Sunday, March 07, 2021 10:55 PM

शह और मात के खेल में भाजपा फिर आगे, नालागढ़ में एक पार्षद खींचा अपनी तरफ, अब क्या होगा

आरूणि पाठक-नालागढ़ नगर परिषद नालागढ़ में अध्यक्ष पद को लेकर चली खींचतान में शह व मात के खेल में एक बार फिर बाजी भाजपा ने अपने पाले में खींच ली है। कांग्रेस को करारा झटका देते हुए एक पार्षद को अपने पाले में खींचते हुए बहुमत हासिल कर लिया है। कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी को अपनी ओर न केवल खींचा, अपितु भाजपा की सदस्यता भी मुख्यमंत्री के समक्ष ग्रहण करवाई और पांच सालों के लिए अध्यक्ष पद से भी इस पार्षद को नवाजा गया है।

नगर निकाय चुनाव के बाद भाजपा समर्थित पांच पार्षद जीते थे, लेकिन कांग्रेस ने एक पार्षद को अपने पाले में खींच लिया था, जिससे भाजपा फिर से काबिज होने के लिए ऐड़ी चोटी का जोर लगा रही थी और कामयाब भी हुई। जानकारी के अनुसार नगर परिषद नालागढ़ में चले सियासी घटनाक्रम में एक बार फिर से टवीस्ट आया है और अब बाजी एक बार फिर भाजपा के हाथ आई है और परिषद पर भाजपा का कब्जा होगा।

मतदान के बाद निकले परिणामों में भाजपा के पास अपनी पार्टी समर्थित पांच पार्षद थे, जिसमें शालिनी शर्मा, सहर शर्मा, संजीव भारद्वाज, तारा अवस्थी व महेश गौतम थे। जबकि कांग्रेस के पास तीन ही पार्षद थे, जिसमें रीना शर्मा, अल्का वर्मा व अमरिंदर भिंडर जीते, वहीं एक आजाद प्रत्याशी भी जीती। कांग्रेस ने दांव खेलते हुए भाजपा समर्थित पार्षद महेश गौतम को अपने पाले में खींच लिया और एक आजाद प्रत्याशी का भी समर्थन हासिल किया।

इन पांचों के मध्य करार हुआ और अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पदों का बंटवारा भी कर लिया गया था, लेकिन भाजपा ने अपने प्रयास जारी रखे और इसी बीच बाजी मारते हुए कांग्रेस समर्थित पार्षद रीना शर्मा को अपनी ओर न केवल खींचा और पार्टी ज्वाईन करवाई, अपितु आगामी पांच सालों के लिए अध्यक्ष पद देकर भी नवाजा है।

अब भाजपा के पास पांच पार्षद हो गए है, जबकि कांग्रेस के पास चार पार्षद ही रह गए है। हालांकि कांग्रेस अभी भी अपने प्रयास जारी रखे हुए है और भाजपा के चलाए इस दांव को भेदने की फिराक में है। कुल मिलाकर नालागढ़ में चल रहा राजनीतिक घटनाक्रम हर किसी की जुबां पर सर चढ़ कर बोल रहा है।

पूर्व विधायक केएल ठाकुर ने कहा कि भाजपा ने एक बार फिर से सत्ता हासिल कर ली है और पांच सालों के लिए अध्यक्ष का चयन कर लिया गया है और रीना शर्मा ही पांच सालों के लिए अध्यक्ष बनी रहेगी।