Friday, February 26, 2021 04:07 AM

Bhootnath Bridge: मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के आदेश; मार्च तक तैयार करो भूतनाथ पुल

दो फरवरी से शुरू होगा वोटर लिस्ट पर काम, आठ अप्रैल से पहले करवाने हैं चुनाव

विशेष संवाददाता—शिमला

हिमाचल प्रदेश में धर्मशाला नगर निगम के साथ तीन नए बनाए गए नगर निगमों में भी चुनावी डंका बज गया है। राज्य चुनाव आयोग ने इन नगर निगमों व नई बनी नगर पंचायतों में वोटर लिस्ट की अपडेशन के लिए कार्यक्रम जारी करने का निर्णय लिया है। दो फरवरी से यहां पर वोटर लिस्ट की अपडेशन का काम शुरू कर दिया जाएगा, क्योंकि आठ अप्रैल से पहले इनमें चुनाव करवा दिए जाएंगे। धर्मशाला नगर निगम का कार्यकाल आठ अप्रैल को समाप्त हो रहा है और सरकार ने निर्णय ले रखा है कि धर्मशाला के साथ दूसरे बनाए गए नगर निगमों का चुनाव भी हो जाएगा। इसमें मंडी, पालमपुर व सोलन नगर निगम शामिल हैं, वहीं छह नई नगर पंचायते हैं, जिनमें भी चुनाव करवाया जाना है। अभी तक 50 कमेटियों में राज्य चुनाव आयोग ने चुनाव करवाया है, जिनमें अध्यक्ष व उपाध्यक्ष की तैनाती भी हो चुकी है। नगर निगमों का चुनाव पार्टी चिन्ह पर होगा या नहीं, इस पर फैसला होना है, लेकिन नगर पंचायतों में तय है कि पार्टी चिन्ह पर चुनाव नहीं होगा, क्योंकि शेष में भी नहीं हुआ है।

 हां, नगर निगम के लिए सरकार फैसला ले सकती है, जिस पर अभी विचार किया जा रहा है। इससे पहले भी शिमला नगर निगम में पार्टी चिन्ह पर चुनाव हो चुके हैं। बहरहाल, जो शेड्यूल चुनाव आयोग ने जारी किया है, उसके अनुसार दो फरवरी को वार्डों में पोलिंग स्टेशन के गठन प्रक्रिया शुरू होगी। तीन से नौ फरवरी तक मतदाताओं की पोलिंग स्टेशन के हिसाब से मैपिंग व वेरिफिकेशन कार्य किया जाएगा, वहीं 10 फरवरी को ड्राफ्ट इलेक्टोरल रोल तैयार किए जाएंगे, जबकि 11 फरवरी को इलेक्टोरल रोल के ड्राफ्ट का पब्लिकेशन होगा। यह कार्य 16 फरवरी तक चलेगा। इस दिन तक आपत्तियां व दावे किए जा सकते हैं, जिनका निपटारा 19 फरवरी तक होगा फिर 22 फरवरी तक अपील की जा सकती है। इनका निपटारा 25 फरवरी तक किया जाएगा और 26 फरवरी को इलेक्टोरल रोल फाइनल कर दिया जाएगा।

विशेष संवाददाता—शिमला

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने नगर निकाय व पंचायत चुनावों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को मत देने और उन्हें विजयी बनाने के लिए प्रदेश के लोगों का आभार प्रकट करते हुए भारी मतदान को लोकतंत्र की जीत बताया है। उन्होंने कहा है कि असली जीत तो प्रदेश के उन लोगों की है, जिन्होंने भाजपा सरकार के किसी भी दबाव को दरकिनार करते हुए अपना विश्वास कांग्रेस पर जताया है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस प्रदेश में सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ लोगों के साथ खड़ी है। पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव परिणाम पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राठौर ने कहा कि कांग्रेस को इन चुनावों में शानदार जीत हासिल हुई है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सत्ता का दुरुपयोग कर जीत कर आए कांग्रेस समर्थित लोगों को डराने व प्रलोभन देकर अपने पक्ष में लाने के लिए उन पर भारी दवाब डाल रही है। उन्होंने कहा कि नालागढ़, बद्दी और नारकंडा में भाजपा ने लोकतंत्र में जनमत का अपमान किया है और लोग इन्हें इस कृत्य के लिए कभी माफ नहीं करेंगे।

तीसरे चरण में भाजपा के 709 प्रधान-724 उपप्रधान

विशेष संवाददाता—शिमला

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने कहा कि पंचायती राज चुनावों के तीसरे चरण में भाजपा को 70 फीसदी से ज्यादा मत प्राप्त हुआ है और भाजपा के 709 प्रधान एवं 724 उपप्रधान जीत कर आए हैं, उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को जनता द्वारा प्रचंड बहुमत प्राप्त हुआ, इसके लिए हिमाचल प्रदेश की जनता का आभार। उन्होंने बताया कि बीडीसी और जिला परिषद चुनावों के परिणाम सामने आ रहे हैं। रुझानों के हिसाब से बीडीसी चुनावों में भाजपा क्लीन स्वीप करने जा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा हिमाचल प्रदेश में बेहतरीन स्थिति में है और जिस तरह चुनाव परिणाम सामने आए हैं भाजपा को जनता का बहुमत प्राप्त हुआ है, जो कि कांग्रेस के नेताओं को स्वीकार कर लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह प्रचंड बहुमत प्रदेश में जयराम ठाकुर सरकार की नीतियों पर मुहर है। चुनावी परिणामों से साफ दिखता है कि हिमाचल की जनता को प्रदेश की सरकार पर 100 फीसदी भरोसा है। उन्होंने कहा कि भाजपा के दिए गए सभी आंकड़े सटीक हैं। नगर निकायों में भी ज्यादातर भाजपा के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष बने हैं।

गणतंत्र दिवस पर फहरा सकेंगे तिरंगा, पुरानी पंचायत का कार्यकाल खत्म

दिव्य हिमाचल ब्यूरो—धर्मशाला      

पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों की प्रक्रिया पूरी होने के साथ ही शुक्रवार को पुरानी पंचायतों का कार्यकाल भी पूरा हो गया। ऐसे में नए प्रधान 24 जनवरी को शपथ ग्रहण करने के बाद 26 जनवरी को अपनी अपनी पंचायतों में तिरंगा लहरा सकेंगे। प्रधान बनते ही उनके लिए पहला गौरवान्वित करने वाला अवसर मिलने वाला है। इसके साथ प्रधानों व उपप्रधानों के सहयोगी पहली फरवरी को पंचायतों की पहली बैठक में शपथ ग्रहण करेंगे। इन्हें प्रधान ही शपथ दिलाएंगे। इसके बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जिला वाइज जिला परिषद, ब्लॉक समिति सदस्यों, प्रधानों, उपप्रधानों व वार्ड सदस्यों से रू-ब-रू होंगे। पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों पर पड़े कोरोना के प्रभाव के चलते नए चुने गए पंचायत प्रतिनिधियों को इस बार सब कुछ जल्दी-जल्दी करना होगा।

 यानी चुनाव प्रक्रिया के साथ ही 24 जनवरी को इनका शपथ ग्रहण समारोह संबंधित उपमंडल स्तर पर एसडीएम के माध्यम से होगा। इसके बाद यह 26 जनवरी से पहले अपनी-अपनी पंचायतों में विधिवत जिम्मेदारी संभाल कर काम शुरू कर सकेंगे। बीडीसी व जिला परिषद स्दस्यों को के शपथ ग्रहण के साथ ही उनके अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

सीएम चार को ऊना से करेंगे सम्मेलन की शुरूआत

पंचायत प्रतिनिधियों की शपथ ग्रहण व बीडीसी सहित जिला परिषद अध्यक्षों के चुनाव के साथ ही मुख्यमंत्री चार फरवरी को ऊना से शुरू कर प्रदेश भर में पंचायत प्रतिनिधि सम्मेलन करेंगे। प्रदेश के सबसे बड़े जिला कांगड़ा में करीब सात हजार पंचायत प्रतिनिधि होने के चलते यहां दो स्थानों पर सम्मेलन किए जा सकते हैं। इसके तुरंत बाद पंचायत प्रतिनिधियों के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम भी शुरू हो जाएंगे। इसके लिए भी पंचायती राज विभाग ने शेड्यूल तैयार करने शुरू कर दिया है।

महेरना त्रैंबला में राजेंद्र लगातार आठवीं बार बने प्रधान

नगर संवाददाता—गगल

शाहपुर विधासभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली महेरना त्रैंबला पंचायत से राजेंद्र कुमार लगातार आठवीं बार प्रधान चुने गए हैं। वह दो बार उपप्रधान व छह बार प्रधान बने हैं। राजेंद्र कुमार दो बार सर्वसम्मति से भी प्रधान चुने जा चुके हैं। उन्होंने सारा जीवन अपनी पंचायत के लोगों के लिए लगा दिया। इस समाजसेवा की वजह से उन्होंने शादी तक नहीं की। पंचायत चुनावों में राजेंद्र कुमार जितनी बार भी चुनाव लड़ा है, उसमें उन्होंने आज तक प्रचार करने के लिए कभी बड़े बैनर औनर होर्डिंग्स नहीं लगवाए। वह अपना चुनाव चिन्ह घर-घर जाकर लोगों को हाथ में बैलेट पेपर की तरह दिखाते तथा देते हैं। राजेंद्र युवाओं के लिए एक प्रेरणा स्रोत बन गए हैं।

इस बार के पंचायती राज चुनावों ने कई रिकार्ड बना डाले। जनता ने दिखा दिया कि सियासी रुतबा और ऊंची पहुंच इन चुनावों में नहीं चलती। इसकी गवाही दे रहे हैं जिला परिषद और बीडीसी के रिजल्ट, जिनमें कई जगह भाजपा के दिग्गजों को जमीन सूंघनी पड़ी, तो कहीं कांग्रेस के सूरमाओं को धूल चाटनी पड़ी। चुनावों में पहाड़ की आवाम ने अपने चहेतों पर मुहर लगाकर सियासी दलों के समीकरणों को पूरी तरह से बदल दिया...

प्रधान का चुनाव हारीं भाजपा मंडलाध्यक्ष

कई जगह पिट गए दिग्गजों के मोहरे, पूर्व सीएम धूमल के बड़े भाई पृथ्वीराज भी हारे

टीम—मंडी, सुंदरनगर, सरकाघाट

मुख्यमंत्री की किचन कैबिनेट में बैठने वाले व सत्ता के नशे में चूर कई नेताओं को पंचायत चुनावों में लोगों ने सबक सिखा दिया है। सांसद के रामस्वरूप शर्मा के भाई की वार्ड पंच चुनाव पर हार के बाद जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह के समधी और पूर्व पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के बड़े भाई पृथ्वीराज धूमल मंडी के जिला परिषद थौना वार्ड से चुनाव हार गए हैं। यहां चंद्रमोहन ने रिकार्ड मतों से जीत हासिल की है।

इसके अलावा मिल्क फेडरेशन के चेयरमैन निहाल चंद, नाचन के विधायक विनोद कुमार और सरकाघाट के विधायक कर्नल इंद्र सिंह के क्षेत्र में भाजपा की किरकिरी हुई है। सरकाघाट में भाजपा मंडल की अध्यक्ष ही प्रधान का चुनाव हार गई हैं। यहां भाजपा मंडल को उस समय करारा झटका लगा, जब मंडलाध्यक्ष और बीडीसी की अध्यक्ष निशा कुमारी नवनिर्मित पंचायत गुहमू  से 102 मतों के अंतर से चुनाव हार गईं। निशा ठाकुर को विधायक कर्नल इंद्र सिंह का खासमखास माना जाता है और विधायक ने निशा ठाकुर को विजयी बनाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था। पंचायत चुनाव में कुल पड़े 872 मतों में से उन्हें 156 मत पड़े, जबकि विजयी उम्मीदवार मीना देवी को 258 मत। मुख्यमंत्री के सबसे करीबी निहाल चंद अपनी ही पंचायत में भाजपा विचारधार के उम्मीदवार को प्रधान पद पर नहीं जिता सके हैं। यहां पर कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार को प्रधान पद पर जीत मिली है, तो वहीं नाचन विस में भाजपा की बड़ी किरकिरी हुई है।

यहां पर भाजयुमो नाचन के अध्यक्ष पंकज कुमार चच्योट पंचायत से ग्राम पंचायत प्रधान का चुनाव 250 से अधिक मतों से हार गए हैं। यही नहीं, भाजपा महिला मोर्चा नाचन की अध्यक्ष प्रधान पद का चुनाव ग्राम पंचायत छात्र से हार गई है। महिला मोर्चा की अध्यक्षा मीना कुमारी मंडल, जिला में ही नहीं, बल्कि प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी की सदस्य भी हैं, जो पंचायत प्रधान का चुनाव हार गई हैं। इसके अलावा पंचायत समिति सुंदरनगर के चेयरमैन सोहन लाल ठाकुर अपने स्थानीय वार्ड सलवान टिहरी समोना से पंचायत समिति वार्ड के भाजपा प्रत्याशी को जीत नहीं दिलवा सके हैं। यहां पर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी को हार का सामना करना पड़ा है।

भाजपा मंडलाध्यक्ष की पत्नी हारी

मंडी—पंचायत चुनावों के तीसरे व अंतिम चरण के चुनावों में परिवार के सदस्य भी चुनावी मैदान में उतरे हुए थे। किसी को जीत मिली, तो किसी को हार का सामना करना पड़ा है। पंचायत चुनावों में सुंदरनगर भाजपा मंडलाध्यक्ष की पत्नी, जो वर्तमान में भी जिला परिषद थी, अबकी बार ग्राम पंचायत चुनोल में प्रधान पद के चुनाव में हार गई हैं। मंडलाध्यक्ष के कांग्रेस समर्थित पिता शंकर सिंह इस बार भी उपप्रधान के चुनाव में जीत दर्ज कर गए हैं। वह कई दशकों से कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी के तौर पर लगातार जीत दर्ज करते आ रहे हैं।

दराटी में पर्ची से बीडीसी

पालमपुर— पालमपुर के निकटवर्ती  दराटी पंचायत में बीडीसी के चुनाव में का मुकाबला उस समय रोचक हो गया, जब दोनों उम्मीदवारों को एक बराबर मत हासिल हुए। बता दें कि दरांटी पंचायत से अंचल गुलेरिया को 486 तथा दूसरे उम्मीदवार हेमराज को भी 486 मत पड़े जिसके चलते यह मुकाबला टाई हो गया। बाद में चुनाव अधिकारियों ने पर्ची डालकर कंचन गुलेरिया को  विजयी घोषित किया गया।

कांग्रेस के पठानिया को मात

सलूणी में छात्र राजनीति से निकले विनोद ने 130 मतों से चटाई धूल

निजी संवाददाता—सलूणी

पंचायत समिति सलूणी के वार्ड डांड-सूरी सीट से जिला परिषद चंबा के निवर्तमान अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता धर्म सिंह पठानिया को हार का सामना करना पड़ा है। विनोद कुमार ने धर्म सिंह पठानिया को 130 मतों से हारकर चंबा की सियासत में एक बड़ा उल्टफेर किया है। इस सीट के नतीजे ने चंबा जिला की राजनीति में भूचाल ला दिया है। यहां धर्म सिंह पठानिया का मुकाबला छात्र संगठन की राजनीति से निकले विनोद कुमार के साथ था। शुक्रवार को घोषित नतीजों में विनोद कुमार के सिर विजेता का ताज सजा है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता, कुल्लू जिलाध्यक्ष हारे

कामरेड ने ली बुद्धि सिंह ठाकुर की विकेट, इंदु पटियाल को भी मिली करारी शिकस्त

कार्यालय संवाददाता—कुल्लू

जिला परिषद चुनाव में दिग्गज नेताओं को कांग्रेस ले चुनावी मैदान में उतारा था, लेकिन यहां उन्हें हार का सामना करना पड़ा। सबसे पहले आए नतीजे में कांग्रेस जिला अध्यक्ष बुद्धि सिंह ठाकुर हार गए, वहीं दूसरे परिणाम में कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता इंदु पटियाल को भी करारी शिकस्त मिली।  कांग्रेस के जिला अध्यक्ष बुद्धि सिंह ठाकुर पर कामरेड भारी पड़ गए।  चायल वार्ड से सीपीएमआई के प्रत्याशी पूर्ण चंद ने 6,760 मत लेकर जीत हासिल की, जबकि कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सहित भाजपा प्रत्याशी राम लाल को हार का सामन करना पड़ा।  कांग्रेस के बुद्धि सिंह ठाकुर को 5,915 मत पड़े और वह 845 वोटों से हार गए।

यही नहीं, कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता एवं धाउगी वार्ड से जिला परिषद की प्रत्याशी इंदु पटियाल भी चुनाव हार गई हैं। मजेदार बात यह है कि वह वार्ड मे पांचवें नंबर पर रही हैं। इसके अलावा जिला मुख्यालय के साथ लगते मौहल वार्ड से कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष रहे सेस राम चौधरी की विकेट भी उड़ गई है। यहां भाजपा ्रप्रत्याशी गुलाब सिंह को 8927 मत पड़े, जबकि सेसराम 8590 वोट ही ले पाए। इसके अलावा बरशैणी वार्ड में भी कांग्रेस को झटका लगा। यहां पर कांग्रेस प्रत्याशी 589 मतों से हारीं। बरशैणी में कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी  यौवन लता  को भाजपा समर्थित रेखा गुलेरिया ने हराया। रेखा गुलेरिया को 6247 मत प्राप्त हुए हैं। बाड़ी जिला परिषद वार्ड में कांग्रेस समर्थित यूपेंद्रकांत मिश्रा भी चुनाव हार गए हैं। दलाश वार्ड से उत्तम ठाकुर और लझेरी वार्ड से कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी प्रताप कटोच भी जिला परिषद चुनाव हार गए हैं।

मुख्यमंत्री के आदेश; दोषी ठेकेदार और इंजीनियरों पर की जाए कार्रवाई

दिव्य हिमाचल ब्यूरो-कुल्लू

मुख्यमंत्री ने कुल्लू के भूतनाथ पुल को मार्च माह तक तैयार करने के दिए निर्देश हैं। शुक्रवार को सीएम ने कुल्लू जिला में निर्माणाधीन विभिन्न विकास परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने जिला प्रशासन के साथ बैठक में निर्देश दिए कि सभी निर्माणाधीन परियोजनाओं को निर्धारित समय सीमा में पूरा करना सुनिश्चित बनाया जाए। उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्षों से यातायात के लिए बंद पड़े कुल्लू के भूतनाभ पुल को इसी वर्ष मार्च तक यातायात के लिए बहाल किया जाए, क्योंकि यातायात की दृष्टि से यह महत्त्वपूर्ण पुल है, जिसके बंद होने पर लोगों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि इस पुल के मरम्मत कार्य में कोई तकनीकी खामी नहीं रहनी चाहिए। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पुल निर्माण में गुणवत्ता से समझौता करने के दोषी ठेकेदार और इंजीनियरों की जिम्मेदारी तय कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाए। जयराम ठाकुर ने मनाली शहर तथा इसके समीपवर्ती गांवों के लिए 162 करोड़ की मल निकासी परियोजना के कार्य को शीघ्र शुरू करवाने को कहा। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के लिए 21 करोड़ रुपए की पाइपें खरीदी जा चुकी हैं, लेकिन परियोजना पर कार्य शुरू नहीं हो पाया है। उन्होंने जल शक्ति विभाग के अधिकारियों को तय समय सीमा में परियोजना का कार्य पूरा करने के निर्देश दिए। बंजार में नागरिक अस्पताल के दो खंडों के निर्माण में अनावश्यक विलंब पर असंतोष व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इस भवन का निर्माण कार्य जनवरी, 2022 तक पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने उपायुक्त को जिला की निर्माणाधीन परियोजनाओं की स्वयं निगरानी करने तथा समय-समय पर बैठकें आयोजित करने को कहा ताकि छोटे-छोटे कारणों से निर्माण कार्यों में हो रहे व्यवधान का समाधान किया जा सके।

पूर्व विधायक स्व. चंद्रसेन ठाकुर के घर परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे सीएम

शिमला, कुल्लू। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जिला कुल्लू के दशाल गांव जाकर पूर्व विधायक चंद्र सेन ठाकुर के निधन पर उनकी धर्मपत्नी हरदेई ठाकुर और अन्य शोक संतप्त परिजनों से अपनी संवेदनाएं व्यक्त की। चंद्र सेन ठाकुर का कुछ समय पूर्व निधन हो गया था। इस अवसर पर हरदेई ठाकुर ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को चंद्र सेन ठाकुर द्वारा लिखित पुस्तक भूली बिसरी यादें भेंट की।

 शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर, विधायक सुरेंद्र शौरी, जिला भाजपा अध्यक्ष भीमसेन, महासचिव अखिलेश कपूर, उपायुक्त डा. ऋचा वर्मा और पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित रहे। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को कुल्लू के रघुनाथपुर पहुंचकर पूर्व सांसद महेश्वर सिंह की माता राजमाता यीना देवेश्वरी के निधन पर परिजनों से संवेदनाएं व्यक्त कीं। यीना देवेश्वरी का हाल ही में निधन हो गया था। इस अवसर पर राज्य योजना बोर्ड के सदस्य युवराज बोध, महेश्वर सिंह के पुत्र दानवेंद्र व हितेश्वर सिंह और पूर्व मंत्री दिवंगत कर्ण सिंह के पुत्र आदित्य विक्रम सिंह भी उपस्थित रहे।

नरेंद्र चंचल के निधन पर शोक

शिमला— मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भजन सम्राट नरेंद्र चंचल के निधन पर शोक्त व्यक्त किया है। अस्सी वर्षीय नरेंद्र चंचल का शुक्रवार सुबह नई दिल्ली में निधन हो गया। सीएम ने ईश्वर से दिवंगत की आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिजनों को इस अपूर्णीय क्षति को सहन करने की प्रार्थना की है।