Monday, October 18, 2021 03:43 PM

सूर्य नमस्कार के लाभ

सूर्य नमस्कार एक संपूर्ण शरीर की कसरत है। जिसमें आपका शरीर न केवल टोन होता है, बल्कि मांसपेशियों में कसाव भी आता है। इस कसरत को करने के लिए न किसी उपकरण की जरूरत है न ही ज्यादा जगह की। इसे हर उम्र के व्यक्ति के लिए फायदेमंद माना गया है और कोई विशेष समय भी इसके लिए आवश्यक नहीं है। आपको कुछ आसान सी बातें हैं, जो सूर्य नमस्कार करने से पहले और बाद में ध्यान करनी हैं। इससे आपको न तो मस्सल्स में दर्द होगा और न ही सूर्य नमस्कार करते समय कोई चोट लगने की संभावना होगी। आइए जानते हैं सूर्य नमस्कार से पहले किन बातों का रखें ध्यान।

शरीर को वार्म अप करंे- चाहे आप कोई भी योगासन या एक्सरसाइज कर रहे हैं, अपने शरीर को थोड़ा वार्म अप करना भी जरूरी होता है। इससे आपके शरीर से अकड़न कम होती है जिससे आप अधिक लचीलेपन से एक्सरसाइज कर पाते हैं। वार्म अप करने से सूर्य नमस्कार के समय आपका पोस्चर भी बेहतर बनता है।

सही दिशा का करें चुनाव- क्या आप जानते हैं कि सही दिशा में सूर्य नमस्कार करने से भी आपको मिलने वाले लाभ पर प्रभाव पड़ता है। अगर आप पूर्व दिशा में जहां से सूर्य निकलता है या अस्त होता है, यह आसन करते हैं, तो इससे आपको अनोखा अनुभव तो मिलता ही है। साथ में आपको बहुत सारी पॉजिटिव ऊर्जा भी मिलती है।

मुस्कुराते हुए सूर्य नमस्कार करें- सूर्य नमस्कार के अनुसार यदि कोई कार्य कृतज्ञता के भाव अनुसार किया जाता है, तो उस कार्य को करने से आपको जो सुखद अनुभव होता है और आपके चेहरे पर मुस्कान आती है वह आपको एक सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करती है।

शरीर की क्रियाओं को सुनें- सूर्य नमस्कार के द्वारा आप अपने शरीर की क्रियाओं को नियंत्रित करने के साथ-साथ उसकी सीमाओं को भी जान सकते हैं। आप कुछ दिनों बाद महसूस करेंगे कि आपका शरीर पहले से ज्यादा सक्षम और लचीला हो गया है।

सूर्य नमस्कार के बाद रिलेक्स करें- जब आपका सूर्य नमस्कार का आखरी राउंड पूरा हो जाए, तो आप को लेट जाना है और अपने शरीर को रिलेक्स कर लेना है। योग निद्रा में लेटें ताकि की गई स्ट्रेच का आपके शरीर को अधिक लाभ मिल सके। अपने शरीर और मस्तिष्क को पूर्ण विश्राम देने के लिए आप शवासन में भी लेट सकते हैं।

नियमित रूप से करें- कुछ लोग एक या दो दिन सूर्य नमस्कार करके छोड़ देते हैं लेकिन अगर आप अच्छे नतीजे चाहते हैं तो आपको रोजाना इस आसन को करना होगा। हर रोज सुबह-सुबह अपने व्यस्त शेड्यूल से लगभग 15 से 20 मिनट तो जरूर निकालें और सूर्य नमस्कार करें।

अपनी ओर से पूरा प्रयास करें- हर योग आसन की तरह अगर आपने भी इस आसन को अभी-अभी करना शुरू किया है, तो आपको सही ढंग से सीखने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि शुरुआत में बहुत से लोगों का पोस्चर सही नहीं होता है। आपको धीरे-धीरे अपनी ओर से पूरा प्रयास करना होगा और इस आसन में खुद को माहिर बना लेना होगा।

अधिक गहराई से - यदि आप चाहते हैं कि आपको ज्यादा से ज्यादा फायदे मिलें, तो इसके लिए आपको पांचवीं मुद्रा के बाद पुश अप और चौथी व आठवीं मुद्रा के बाद में कुछ अधिक बदलाव करने होंगे। हर पोज पर कुछ ज्यादा लंबे समय तक सांस लें। सांस हमेशा धीरे-धीरे लें।