्धता केवल बहुत ही सीमित समय तक ही रहती है, इसलिए उत्पाद केवल ताजा खपत के लिए बनाया जा सकता था। प्रीति का विचार था कि उत्पाद को आधुनिक रूप में पूरे वर्ष उपलब्ध कराना है। मुख्यमंत्री स्टार्टअप योजना ने उन्हें अपने इस आइडिया को एक उत्पाद में बदलने का मंच दिया। उत्पाद को हाल ही में नौणी विवि के कुलपति डा. परविंदर कौशल द्वारा लांच किया गया।  नौणी विवि में प्रीति ने उत्पाद की शेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए व्यापक परीक्षण किया, क्योंकि पहले यह केवल मक्की की मौसम के दौरान ही उपलब्ध होता था। विश्वविद्यालय और हिमाचल प्रदेश मुख्यमंत्री स्टार्ट-अप योजना, विश्वविद्यालय और इसके वैज्ञानिकों, और अपने परिवार का धन्यवाद दिया। विश्वविद्यालय के मेंटर ने प्रीति को बाइंडिंग मिक्स और शेल्फ लाइफ को बढ़ाने की समस्याओं को हल करने में मदद की। इस उत्पाद की शेल्फ लाइफ को नौ महीने तक बढ़ाया गया और वो भी बिना किसी संरक्षक या बाहरी स्वाद के उपयोग किए बिना।

The post अब हर सीजन में लें कचोल्टू का स्वाद, नौणी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के मार्गदर्शन से तैयार किया पकवान appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.