Monday, October 18, 2021 04:07 PM

Aryan Khan Drug Case: चार दिन से सिर्फ बिस्किट के सहारे आर्यन खान

जेल में परेशान शाहरुख का बेटा; खत्म होने लगा कैंटीन से खरीदा पानी; सेहत और सफाई को लेकर जेल अधिकारी चिंतित

एजेंसियां — मुंबई

महल जैसे घर में रहने वाले अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान का मंगलवार को आर्थर रोड जेल में पांचवां दिन था। आठ अक्तूूबर की दोपहर उन्हें यहां लाया गया था। जेल में बंद आर्यन की हालत को लेकर अब एक हैरान करने वाली जानकारी सामने आ रही है। जेल सूत्रों की मानें तो आर्यन ने जेल में आने के बाद ठीक से खाना नहीं खाया है। वह पिछले चार दिनों से कैंटीन से खरीदे बिस्किट पर जिंदा हैं। जेल के अधिकारी और कर्मचारी उन्हें लगातार समझा रहे हैं, लेकिन वह भूख नहीं लगने की बात कहते हुए कुछ भी खा नहीं रहे हैं। यह जानकारी भी सामने आई है कि मंगलवार सुबह आमद वार्ड के बाबा (कांस्टेबल) ने आर्यन को कुछ बिस्किट लाकर दिए थे। आर्यन के पास सिर्फ तीन बोतल पानी बचा है। पानी की एक दर्जन बोतलों को उन्होंने जेल में एंट्री से पहले खरीदा था। जेल सूत्रों की मानें तो आर्यन का पेट भी तीन चार दिनों से साफ नहीं हुआ है। उनके टॉयलट न जाने से जेल के अधिकारी चिंतित हैं कि कहीं उनकी तबीयत न बिगड़ जाए। जेलकर्मियों और आमद वार्ड के बाबा ने उन्हें समझाने की कोशिश की है, लेकिन आर्यन मान नहीं रहे हैं।

आर्यन के साथ अरबाज को भी एक ही सेल में रखा गया है। आर्यन के घर से दो चादर और कुछ कपड़े ही आए हैं। जेल की ओर से उन्हें एक कंबल बिछाने के लिए दिया गया है। यह भी जानकारी सामने आई है कि आर्यन चार दिनों से नहाए नहीं हैं। हालांकि जेल नियम के अनुसार उन्हें डेली शेविंग करवानी पड़ रही है। सूत्रों के मुताबिक उन्हें फिलहाल बच्चा वार्ड के नीचे वाली सेल में क्वारंटाइन करके रखा गया है। उनके साथ सेल में दो बुजुर्ग, एक विकलांग समेत तीन विचाराधीन कैदी हैं। इसी सेल में कुछ दिनों तक संजय दत्त भी रहे थे। आर्यन का क्वारंटाइन पीरियड खत्म हो जाने के बाद उन्हें यहां से निकाल कर नॉर्मल वार्ड में भेजा जाएगा। उस वार्ड में एक साथ 500 लोगों के रहने का इंतजाम है।

जमानत याचिका खारिज होने पर बढ़ सकती है परेशानी

आर्यन जिस वार्ड में रह रहे हैं, उसके ठीक बगल में कैंटीन है। इसलिए चीजें खरीदने में उन्हें दिक्कत नहीं होती है, लेकिन अगर बुधवार को उनकी जमानत याचिका खारिज हो गई, तो उनके लिए मुसीबत बढ़ सकती है। वह अगले महीने सिर्फ अढ़ाई हजार रुपए मनी ऑर्डर से जेल में मंगवा कर इस्तेमाल कर सकते हैं।

24 घंटे निगरानी में

जेल सूत्रों की माने तो वार्ड के जवाबदार और दो संतरियों को आर्यन पर नजर रखने के लिए तैनात किया गया है। वह पूरे दिन किसी से ज्यादा बात नहीं करते हैं, सिर्फ जब कोई उनसे सवाल पूछता है, तो ही वह उसका जवाब देते हैं। आर्यन का जवाबदार चेंबूर बैंक लूट का एक 21 साल का आरोपी है। आमतौर पर हर सेल में एक जवाबदार रखा जाता है, जिसका काम अन्य कैदियों पर नजर रखना और उन्हें कंट्रोल करना होता है।