Sunday, November 29, 2020 03:40 PM

बाजार में पंकज की ‘मृगतृष्णा’, शांता ने किया जीवन के मर्म को समझाते संग्रह का विमोचन

कोरोना के बाद उपजे हालात पर कटाक्ष, जीवन दर्शन और मानवता की महिमा को समझाता एक ऐसा काव्य संग्रह बाजार में आया, जो जख्मों पर मरहम लगाएगा। आपकी पीड़ा को साझा करेगा और जीवन जीने की कला बताएगा। इंजीनियर पंकज व्यास का काव्य संग्रह ‘मृगतृष्णा’ सोमवार को पाठकों के लिए उपलब्ध हो गया। वयोवृद्ध  भाजपा नेता, पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ साहित्यकार शांता कुमार ने काव्य संग्रह ‘मृगतृष्णा’ का विमोचन किया। जल शक्ति विभाग पालमपुर में सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत पंकज व्यास के काव्य में 44 कविताओं का संकलन है। इस पुस्तक में जीवन दर्शन का समावेश है।

 इस मौके पर शांता कुमार ने पंकज व्यास को बधाई दी और इसी तरह से लेखन में बढ़ते रहने की शुभकामनाएं दीं। पंकज व्यास ने कहा कि यह उनकी पहली पुस्तक है और जल्द ही एक और काव्य संग्रह पाठकों के लिए उपलब्ध होगा। पंकज व्यास मूल रूप से पालमपुर उपमंडल के के बंड बिहार के निवासी हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा केंद्रीय विद्यालय योल कैंट व शिमला से हुई। बहुतकनीकी संस्थान हमीरपुर से सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा व पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। श्री व्यास हिंदी के साथ-साथ पहाड़ी में भी एक से बढ़कर एक चुटीली कविताएं लिखते हैं।

The post बाजार में पंकज की ‘मृगतृष्णा’, शांता ने किया जीवन के मर्म को समझाते संग्रह का विमोचन appeared first on Divya Himachal.