Thursday, January 21, 2021 10:34 PM

बंद रहे बाजार, सड़कों पर दौड़ती रही जिंदगी, हिमाचल में सिर्फ दूध-सब्जी की दुकानें ही खुलीं

हिमाचल में सिर्फ दूध-सब्जी की दुकानें ही खुलीं, काम-धंधे के लिए निजी गाडि़यों में निकले लोग

शिमला –प्रदेश सरकार ने कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए संडे को फुल क्लोजिंग डे किया, जिसका असर पूरे प्रदेश में देखने को मिला। रविवार के दिन वैसे बाजारों में भीड़भाड़ कम ही होती है, मगर जब दुकानें पूरी तरह से बंद हों, तो लोग घरों से क्यों निकलेंगे। कुछ ऐसा ही इस रविवार को भी देखने को मिला जब बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ था। लोग केवल आवागमन के लिए ही घरों से बाहर निकले, इसके अलावा कहीं कोई नहीं दिख रहा था।

राजधानी शिमला सहित प्रदेश के सभी बाजारों में भी सन्नाटा पसरा रहा और बहुत ही कम संख्या में लोग कहीं-कहीं दिखे। हालांकि सड़कें सूनी नहीं थीं, जहां पर वाहन दौड़ते रहे, मगर शेष स्थानों पर लोग नहीं थे। प्रदेश के दूसरे स्थानों में शराब के ठेकों पर प्रतिबंध नहीं दिखा। जब पूरा बाजार बंद रखे जाने और जरूरी वस्तुओं  के लिए ही दुकानों को खोले जाने के आदेश हैं, तो शराब के ठेके क्यों खुले रहे, यह अधिकतर व्यापारी करते नजर आए। कई स्थानों पर यह ठेके खुले रहे हैं, जिनकी शिकायतें भी हुई हैं।

 वैसे आबकारी विभाग ने केवल चार जिलों शिमला, मंडी, कुल्लू व कांगड़ा में नाइट क र्यू के दौरान शराब ठेके बंद रखे जाने को कहा है, मगर संडे को सभी दुकानें बंद रखने के आदेश हैं, जिनकी शराब कारोबारी अनुपालना नहीं कर रहे हैं। संडे को फुल क्लोजिंग डे इसलिए किया गया है कि लोग घरों से न निकलें और कोरोना की चेन को तोड़ा जा सके।

अब इसके साथ शनिवार को भी नई व्यवस्थाएं हैं, जिसमें सरकारी कर्मचारियों के लिए फाइव डे वीक कर दिया गया है। शनिवार को कर्मचारी वर्ग घरों से नहीं निकलेगा, क्योंकि दफ्तर नहीं लगेंगे। हालांकि इस दिन बाजार बंद रखने की कोई घोषणा नहीं है, जिस पर भी सरकार आने वाले समय में विचार कर सकती है फिलहाल रविवार को क्लोजिंग डे का असर कोरोना के दृष्टिगत तो दिखा है और यह सही भी  है कि लोग घरों से न निकलें, क्योंकि बड़ी सं या में मामले सामने आने लगे हैं, जिसने चिंताएं बहुत बढ़ा दी हैं।

असमंजस में रहे कई कारोबारी

सुंदरनगर— बंद का असर सुंदरनगर शहर के क्षेत्रों में मिला-जुला ही रहा। कारोबारियों को जिला प्रशासन की अधिसूचना का समय रहते पता न चलने कारण सब्जी विक्रेताओं सहित अन्य जरूरी वस्तु सेवा में शामिल किए गए कारोबारी असमंजस में ही रहे। बीबीएमबी व्यापार मंडल सुंदरनगर कालोनी के प्रधान अश्विनी का कहना है कि समय पर जिला प्रशासन की ओर से जारी की गई नोटिफिकेशन रविवार बंद करने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रही।

The post बंद रहे बाजार, सड़कों पर दौड़ती रही जिंदगी, हिमाचल में सिर्फ दूध-सब्जी की दुकानें ही खुलीं appeared first on Divya Himachal.