Sunday, May 09, 2021 08:01 PM

किसानों का कमाल...160 बीघा जमीन पर संतरे का बागीचा

पुलिस प्रशासन ने दी चेतावनी; कहा, नियमों की अवहेलना हुई तो होगी कार्रवाई

कार्यालय संवाददाता—बिलासपुर प्रसिद्ध शक्तिपीठ नयनदेवी जी में होटल, गेस्ट हाउस संचालक रुकने वाले हर श्रद्धालु का रिकार्ड मेटेंन करें। अन्यथा नियमों की अवहेलना पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। जिसके चलते सभी संचालक नियमों का पालन करें। प्रसिद्ध शक्तिपीठ नयनादेवीजी में 13 से 22 अप्रैल तक चैत्र नवरात्र मेला होंगे।

इसमें प्रदेश के अलावा अन्य बाहरी राज्यों के श्रद्धालु मां के दर्शनों के लिए पहुंचते हैं। इस दौरान श्रद्धालु गेस्ट हाउस या फिर होटल में भी रुकते हैं। जिसके चलते इन श्रद्धालुओं का रिकार्ड मेंटेन करना जरूरी है। पुलिस प्रशासन की मानें तो यदि निरीक्षण के दौरान किसी तरह की कोताही पाई जाती है, तो नियमों की अवहेलना होने पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बताया जा रहा है कि कई बार लोग इस तरह की कोताही होने पर कमियों का लाभ भी उठाते हैं। आपराधिक गतिविधियों को भी बड़ी आसानी से अंजाम देते हैं। जो कि पुलिस प्रशासन के साथ ही अन्य स्थानीय लोगों के लिए समस्या पैदा करते हैं। लेकिन इस बार हर श्रद्धालु का रिकार्ड मेंटेन करने के निर्देश दिए गए हैं। जिसके चलते पुलिस प्रशासन ने होटल, गेस्ट हाउस, होम स्टे मालिकों को निर्देश दिए हैं कि जो भी व्यक्ति आपके होटल, गेस्ट हाउस, होम स्टे पर रुकता है उसका पहचान पत्र, आधार कार्ड की प्रति अपने पास रखना सुनिश्चित करें और होटल, गेस्ट हाउस, होम स्टे के रजिस्टर में प्रॉपर एंट्री करें। ताकि किसी भी अनहोनी के समय डाटा का प्रयोग किया जा सके। उधर, इस बारे में डीएसपी नयनादेवी अभिमन्यु ने कहा कि सभी होटल, गेस्ट हाउस, होम स्टे मालिकों को रिकार्ड मेटेंन करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि नियमों की अवहेलना सहन नहीं होगी।

109 साल की सुखदेई ने रविवार शाम ली अंतिम सांस, गांव में शोक की लहर

निजी संवाददाता-भराड़ी ग्राम पंचायत मरहाणा के गांव भ्योल में 109 वर्षीय सुखदेई देवी पत्नी स्वर्गीय कृपा राम स्वतंत्रता सेनानी रविवार शाम छह बजे के करीब स्वर्ग सिधार गई। उनके निधन पर क्षेत्र में शोक की लहर है। क्योंकि वह क्षेत्र की सब से ज्यादा उम्र की महिला थी। इनके तीन बेटे और चार बेटियां हैं और सभी बच्चों की शादियां कर चुके हैं। भरा पूरा परिवार छोड़कर 109 वर्षीय सुखदेव इस दुनिया को छोड़ कर चले गए। सोमवार दिन में उनका पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

उनके बड़े बेटे जगदीश प्रसाद सेवानिवृत्त तहसीलदार व पोत्रों ने उन्हें मुखाग्नि दी। उनके तीन बेटे जिनमें जगदीश प्रसाद सेवानिवृत्त तहसीलदार, डा. मदन लाल शर्मा सेवानिवृत्त डिप्टी डायरेक्टर एनिमल हसबेंडरी, डा. व रमेश कुमार सेवानिवृत्त आयुर्वेद है और चार बेटियां हैं उनमें से एक बेटी की लगभग तीन वर्ष पूर्व निधन हो चुका है। सुखदेई के छह पोते और पोतियां तथा 13 दोहते-दोहतियां हैं। सभी शादीशुदा हैं और उनके बच्चे भी हो चुके हैं। बहुत बड़े परिवार को छोड़कर सुखदेई ने इस दुनिया को अलविदा की। इस मौके पर एसडीएम घुमारवीं शशि पाल शर्मा ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी की पत्नी होने के नाते प्रशासन द्वारा जो भी उचित मुआवजा दिया जाता है वह परिवार को दे दिया जाएगा। उनकी अंतिम विदाई में क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने नम आंखों से विदाई दी। इस मौके पर ग्राम पंचायत मरहाणा के प्रधान जगत सिंह ठाकुर, उपप्रधान रवि कुमार, ग्राम पंचायत भराड़ी के प्रधान प्यारे लाल शर्मा, सीता राम, लेख राम, कृष्ण चंद, डा. नरेंद्र शर्मा, देवेंद्र शर्मा, भूपेंद्र शर्मा, रामनाथ शर्मा, राजेश शर्मा, महेंद्र शर्मा, राकेश कुमार वार्ड सदस्य, ज्ञान चंद, दीनानाथ, दीपराज, नंदलाल, राजकुमार, देवराज सहित सैकड़ों लोगों ने अंतिम विदाई में भाग लिया।

तलवाड़ा के किसानों ने पेश की बागबानी की अनोखी मिसाल, एक पौधे से मिलेंगे 40 से 50 किलो फल

सीता राम शर्मा-बम्म बिलासपुर जिला की ग्राम पंचायत तलवाड़ा के ग्रामीण किसानों ने सामूहिक बागबानी अपनाकर एक अनोखी मिशाल पेश की है। उद्यान विभाग हिमाचल प्रदेश के तत्त्वावधान में 50 किसानों ने मिलकर 160 बीघा जमीन में एक बहुत ही वैज्ञानिक तौर-तरीकों से सुंदर व आकर्षक बगीचा तैयार करने में अहम भूमिका निभाई है। पंचायत में गठित शिवा कृषक एवं बागबान विकास समूह तलवाड़ा के किसानों प्रधान बंसी राम, उपप्रधान सवर्ण सिंह, सचिव मदन मोहन, सलाहकार अशोक कुमार, राजेंद्र सिंह, रचना देवी, पुष्पा देवी, अनिता देवी, अजीत सिंह, नंद लाल, कृष्ण सिंह, रमेश कुमार, धर्म सिंह, ज्ञान चंद, प्रदीप कुमार, मंजु देवी, सुनीता देवी आदि ने बताया कि अगस्त 2019 में डेमो उदाहरण के रूप में एक हेक्टेयर भूमि में संगतरा उच्च श्रेणी पौधारोपण किया गया जो सफल व उत्साहजनक निकला। उसके बाद में इसे प्रोजेक्ट में लेकर अगस्त 2020 से उद्यान विभाग ग्यारह हेक्टेयर भूमि में बागीचा लगाने में जुट गया है। इस समय 160 बीघा जमीन में संगतरा उत्तम प्रजाति के पौधे लगा दिए गए हैं।

किसानों की मानें तो इस एकता की अनोखी पहल से भूमि विकास व अपनी खेती अपना काम, सोलर लाइट फैंसिंग बाढ़ बंदी, जंगली जानवरों बंदरों सुअरों, लावारिस पशुओं से छुटकारा, सिंचाई की ड्रिप सिंचाई व जल भंडारण, बेड बनाने व निराई-गुड़ाई मनरेगा योजना में, पौधे व खाद खेतों तक नि:शुल्क, प्राकृतिक आपदा के लिए बीमा व नुकसान का मुआवजा, बीड़ बन्ने से छेड़छाड़ नहीं तथा किसानों की आर्थिकी मजबूत करने के लिए सामूहिक योजना शुरू की गई है। एक बीघे में 120 पौधे, एक पौधा 40-50 किलो फल प्रदान करेगा। इसका प्रत्येक कार्य समूह की देखरेख में ही होगा। इस बारे तलवाड़ा पंचायत प्रधान धनी राम वर्मा ने बताया कि 160 बीघा जमीन में लग रहा सामूहिक बागबानी प्रोजेक्ट किसानों की तकदीर बदल देगा। उधर, इस बारे उद्यान विभाग कुठेड़ा व हटवाड़ में कार्यरत विकास अधिकारी विपिन कुमार ने बताया कि इस क्लस्टर रूप में किसानों को विभाग की ओर से प्रत्येक योजना का लाभ दिया जा रहा है। वहीं, भूमि विकास, बाड़बंदी, पौधारोपण, खाद, स्वरोजगार, सिंचाई व्यावस्था के सभी प्रबंध किए गए हैं। (एचडीएम)