Sunday, March 07, 2021 11:43 PM

फैमिली से दूर रहना मुश्किल, अफ्रीकी बल्लेबाज फाफ डु प्लेसिस ने बायो-बबल पर उठाए सवाल

कार्यालय संवाददाता— नगरोटा बगवां 

रेनबो इंटरनेशनल स्कूल के खेलो इंडिया रेजिडेंशियल टेबल टेनिस अकादमी में तीन दिवसीय 54वीं स्टैग राज्यस्तरीय टेबल टेनिस प्रतियोगिता का शुभारंभ रविवार को हुआ। प्रतियोगिता में सिटी अस्पताल कांगड़ा के मैनेजिंग डायरेक्टर डा. प्रदीप कुमार मक्कड़ ने बतौर मुख्यातिथि और डा. आशीष गर्ग हिमाचल प्रदेश टेबल टेनिस के सेक्रेटरी यशपाल राणा, कोषाध्यक्ष वृजेश कौशल, पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के चीफ मैनेजर रवि चौधरी ने विशेष अतिथियों के रूप में शिरकत की। खेल प्राधिकरण टेबल टेनिस कोच राकेश जस्सल ने मुख्यातिथि महोदय का पुष्पवृंद और स्मृति चिह्न देकर स्वागत किया।

 प्रतियोगिता में सात जिलों के लगभग 125 खिलाडि़यों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में कैडेट गर्ल्ज अंडर-12 में जिला कांगड़ा की अक्षरा वालिया विजेता और मंडी जिला की सिमरन उपविजेता रही। जिला कांगड़ा टेबल टेनिस के प्रेजिडेंट व स्टेट के वाइस प्रेजिडेंट डा. छवि कश्यप ने मुख्यातिथि व अन्य गणमान्यों का आभार प्रकट किया। साथ ही उन्होंने प्रतियोगिता में विजयी रहे छात्र-छात्राओं व उनके अभिभावकों को बधाई दी। इस अवसर पर टेबल टेनिस सेक्रेटरी अंकुश मेहरा, टेबल टेनिस कोच आरके विक्रम, टेबल टेनिस के टेक्निकल एडवाइजर हर्षल शर्मा और विकास सब्रवाल भी उपस्थित रहे।

कराची

दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज फाफ डु प्लेसिस का मानना है कि जैव सुरक्षित वातावरण में रहकर क्रिकेट खेलना खिलाडिय़ों के लिए जल्द ही बड़ी चुनौती बन सकता है। खिलाडिय़ों के लिए लंबे समय तक ऐसा करना संभव नहीं होगा। क्रिकेटर्ज को कोविड-19 महामारी के कारण कड़े दिशानिर्देशों का पालन करना पड़ रहा है। डुप्लेसिस ने कहा, हम समझते हैं कि यह बेहद कड़ा सत्र रहा और कई लोगों को इस चुनौती से जूझना पड़ा लेकिन अगर एक के बाद एक जैव सुरक्षित वातावरण में जिंदगी गुजारनी पड़ी तो यह बेहद चुनौतीपूर्ण होगा। दक्षिण अफ्रीका की टीम अभी दो टेस्ट मैचों और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की सीरीज के लिए पाकिस्तान में है।

पहला टेस्ट मैच 26 जनवरी से कराची में, जबकि दूसरा टेस्ट चार फरवरी से रावलपिंडी में खेला जाएगा। इसके बाद 11 से 14 फरवरी के बीच लाहौर में तीन टी20 इंटरनैशनल मैच खेले जाएंगे। डु प्लेसिस ने कहा, मुख्य प्राथमिकता क्रिकेट खेलना है। घर में बैठे रहने के बजाय बाहर निकलकर वह काम करना जो हमें पसंद है, इसलिए अब भी यह सबसे महत्वपूर्ण चीज है। लेकिन मुझे लगता है कि ऐसा समय आएगा जब खिलाड़ी इससे (बायो-बबल) ऊब जाएंगे।

इस स्टार बल्लेबाज ने कहा कि महामारी के कारण कई महीनों तक बनी अनिश्चितता के बाद जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शुरू हुआ तो कई खिलाड़ी लगातार दौरे कर रहे हैं और जैव सुरक्षित वातावरण में अपनी जिंदगी बिता रहे हैं। अगर आप पिछले आठ महीनों के कैलेंडर पर गौर करो तो आप देखोगे कि खिलाडिय़ों ने चार से पांच महीने बायो बबल में बिताए हैं, जो कि बहुत अधिक है। कुछ खिलाड़ी महीनों तक अपने परिवार से नहीं मिले जो कि चुनौतीपूर्ण हो सकता है।