Thursday, January 21, 2021 10:32 PM

आध्यात्मिक मार्ग

क्रोध के कारण को देखने के बजाय, अपने शरीर और मन पर पड़ने वाले प्रभाव को देखें और फिर अपने आप को विश्राम देते रहें, स्वयं को देखें। यह दुनिया इतनी त्रुटिहीन नहीं हो सकती। इसलिए अपनी दृष्टि को व्यापक बनाएं। आप हर किसी को वैसा नहीं बना सकते जैसा आप उन्हें चाहते हैं…

यदि आप अपनी सहायता करते हैं तो भगवान भी आपकी सहायता करने के लिए तैयार हैं। भगवान उसी की सहायता करता है जो खुद अपनी सहायता करता है। आप अपनी मदद कैसे कर सकते हैं? पहले तो जीवन में अपूर्णता को, त्रुटियों को भी स्थान दें। हर किसी से एक ही रात में ही त्रुटिहीन और सिद्ध होने की उम्मीद न करें! और दूसरा है ध्यान। ध्यान मत छोडि़ए। आपको उस स्तर तक पहुंचने में काफी समय लगेगा, जहां क्रोध आपको छू भी नहीं पाता है, यह अलग-अलग रंगों में और अलग-अलग तीव्रता में आता ही रहेगा। क्रोध के कारण को देखने के बजाय, अपने शरीर और मन पर पड़ने वाले प्रभाव को देखें और फिर अपने आप को विश्राम देते रहें, स्वयं को देखें। यह दुनिया इतनी त्रुटिहीन नहीं हो सकती।

 इसलिए अपनी दृष्टि को व्यापक बनाएं। आप हर किसी को वैसा नहीं बना सकते जैसा आप उन्हें चाहते हैं। इस तरह की चीजें होने के लिए बाध्य हैं और यदि ऐसा होता है, तो ठीक है, आपके पास उससे आगे बढ़ने के लिए शक्ति, साहस और धैर्य है। ध्यान निश्चित रूप से आपको क्रोध से बाहर निकलने के लिए आवश्यक शक्ति प्रदान करेगा। ठीक है। और अगर कभी-कभी यह आता भी है तो स्वयं को दोष न दें। आध्यात्मिक मार्ग के लिए स्वयं को दोष देना, बहुत हानिकारक है। इसलिए आध्यात्मिक मार्ग में पहला कदम स्वयं को दोष देना बंद कीजिए और आगे बढ़ते रहिए। ठीक है, ठीक है गलती हो गई? कोई बात नहीं! हां। यहीं पर संघ मदद करता है। जो आप अकेले नहीं कर सकते उसमे एक संघ या समूह आपको आगे बढ़ने में मदद करेगा। संघ के कई लाभ हैं तो कुछ कमियां भी हैं। दोष यह है कि इसमें कई बार आपकी बहुत ऊर्जा लग जाती है। यह कई बार आप संघ में थकावट भी अनुभव कर सकते हैं और आपको कई बार संघ में सामंजस्य भी बैठाना पड़ सकता है।

किसी भी संघ के साथ रहने में ये 3 कमियां रहती हैं। संघ के सकारात्मक प्रभाव भी हैं। ये आपको आगे बढ़ने में मदद करता है। यह आपको आवश्यक समर्थन करता है। जब भी समर्थन की आवश्यकता होती है यह आपको समर्थन प्रणाली देता है। जब भी आपका मन ऊपर-नीचे होता है और आपकी भावनाएं ऊपर-नीचे होती हैं तो आपका विश्वास हिल जाता है। संघ आपको इन सब से निकलकर आगे बढ़ने में आपकी मदद करेगा। तो संघ के ये प्रभाव हैं। संघ के नकारात्मक प्रभाव की एक और बात ये है कि अगर संघ का एक व्यक्ति भी नकारात्मक या दुखी है और यदि आप इसे समझने के बजाय उनके साथ घुलने मिलने लगते हैं,तो वे आपको भी नीचे खींच सकते हैं।

The post आध्यात्मिक मार्ग appeared first on Divya Himachal.