Sunday, March 07, 2021 05:35 PM

बैजनाथ के अनिरुद्ध फ्लाइंग अफसर

टीम — मोहाली, धर्मशाला

कोरोना पॉजिटिव आए पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार और उनके बेटे को चंडीगढ़ शिफ्ट करने के बाद शनिवार को उनकी बहू और पोतियों की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें भी चंडीगढ़ शिफ्ट कर दिया गया है। गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार सहित उनका पूरा परिवार कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गया था, जिसके चलते उनकी पत्नी का निधन भी हो गया था। पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता शांता कुमार की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें पहले ही चंडीगढ़ स्थित मोहाली में फोर्टिज अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

वहीं इसके बाद शनिवार को उनकी बहू और पोतियों की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें भी मोहाली स्थित फोर्टिज अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बताया गया है कि शांता कुमार की बहू घबराहट और बैचेनी महसूस कर रही थी, जिसके बाद उन्हें मोहाली में लाया गया।

प्रदेश जल शक्ति विभाग ने शुरू की प्रक्रिया, उपभोक्ताओं को अब दफ्तरों के नहीं लगाने पड़ेंगे चक्कर

विशेष संवाददाता — शिमला

प्रदेश के जल शक्ति विभाग ने पानी के कनेक्शन देने का सिलसिला शुरू कर दिया है। नए साल में उपभोक्ताओं को यह तोहफा भी दिया गया है कि अब लोगों को दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने होंगे। एक परफॉर्मा ऑनलाइन एप्लीकेशन के लिए भरना होगा और उसमें ही पूरी जानकारी देकर लोगों को पानी के कनेक्शन मिल जाएंगे। पहली जनवरी से प्रदेश में इस व्यवस्था को लागू कर दिया गया है। ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से ही कनेक्शन मिल जाएंगे। घर बैठे लोग इसके लिए आवेदन कर सकेंगे। बताया जाता है कि इसके लिए जो भी दस्तावेज लगेंगे, उनको भी ऑनलाइन अप्लाई करके हासिल किया जा सकता है। इन दस्तावेजों को अपलोड करके आवेदन हो सकेगा।

इससे प्रदेश के लोगों को बड़ी राहत मिलेगी, क्योंकि इससे पहले कई तरह की औपचारिकताएं पूरी करने के लिए दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे। इतना ही नहीं, कई-कई दिनों तक कनेक्शन नहीं मिल पाता था, मगर अब ऑनलाइन अप्लाई करने से विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारियां तय होंगी। पहले जो लोगों को गुमराह करते रहते थे, वे नहीं कर पाएंगे और तय दिनों में पानी का कनेक्शन मिल जाएगा। इसके साथ ही कर्मचारी घर पहुंचकर कनेक्शन लगाने के लिए जरूरी कार्यों को पूरा करेंगे। जल शक्ति विभाग इसी तरह से अपनी सेवाओं को ऑनलाइन करने जा रहा है। इससे पहले शहरी क्षेत्रों में सीवरेज कनेक्शन को भी ऑनलाइन कर दिया गया है, जो कि शहरी विकास विभाग ने किया था। अब पेयजल के कनेक्शन, जिसमें घरेलू व कमर्शियल दोनों तरह के हैं, ऑनलाइन मिलेंगे। बाकायदा सभी जोन के अधिकारियों को इस संबंध में सूचना दे दी गई है।

दो साल पहले मिला था प्रोजेक्ट

विभाग को पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत करने पर काम किया जा रहा है, जिसके लिए जल शक्ति विभाग को एक प्रोजेक्ट दो साल पहले मिला था। अब निचले स्तर तक व्यवस्थाएं कर दी गई हैं, जिसके बाद अब धीरे-धीरे ऑनलाइन सेवाएं देने का क्रम शुरू कर दिया गया है। इसके साथ यहां कनेक्शन देने का सिलसिला शुरू हो गया है, जिसे समय-समय पर विभाग बंद करता रहा है।

सुरेश भारद्वाज बोले; मरीजों को कोई भी दिक्कत आए, तो तुरंत फोन घुमाएं

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने शिमला के आईजीएमसी अस्पताल का दौरा किया और कोविड-19 से संबंधित व्यवस्था का निरीक्षण किया। इस मौके पर अस्पताल प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद रहे। भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है कि कोरोना संक्रमित लोगों को अस्पताल में कोई परेशानी न हो। मंत्री ने कहा कि जिन लोगों को घर में रहने की सलाह दी गई है, उनसे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, कर्मचारी संपर्क में रहें। इस बीच भारद्वाज ने कुछ कोरोना संक्रमित दाखिल मरीजों से फोन पर बात भी की और व्यवस्था के बारे में पूछा। मंत्री ने कोरोना वार्ड की व्यवस्था भी जांची।

मंत्री ने मरीजों से चिकित्सा तथा अन्य सुविधाओं की फीडबैक ली और कहा कि वह स्वयं और उनका परिवार इस बीमारी की चपेट में आकर ठीक हो चुका है। किसी भी समस्या को लेकर मरीज उन्हें फोन पर सूचित कर सकते हैं। मरीज बेवजह न डरें। अस्पताल प्रशासन के साथ बातचीत के दौरान मंत्री ने कहा कि सरकार हर स्तर पर आम जनता के हित में खड़ी है। इससे पहले मंत्री शिमला के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के कोरोना वार्ड का दौरा कर चुके हैं और कोटखाई व रोहड़ू में अधिकारियों के साथ बैठक कर कोरोना संबंधित व्यवस्था का जायजा ले चुके हैं। मंत्री ने शिमला में घर पर आइसोलेटिड कोरोना मरीजों को पत्र भी लिखा और संयम बरतने व योग आदि का सहारा लेने की भी सलाह दी।

बिलासपुर के 90 वर्षीय संतोख दास नंगे पांव तय कर रहे जीवन का सफर

अश्वनी पंडित — बिलासपुर

बिना जूतों के चंद कदम का फासला तय करने से कतराने वालों के लिए बिलासपुर के 90 वर्षीय संतोख दास एक अनूठी मिसाल हैं। संतोख दास पिछले 50 वर्षों से नंगे पांव जिंदगी का सफर तय कर रहे हैं। उन्होंने 50 वर्षों से अपने पैरों में चप्पल व जूता नहीं पहना। वह हमेशा नंगे पांव ही रहते हैं।

90 वर्ष की लंबी आयु के इस पड़ाव में संतोख दास घर, बाजार, सड़क व जंगल आदि में नंगे पांव चलते हैं। यह उनके मन का हठ है और उन्होंने इसके लिए प्रण लिया है कि पूरी उम्र नंगे पांव रहेंगे और पैरों में कभी चप्पल या जूता नहीं पहेंगे। बुजुर्ग संतोख दास जिला बिलासपुर के नयनादेवी विधानसभा क्षेत्र के ज्योरिपत्तन के रहने वाले हैं। उन्होंने गांव में कबीरदास का मंदिर बनाया है, जहां पर एक पवित्र ग्रंथ भी रखा हुआ है। वह वहां सेवा करते हैं और अधिकतर समय वहीं पर ही बिताते हैं। संतोख दास बताते हैं कि वह लोक निर्माण विभाग स्वारघाट डिवीजन में भी कई वर्षों तक अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वह अकसर जरूरी सामान खरीदने के लिए बिलासपुर बाजार आते हैं। यहां बाजार में कुछ दुकानें ऐसी हैं, जहां वह कई वर्षों से सामान लेते आ रहे हैं। सभी दुकानदार उन्हें जानते हैं और उनके नंगे पैर रहने के प्रण को देखकर हैरान होते हैं। हाल ही में संतोख दास बिलासपुर की गांधी मार्केट में आए हुए थे। इतनी ठंड में जब वह मार्केट से नंगे पांव गुजरे, तो दुकानदार व राहगीर उन्हें देखकर हैरान रह गए। सभी लोग इस बात को लेकर हैरान थे कि इतनी ठंड में जब बिना जूते या चप्पल के रहना मुश्किल है, ऐसे में इतना बुजुर्ग व्यक्ति नंगे पांव सड़क पर चल रहा है। काफी समय तक यह बुजुर्ग बाजार में चर्चा का विषय बना रहा। वहीं, बिलासपुर मुख्य बाजार के एक दुकानदार ने बताया कि संतोख दास कई वर्षों से बाजार सामान खरीदने के लिए आ रहे हैं, लेकिन आज दिन तक उनके पांव में कोई चप्पल व जूता नहीं देखा। जब इसके बारे में उनसे पूछते हैं, तो वह यह कहते हैं कि उन्होंने प्रण लिया है कि पूरी जिंदगी नंगे पांव ही रहेंगे।

नौ किलोमीटर लंबी सुरंग में सफर करने को आतुर सैलानी

कार्यालय संवाददाता — पतलीकूहल

जब से अटल टनल रोहतांग का लोकार्पण हुआ है, तभी से इसे देखने की लालसा सैलानियों को यहां खींच ला रही है। दस हजार फीट की ऊंचाई पर बनी इस सुरंग का नजारा पर्यटकों के लिए फर्स्ट च्वाइस प्वांइट बना हुआ है। नौ किलोमीटर लंबी सुरंग में सफर करने का जो मजा पर्यटक ले रहे हैं, उससे वे बड़े प्रभावित हैं, क्योंकि इतनी लंबी खूबसूरत टनल में ये सैलानी देश में नहीं घूमे हैं। इस बार पर्यटकों को क्रिसमस व नववर्ष पर बर्फबारी का नजारा देखने को नहीं मिला, लेकिन अटल टनल रोहतांग में सफर करने से जो मानसिक संतुष्टि मिली है, उससे सभी खुश हैं।

तमिलनाडू व राजस्थान से आए पर्यटकों में पिंकी, राजेश, करीप्पा, ईशद, मोयली, यदूनेतन, माया ने बताया कि वे हर वर्ष मनाली में विंटर सीजन में आते हैं और ताजा बर्फबारी का आनंद उठाते रहे हैं, लेकिन इस बार जिस तरह का मौसम बना है, वह 100 प्रतिशत बर्फबारी के लिए उपयुक्त है, लेकिन शनिवार को मनाली में रिमझिम बारिश हुई, लेकिन मौसम का मिजाज उनकी इच्छा को पूरी करने लिए प्रयासरत है। मनाली में जिस तरह बर्फबारी का दौर चला है, उसका नजारा अपने आप में अलग है। मई-जून के महीने में भी वे रोहतांग की सैर वर्ष 2019 में कर चुके हैं। वर्ष 2020 में मनाली आने में अक्षम रहे, जिसका कारण कोविड-19 रहा, जिसने सभी को करीब आठ महीने घर के अंदर ही कैद करके रखा। चंडीगढ़ व दिल्ली से आए विद्यार्थियों में रोहित व कर्ण ने बताया कि मनाली आने का मकसद ताजा बर्फबारी में आनंद लेने का रहता है। हालांकि चंडीगढ़ से शिमला जाना साढ़े तीन घंटे में पूरा हो जाता है, लेकिन मनाली के लिए लंबा रास्ता तय करके जो आनंद रहता है, वह विंटर सीजन में मनाली पहुंचने पर पूरा होता है। इस बार मनाली आने का पहली च्वाइस अटल टनल रोहतांग के अंदर सफर करने का है, लेकिन शनिवार को मौसम खराब रहने से वे लोग टनल के अंदर नहीं जा सके। उनकी भी जिद्द है कि बिना अटल टनल रोहतांग में सफर किए वे वापस नहीं जाएंगे।

निजी संवाददाता — नारकंडा

स्नो स्टि नारकंडा से लगभग आठ किलोमीटर दूर थानाधार रोड पर बतनाल नाले में एक वैन बर्फ पर स्किड होकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। कार में सवार दो युवकों की मौके पर ही मौत हो गई और एक को घायल अवस्था में शिमला रैफर किया गया है। पुलिस के अनुसार गुरुवार रात को लगभग नौ बजे के करीब एक वैन, जो कि नारकंडा से जरोल की ओर जा रही थी, बतनाल नाले में दुर्घटनाग्रस्त होकर लगभग 400 मीटर गहरी खाई में लुढ़क गई। इस बात की सूचना पुलिस को शुक्रवार देर शाम मिली। इसके बाद पुलिस जवान मौके पर पंहुचे और स्थानीय लोगों के सहयोग से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया।

बर्फ जमी होने और गाड़ी दूर जाने के कारण अभियान में बड़ी कठिनाइयां पेश आ रही थी। सबसे पहले घायल निखिल (28) गांव क्वानू कोटगढ़ को सड़क तक लाया गया और 108 एंबुलेंस द्वारा नारकंडा में प्राथमिक उपचार के बाद शिमला रैफर किया गया। उसके बाद अंकित (24) और नेपाली मूल के युवक मनीष कुमार (27) के शवों को कड़ी मशक्कत के बाद देर शाम तक सड़क तक पहुंचाया गया। एसएचओ कुमारसैन जयदेव शर्मा ने बताया कि कुमारसैन अस्पताल मे पोस्टमार्टम के बाद दोनों युवकों के शव परिजनो को सौंप दिए गए हैं। पुलिस हादसे के कारणों की जांच कर रही है।

पद्धर में सुलगा मकान जिंदा जले कई मवेशी

स्टाफ रिपोर्टर — पद्धर जिला मंडी के तहत उपमंडल पद्धर के दुर्गम क्षेत्र चौहारघाटी की ग्राम पंचायत धमचायन के चेलिंग गांव में चार कमरों का दोमंजिला मकान शनिवार सुबह पांच बजे अचानक आग लगने से जलकर राख हो गया। राजस्व अधिकारी धमचयान के नागेश्वर कुमार ने बताया कि इसमें गोशाला भी जलकर राख हो चुकी है और उसमें बंधे एक जर्सी दूध देने वाली गाय व उसका बछड़ा, दो बैल, पांच भेड़ें भी जलकर राख हो गई। उन्होंने बताया कि आगजनी की घटना से मुरारी लाल का लगभग छह लाख रुपए से अधिक का नुकसान हो चुका है।

क्षेत्र में जिस स्थान पर यह घटना हुई, वहां ऊंचाई अधिक होने के कारण तेज हवा से आग और अधिक तेजी से भड़क उठी, जिससे आग पर काबू पाना मुश्किल हो गया। प्रत्यक्षदर्शी स्थानीय गांव की झाबटी देवी पत्नी इंद्र सिंह ने बताया कि सुबह जब पांच बजे वह कमरे से बाहर आई, तो देखा कि मुरारी लाल के मकान में आग लगी हुई है । उसने तुरंत शोर मचाना शुरू किया और गांव के सभी लोग आग पर काबू पाने में जुट गए। वहीं, धमचायन गांव की बनाई गई आपदा प्रबंधन की पूरी युवाओं की टीम ने प्रधान रोशन लाल की अध्यक्षता में आगजनी घटनास्थल पर पहुंचकर आग पर काबू करने के प्रयास शुरू किए। आग इतनी भयानक थी कि इसकी चपेट में साथ लगते मकानों को भी खतरा हो गया था, लेकिन स्थानीय लोगों और आपदा टीम की सूझबूझ से अन्य मकान राख होने से बच गए। एसडीएम पद्धर शिव मोहन सिंह सैनी ने घटना की सूचना मिलते ही राजस्व विभाग की टीम को आग से हुए नुकसान के आकलन की रिपोर्ट तैयार करने के आदेश जारी कर दिए हैं।

करसोग में गोशाला में आग, पांच पशु जले

करसोग। करसोग की दूरदराज ग्राम पंचायत शोरषण के बजैंडी गांव में एक गोशाला में भयंकर आग लगने से पांच पशु आग की भेंट चढ़ गए। दूरदराज क्षेत्र में आगजनी की घटना संबंधित जानकारी मिलने के बाद पांगणा पुलिस व राजस्व विभाग के कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे। कानूनगो मोतीराम चौहान ने बताया कि उपमंडलाधिकारी नागरिक सुरेंद्र ठाकुर व तहसीलदार राजेंद्र ठाकुर के दिशा-निर्देशानुसार पीडि़त परिवार को 20000 रुपए की राहत राशि तुरंत प्रदान कर दी गई है।

सलवाना में दोमंजिला मकान जला

डैहर सलवाना पंचायत में अग्निकांड में विधवा महिला का दोमंजिला मकान जलकर राख हो गया। जिस समय यह घटना हुई, उस समय घर के सभी सदस्य किसी काम के लिए गए हुए थे। पड़ोसियों ने दूर से घर से धुआं निकलता देख शोर मचाया और महिला व उसके बहू-बेटों को सूचित किया। आग छत से निकलने लगी। ग्रामीणों ने पुलिस और अग्निशमन सहित पंचायत पंच को भी सूचित किया। जब तक आग बुझाने की कोशिश की, तब तक सब जलकर राख हो चुका था। जानकारी के अनुसार लोअर सलवाना निवासी भाम्मा देवी पत्नी स्व डागु राम का स्लेटनुमा दो मंजिला मकान जलकर राख हो गया है। परिवार के तमाम कपड़े और राशन भी जलकर राख हो गया है। प्रशासन की ओर से अग्निकांड पीडि़त दोनों परिवारों को पांच पांच हजार रुपए का राहत मुआवजा प्रदान किया गया है।

बारिश-बर्फबारी-शीतलहरें...हाथ-पैर सुन्न

कार्यालय संवाददाता — शिमला

हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कई स्थानों पर शनिवार को हल्की बर्फबारी हुई है। राज्य के अधिकतर क्षेत्रों में दिन के समय बारिश रिकॉर्ड की गई है। बारिश व बर्फबारी होने से राज्य फिर से शीतलहर की चपेट में आ गया है। अधिकतम तापमान में एक से दस डिग्री तक की गिरावट आई है। लोग इतनी ठंड में घरों से न निकलने में ही भलाई समझ रहे हैं। मौसम विभाग ने प्रदेश में चार व पांच जनवरी को अनेक स्थानों भारी बारिश व बर्फबारी होने का अलर्ट जारी किया है। प्रदेश में छह व सात जनवरी को मौसम साफ बना रहेगा, जबकि आठ जनवरी को फिर से अनेक स्थानों पर बारिश-बर्फबारी होगी। प्रदेश में शनिवार को सुबह से मौसम खराब बना रहा। दिन के समय 11 बजे के करीब बारिश का क्रम शुरू हो गया था। ऊंचाई वाले क्षेत्रों में इस दौरान बारिश के साथ बर्फबारी हुई है।

बारिश-बर्फबारी से अधिकतम तापमान में एक से दस डिग्री तक की गिरावट आई है। सुंदरनगर व सोलन के अधिकतम तापमान में सबसे ज्यादा दस डिग्री तक की गिरावट आई है। शिमला, हमीरपुर, चंबा में आठ, कांगड़ा व बिलासपुर में सात, कल्पा व डलहौजी में छह डिग्री तक तापमान गिरा है। केलांग का अधिकतम तापमन फिर लुढ़ककर माइनस डिग्री में पहुंच गया है। प्रदेश में बीते 24 घटों के दौरान डलहौजी, हमीरपुर, धर्मपुर, जुब्बलहट्टी, कसौली, बिलासपुर नयनादेवी ओर सोलन में बारिश हुई है। बारिश होने से न्यूनतम तापमान में एक से दो डिग्री तक की गिरावट आई है। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने खबर की पुष्टि की है।

जरूरी सूचनाएं बाहरी देशों के साथ शेयर करने का आरोप, लुधियाना पुलिस ने दर्ज किया मामला

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

ऊना जिला में बड़ा मामला सामने आया है। ऊना में एक युवक पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। यह मामला पंजाब पुलिस ने लुधियाना में दर्ज किया है। युवक पर आरोप है कि उसने देश से संबंधित जरूरी सूचनाओं को अन्य देशों के साथ शेयर किया है। पंजाब पुलिस ने हिमाचल पुलिस की इजाजत के बाद युवक को हिरासत में ले लिया है। पुलिस उसे पूछताछ के लिए लुधियाना साथ ले गई है। अब पूछताछ के बाद ही साफ हो पाएगा कि वस्तुस्थिति क्या है। पुलिस के अनुसार 31 दिसंबर को पंजाब पुलिस ऊना आई थी। ऊना पहुंचने पर पुलिस ने एसपी ऊना के समक्ष सारी बातें रखी। एसपी ऊना से इजाजत लेने के बाद पंजाब पुलिस ने ऊना के बेनीवाल में रहने वाले एक युवक को हिरासत में लिया, जिसे पूछताछ के लिए अपने साथ लुधियाना ले गई है।

इस युवक के खिलाफ लुधियाना थाना में विभिन्न धाराओं के तहत देशद्रोह, जासूसी समेत अन्य धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। इस युवक के साथ पंजाब के अन्य दो युवकों के खिलाफ भी इन्हीं धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस ने इन युवकों के खिलाफ आईपीसी 1860 एक्ट के तहत 124-ए जो कि देशद्रोह का मामला है। 153-ए विभिन्न समूहों के बीच शत्रूता पैदा करना, 120-बी आपराधिक षड़यंत्र रचने के तहत धाराएं लगाई गई है। इसके अलावा पुलिस ने ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट 1923 के सेक्शन 3, 4, 5, 9 और 10 के तहत भी मुकदमे दर्ज किए हैं। ये सभी सेक्शन जासूसी, राज्य की गुप्त सूचनाओं को बाहर शेयर करने से संबंधित हैं। ऐसे में पंजाब पुलिस अब इन्हीं के आधार पर  इन सभी से पूछताछ कर रही है। सूत्र बताते हैं कि पंजाब पुलिस को कुछ इनपुट मिले थे कि कुछ युवक यहां से जासूसी कर रहे हैं। वहीं पंजाब पुलिस ने कालाअंब से भी हरियाणा निवासी एक युवक को गिरफ्तार किया है। इससे भी पूछताछ की जा रही है।

31 को आई थी पंजाब की टीम

हिमाचल पुलिस अभी इस मामले में कुछ भी कहने से बच रही है। हिमाचल पुलिस का कहना है कि पंजाब पुलिस मामले की जांच कर रही है। ऐसे में इस संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं है। वहीं, एसपी ऊना अर्जिन सेन का कहना है कि 31 दिसंबर को पंजाब पुलिस ऊना आई थी, जो कि उनकी परमिशन के आधार पर एक युवक को पूछताछ के लिए साथ ले गई है। किसी मामले को लेकर युवक पर एफआईआर दर्ज की गइ है। ऐसे में पंजाब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

शिमला। हिमाचल में कोरोना संक्रमण के मामले कम होना शुरू हो गए हैं। शनिवार को हिमाचल में दो संक्रमित मरीजों की मौत हुई है, जबकि कोरोना के 149 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 339 मरीज स्वस्थ हुए। बता दें कि 15 दिनों से हिमाचल में संक्रमण का कहर थम गया है। रिकवरी रेट भी बढ़ता जा रहा है। एक्टिव मरीज भी 2202 रह गए हैं। रोजाना एक्टिव मरीजों की संख्या कम होती जा रही है।

पांच जिलों में  एक्टिव मरीजों संख्या सैकड़े से कम हो गई है, इनमें चंबा, किन्नौर, कुल्लू, लाहुल-स्पीति, सिरमौर शामिल हैं। शनिवार को कांगड़ा जिला में 31, मंडी में 28, शिमला में 27, सोलन में 16, बिलासपुर में 12, सिरमौर में नौ, कुल्लू में आठ, ऊना में सात, लाहुल-स्पीति में पांच, किन्नौर, हमीरपुर और चंबा में दो-दो कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। नए मामलों के बाद प्रदेश में कोरोना पीडि़तों की कुल संख्या अब 55619 तक पहुंच गई है। राहत की बात यह है कि इस अवधि में 339 कोरोना मरीज ठीक भी हुए हैं और राज्य में अब तक ठीक होने वालों की संख्या 52443 हो गई है। हालांकि इसके बावजूद प्रदेश में अब भी कोरोना के 2202 एक्टिव मरीज हैं। शनिवार को दो संक्रमितों की मौत की बात करें, तो शिमला में 70 साल और कांगड़ा में 68 साल के बुजुर्ग ने दम तोड़ा। इसके साथ ही मृतकों का आंकड़ा 926 पहुंच गया है।

बैजनाथ। बैजनाथ उपमंडल की फटाहर पंचायत के अनिरुद्ध कपूर सुपुत्र कुशल कपूर का चयन भारतीय वायुसेना में बतौर फ्लाइंग अफसर हुआ है। अब वह एयर फोर्स एकेडमी हैदराबाद में एक साल की ट्रेनिंग पर जा रहे हैं। अनिरुद्ध के पिता कुशल कपूर एमईएस पालमपुर में सेवाएं दे रहे हैं। उनकी माता विमला गृहिणी हैं।

अनिरुद्ध की प्रारंभिक शिक्षा डीएवी स्कूल पालमपुर में हुई है। वर्ष  2018 में अनिरुद्ध ने आईआईआईटी रुड़की से पास आउट होकर निजी कंपनी रोबिट बोस में चयन हो गया। पर देश की सेवा के लिए तत्पर अनिरुद्ध ने नौकरी ज्वाइन नहीं की और आईएएस की तैयारी शुरू कर दी। साथ में फरवरी, 2020 में एस कैट की परीक्षा दी और परीक्षा पास कर अब उनका चयन भारतीय वायुसेना में बतौर फ्लाइंग अफसर हुआ है। अनिरुद्ध ने अपनी कामयाबी का श्रेय दादा गुरमुख सिंह, जो हिमाचल प्रदेश गद्दी यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष रह चुके हैं, गुरुजनों, माता-पिता को दिया है, जिनकी प्रेरणा से वह इस मुकाम तक पहुंचे हैं।